संस्करणों
विविध

इस महिला IPS ऑफिसर ने 15 महीने में मार गिराया 16 आतंकवादियों को

असम की पहली महिला IPS अधिकारी संजुक्ता पराशर...

14th Sep 2017
Add to
Shares
9.9k
Comments
Share This
Add to
Shares
9.9k
Comments
Share

असम की आयरन लेडी के नाम से प्रसिद्ध आईपीएस अफ़सर ‘संजुक्ता पराशर’ की बहादुरी काबिले-तारीफ़ है| बचपन से ही पराशर को खेल-कूद में बेहद दिलचस्पी थी और इन्होंने कई पुरस्कार भी अपने नाम किया| अपनी शुरूआती शिक्षा असम में लेने के बाद दिल्ली के इंद्रप्रस्थ महाविद्यालय में दाखिला ले कर इन्होंने राजनीती विज्ञान में स्नातक किया और दिल्ली के प्रतिष्ठित जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय से पीएचडी की|

फोटो साभार: सोशल मीडिया

फोटो साभार: सोशल मीडिया


संजुक्ता पराशर एक ऐसी बहादुर और ईमानदार महिला पुलिस अधिकारी, जिन्होंने असम राज्य में पिछले कई सालों से आतंकवाद के खिलाफ मोर्चा संभाला हुआ है। 15 महीने में 64 से ज्यादा आतंकवादियों को गिरफ्तार कर इस IPS ऑफिसर ने पूरे देश के सामने बहादुरी का एक नया उदाहरण पेश किया है।

अपने देश की रक्षा करना हमारे जीवन के कर्तव्यों में सर्वोपरि है। आज हमारा देश भ्रष्टाचार व आतंकवाद से मुक्त होने के हर संभव प्रयास में लगा हुआ है। पुरुष पुलिस अधिकारी के साथ महिला पुलिस अधिकारी भी अपनी जान की परवाह किये बगैर भारत माँ की रक्षा के लिए सदैव तत्पर रहती हैं। हमारे समाज में कुछ ऐसी महिला पुलिस अधिकारी उभर कर सामने आई हैं, जिन्होंने अपनी बहादुरी और कर्तव्यनिष्ठा का परिचय देते हुए भ्रष्टाचार और आतंकवाद पर नकेल कस रखी है। यहां मिलिए ऐसी ही एक बहादुर और ईमानदार महिला पुलिस अधिकारी से, जिन्होंने असम राज्य में पिछले कई सालों से आतंकवाद के खिलाफ मोर्चा संभाला हुआ है और सिर्फ 15 महीने में ही 64 से ज्यादा आतंकवादियों को गिरफ्तार कर पूरे देश के सामने बहादुरी का एक नया उदाहरण पेश किया है। इतना ही नहीं इस युवा आईपीएस अधिकारी को असम राज्य की पहली महिला आईपीएस अधिकारी होने का गौरव भी प्राप्त है।

असम की आयरन लेडी के नाम से प्रसिद्ध आईपीएस अफ़सरसंजुक्ता पराशर’ की बहादुरी काबिल-ए-तारीफ़ है। बचपन से ही पराशर को खेल-कूद में बेहद दिलचस्पी थी और इन्होंने कई पुरस्कार भी अपने नाम किये। अपनी शुरूआती शिक्षा असम में लेने के बाद दिल्ली के इंद्रप्रस्थ महाविद्यालय में दाखिला ले कर इन्होंने राजनीती विज्ञान में स्नातक किया और दिल्ली के प्रतिष्ठित जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय से पीएचडी की।

फोटो साभार: सोशल मीडिया

फोटो साभार: सोशल मीडिया


यूपीएससी की परीक्षा में पूरे देश भर में 85वां स्थान हासिल कर आईपीएस बनने की ललक को पूरा करते हुए संजुक्ता पराशर वर्ष 2006 बैच की आईपीएस अधिकारी बनीं हैं।

संजुक्ता पराशर स्कूली दिनों से ही अपने राज्य में आतंवादियों व भ्रष्टाचारियों के कहर से बेहद चिंतित थीं, इसलिए उन्होंने अच्छी रैंक लाने के बावजूद भी असम में ही काम कर अपने राज्य की तस्वीर सुधारने का फैसला किया। संजुक्ता की 2008 में पहली पोस्टिंग माकुम में असिस्टेंट कमान्डेंट के तौर पर हुई, लेकिन कुछ ही महीनों के बाद उन्हें उदालगिरी में हुई बोडो और बांग्लादेशियों के बीच की जातीय हिंसा को काबू करने के लिए ट्रान्सफर कर दिया गया। अपने ऑपरेशन के महज़ 15 महीने में ही इन्होंने 16 आतंकियों को मार गिराया और 64 से ज्यादा आतंकियों को अपनी हिरासत में ले लिया। संजुक्ता के काम करने के दबंग अंदाज़ से पूरे राज्य व देश में इनकी बहादुरी के उदाहरण दिए जाते हैं।

संजुक्ता पराशर चार वर्षीय बच्चे की माँ हैं, लेकिन इसके बावजूद भी आतंकियों के छक्के छुड़ाने में माहिर हैं। हाल ही में इन्होंने एक ऑपरेशन चलाया, जिसमे वे खुद एके47 लेकर आतंकियों के खिलाफ़ मोर्चा संभालने मैदान में कूद पड़ीं। पराशर पूरी ईमानदारी के साथ पिछले कई सालों से एंटी-बोडो मिलिटेंट ऑपरेशन्स में अपना भरपूर योगदान दे रही हैं।

फोटो साभार: सोशल मीडिया

फोटो साभार: सोशल मीडिया


संजुक्ता पराशर दो महीने में सिर्फ एक बार ही अपने पति और घरवालों से मिलने के लिए वक़्त निकाल पाती हैं, बाकि के बचा हुआ समय समाज को ही देना पसंद करती हैं।

आतंकियों के बीच संजुक्ता पराशर की ऐसी इमेज बनी हुई है, वे इनके नाम से ही भाग खड़े होते हैं। पराशर अपने समाज को ही अपना पहला परिवार समझती हैं और कई बार वह अपना सारा समय रिलीफ कैंपों में ही व्यतित कर उन लोगों के साथ गुजरना पसंद करती हैं, जो किसी हमले में अपने घर परिवार से बिछड़ चुके हैं। संजुक्ता दो महीने में सिर्फ एक बार ही अपने पति और घरवालों से मिलने के लिए वक़्त निकाल पाती हैं, बाकि के बचा हुआ समय समाज को ही देना पसंद करती हैं।

संजुक्ता पराशर कर्तव्यनिष्ठा, ईमानदारी, धैर्य तथा बहादुरी के साथ हमारे समाज और देश के लिए जो काम कर रही हैं, उसके लिए हमें देश की इस बेटी पर गर्व करना चाहिए। आज हमारे देश को भ्रष्टाचार और आतंक से मुक्त कर विकास के पथ पर आगे बढ़ाने के लिए ऐसे ही कुछ और वीर पुलिस अधिकारियों की आवश्यकता है।

प्रस्तुति: उत्पल आनंद

ये भी पढ़ें: रेप के जुर्म में सजा काट रहे 100 कैदियों का इंटरव्यू लेने वाली मधुमिता

Add to
Shares
9.9k
Comments
Share This
Add to
Shares
9.9k
Comments
Share
Report an issue
Authors

Related Tags