अपने चौबीसों घंटे खुले रहने वाले स्टोर के साथ आधुनिक भारत की सुविधा बनना चाहता है यह रिटेल स्टार्टअप

दिल्ली स्थित द न्यू शॉप (The New Shop) चौबीसों घंटे खुले रहने वाला स्टोर ब्रांड है जो रोजमर्रा की आवश्यक वस्तुओं को बेचता है।
111 CLAPS
0

"देश भर में पड़ोस, रेलवे स्टेशन, बस स्टेशन, महानगर, पेट्रोल पंप और पर्यटन स्थलों पर पाई जाने वाली, द न्यू शॉप किराना, स्नैक्स, रेडी-टू-ईट फूड, बेवरेजेस, डेयरी, कन्फेक्शनरी आइटम, पर्सनल केयर और स्वच्छता प्रोडक्ट्स सहित रोजमर्रा की आवश्यक वस्तुएं बेचती है। यह अनिवार्य रूप से एक रिटेल टेक्नोलॉजी कंपनी है, जो भारत के लिए ग्लोबल चैन 7-इलेवन की तर्ज पर कन्वीनियंस स्टोर की तरह एसेट लाइट का निर्माण करती है।"

महामारी ने हमारे आसपास बहुत सी चीजों को बदल दिया है, जिसमें व्यवसायों के काम करने का तरीका भी शामिल है। दिल्ली स्थित एक सहूलियत स्टोर ब्रांड द न्यू शॉप के लिए, इस बदलती उपभोक्ता जरूरतों ने स्टार्टअप को सफलता की सवारी करने और निवेशकों से शानदार फंडिंग प्राप्त करने में मदद की। मार्च 2019 में भाई और बहन की जोड़ी आस्था अलमस्त और चरक अलमस्त व उनके पारस्परिक मित्र मणि देव ग्यावली द्वारा शुरू की गई, द न्यू शॉप चौबीसों घंटे खुले रहने वाले रिटेल स्टोर की एक चैन है।

देश भर में पड़ोस, रेलवे स्टेशन, बस स्टेशन, महानगर, पेट्रोल पंप और पर्यटन स्थलों पर पाई जाने वाली, द न्यू शॉप किराना, स्नैक्स, रेडी-टू-ईट फूड, बेवरेजेस, डेयरी, कन्फेक्शनरी आइटम, पर्सनल केयर और स्वच्छता प्रोडक्ट्स सहित रोजमर्रा की आवश्यक वस्तुएं बेचती है। यह अनिवार्य रूप से एक रिटेल टेक्नोलॉजी कंपनी है, जो भारत के लिए ग्लोबल चैन 7-इलेवन की तर्ज पर कन्वीनियंस स्टोर की तरह एसेट लाइट का निर्माण करती है। एक्सलेरेट प्रोडक्टएक्स वेंट प्राइवेट लिमिटेड (Accelerate Productx Vent Pvt ltd) द्वारा संचालित और स्वामित्व वाली द न्यू शॉप का लक्ष्य एक कन्वीनियंस स्टोर ब्रांड बनना है जो हर किसी के लिए वॉकिंग डिस्टेंस के भीतर उपलब्ध हो।

35 वर्षीय सह-संस्थापक आस्था अलमस्त का कहना है,

“भारत दुनिया का सबसे युवा देश और तीसरा सबसे बड़ा उपभोक्ता बाजार है। नए व्यस्त और आधुनिक भारत को हर मोड़ पर किफायती कीमतों पर और चौबीसों घंटे देश भर में मानकीकृत और स्वच्छ खुदरा सेवाओं की आवश्यकता है।”

कहानी

एक छोटी सफलता के बाद, द न्यू शॉप के संचालन को कुछ समय के लिए रोक दिया गया था, और अब यह फिर से विकास की ओर बढ़ रहा है। सभी सह-संस्थापक सीरियल उद्यमी हैं, और द न्यू शॉप उनका तीसरा उद्यम है। उनका अंतिम स्टार्टअप खुदरा विक्रेताओं पर केंद्रित एक ऑनलाइन प्रतिष्ठा प्रबंधन मंच था, जिसे 2017 में उनके एक क्लाइंट ने खरीदा था। उसके बाद, तीनों ने अपने पिछले खुदरा और प्रत्यक्ष बिक्री ग्राहकों के लिए प्रोडक्ट सोर्सिंग पर एक साथ काम किया।

28 वर्षीय चरक कहते हैं,

“हमने एफएमसीजी रिटेलर्स और डायरेक्ट सेलिंग कंपनियों जैसे पटेल ब्रदर्स, वॉलमार्ट, कॉस्टको, सैम्स क्लब, क्यूनेट, वेस्टीज, एमवे, हल्दीराम, बीकानेरवाला, आदि के लिए 'मेड इन इंडिया' प्रोडक्ट की बिक्री की। हमने ढाई साल में 2.5 मिलियन डॉलर की जीएमवी (Gross merchandise volume) देखी।”

इस अनुभव ने उन्हें सिखाया कि दुनिया के कुछ सबसे बड़े खुदरा विक्रेताओं के यहां सप्लाई चैन, ऑपरेशन्स, प्रोडक्ट प्राइसिंग और पैकेजिंग कैसे काम करते हैं, और यह भी कि खुदरा क्षेत्र को प्रौद्योगिकी और व्यवसाय मॉडल इनोवेशन की आवश्यकता है। इसी समय उन्हें द न्यू शॉप का आइडिया आया। तीनों ने कन्वीनियंस रिटेल स्टोर के आइडिया के साथ शुरुआत करने का फैसला किया, और कॉन्सेप्ट का परीक्षण करने के लिए विचार मंच पर मार्च 2019 में 220,000 डॉलर की एंजेल फंडिंग जुटाई।

29 वर्षीय मणि देव ग्यावली कहते हैं,

"हम स्टोर के आइडियल साइज के लिए और स्टोर के विस्तार के लिए आइडियल लोकेशन का परीक्षण करना चाहते थे। हमने तीन स्टोर साइज की पहचान की - छोटे (10 वर्ग फुट), मध्यम (50 वर्ग फुट), और बड़े (100-150 वर्ग फुट)।"

कंपनी ने इनमें से प्रत्येक स्टोर साइज को सात लोकेशन कैटेगरीज जैसे शैक्षणिक संस्थानों, ऑफिसेज और को-वर्किंग स्पेस, होटल, जिम, आवासीय परिसरों, हॉस्टलों और रेलवे स्टेशनों पर परीक्षण किया। उन्होंने ऐसे प्रोडक्ट मिक्स के साथ प्रयोग किया, जो उस वातावरण में अपनी स्वीकृति प्राप्त करने के लिए अधिक भारतीय विकल्पों को बढ़ावा देने के लिए हों जहाँ लोगों को उन उत्पादों की आवश्यकता होती है। और इसने उनके लिए अच्छा काम किया।

आस्था कहती हैं,

"जनवरी 2020 तक, हम सभी साइज के 100 से अधिक स्टोरों तक बढ़े और यहां तक कि विस्तार के लिए भारतीय रेलवे के साथ साझेदारी की।" इसने उन्हें अन्य स्थानों जैसे कि राजमार्ग, पेट्रोल पंप और बस स्टेशनों पर भी विस्तारित करने के लिए प्रेरित किया।

द कोविड कर्व

आस्था का कहना है कि मार्च 2020 तक, कंपनी के पास प्रत्येक लोकेशन कैटेगरीज और स्केलेबिलिटी के लिए संभावित मॉडल और युनिट इकॉमिक्स पर पर्याप्त डेटा था, और स्टार्टअप 18-20 प्रतिशत का शुद्ध सकल मार्जिन देख रहा था। लेकिन जब कंपनी विकास के चरम पर थी, तो महामारी ने इसे जोर का झटका दिया, और इसके सभी पारंपरिक स्टोरों को चलकर आने वाले ग्राहकों के लिए दरवाजे बंद करने पड़े।

आस्था कहती हैं, ''लेकिन एक तथ्य जो सामने आया वह यह था कि हम पहले से ही ओमनीचैनल रिटेल के लिए टेक्नोलॉजी का निर्माण कर रहे थे, जिसे तब निष्पादित किया जाना था जब हम बड़े पैमाने पर विस्तार कर लेते।"

टीम ने अपने तकनीकी समाधान को तेज किया जो एक केंद्रीकृत ब्लॉकचेन पर बनाया गया है और एंड-टू-एंड इन्वेंट्री मैनेजमेंट पोर्टल को सक्षम करता है, जिससे टीम को एक ओमनी-चैनल तरीके से संचालित करने में मदद मिली। COVID-19 महामारी के बीच, कंपनी ने अपने सभी स्टोरों को ईकॉमर्स पूर्ति के लिए डार्क स्टोर्स के रूप में बदल दिया और कंपनी सर्वाइव कर गई।

चरक कहते हैं, ''इन-बिल्ट तकनीक की मदद से हमारे स्टोर को ऑनलाइन लाने से हमें अपने स्टोर के रेवेन्यू को 10 गुना तक बढ़ाने में मदद मिली।'' उसी समय, कंपनी ने जरूरतों को पूरा करने और लॉकडाउन अवधि के दौरान आवश्यक वस्तुएं वितरित करने के लिए 24 घंटे के लिए परिचालन शुरू किया।

दिल्ली के आनंद विहार रेलवे स्टेशन स्थित The New Shop स्टोर

आस्था कहती हैं, ''हमने हर मोड़ पर अपने स्टोर का आकार औसतन 800 वर्ग फुट और रिहायशी इलाकों में 400 वर्ग फीट तक बढ़ा दिया है।" वह कहती हैं कि द न्यू शॉप की डंजो, स्विगी, जोमाटो, पेटीएम और खुद के ऑनलाइन डिलीवरी प्लेटफॉर्म के माध्यम से एक सर्वव्यापी उपस्थिति है। वर्तमान में, द न्यू शॉप 15 लोगों की टीम के साथ 10 स्टोर चला रहा है।

आस्था कहती हैं, ''हम रियल एस्टेट कंपनियों, भारतीय रेलवे, पेट्रोल पंप एसोसिएशन और कई अन्य कंपनियों के साथ साझेदारी करके हर महीने सात-10 नए स्टोर खोलने की राह पर हैं।"

विकास, मेक इन इंडिया और राजस्व

आस्था का कहना है कि द न्यू शॉप भारतीय ब्रांडों के लिए खड़ी है और पीएम नरेंद्र मोदी के आत्मनिर्भर भारत व वोकल फॉर लोकल का समर्थन करती है। आस्था का दावा है, "वर्तमान में हम 75-80 ब्रांडों में 2,000 SKU से अधिक की खुदरा बिक्री कर रहे हैं, और इसके उत्पाद मिश्रण का 80 प्रतिशत मेड इन इंडिया है और इसमें केवल 20 प्रतिशत MNC/विदेशी ब्रांड हैं।"

वह कहती हैं कि कंपनी भारतीय ब्रांडों को बढ़ावा देने के लिए भारत सरकार के साथ मिलकर काम कर रही है। द न्यू शॉप अपने स्टोरों पर माल की बिक्री से पैसा कमाती है और एक परिवर्तनीय लागत मॉडल पर काम करती है जहां यह ब्रांडों के साथ उच्च मार्जिन पर काम करती है और इसकी सभी परिचालन लागत उस मार्जिन के कुछ प्रतिशत से निकलती है। वर्तमान में, इसके सभी 10 स्टोर प्रति माह 15 लाख रुपये से 30 लाख रुपये प्रति माह के बीच औसत राजस्व कमाते हैं और यूनिट इकनॉमिक्स स्तर पर लाभदायक हैं।

फंडिंग और योजनाएं

द न्यू शॉप ने दो राउंड में 920,000 डॉलर की फंडिंग जुटाई है, जिसमें 9 युनिकॉर्न फंड में भागीदार अभिजीत पाई; हसल में जनरल पार्टनर श्रीराम रेड्डी वांगा; अमेरिकी शार्क केविन हैरिंगटन; हडल एक्सीलेटर; एंथिल वेंचर्स; एंजललिस्ट इंडिया; लेट्स वेंचर; और विभिन्न एच.एन.आई. जैसे निवेशक शामिल हैं। आस्था का कहना है कि फंडिंग के आखिरी राउंड के दौरान, जो नवंबर 2020 में क्लोज हुई थी, कंपनी 500,000 डॉलर जुटाने वाली थी, लेकिन वह राउंड ओवरसब्सक्राइब्ड हो गया और फंडिंग बढ़कर 700,000 डॉलर हो गई।

अब, द न्यू शॉप अपनी विस्तार योजनाओं का समर्थन करने के लिए अगले छह महीनों में फंडिंग का एक और राउंड जुटाने की कोशिश कर रही है। यह अगले 12 महीनों में पांच शहरों में 100 स्टोर खोलने, अपनी टीम का विस्तार करने और प्रौद्योगिकी का निर्माण करने की भी तलाश कर रहा है। आस्था का कहना है कि कोरोनवायरस ने रियल एस्टेट बाजार को नकारात्मक रूप से प्रभावित किया है, जो द न्यू शॉप जैसी तेजी से बढ़ती खुदरा कंपनी के लिए एक वरदान है।

वे कहती हैं,

"हम उतना ही रियल स्टेट पर कब्जा करना चाहते हैं, जितना कि वह हमारे पक्ष में है। हमारी स्केलिबिटी बहुत कम पूंजीगत व्यय और टेक से आती है। अगले दौर की फंडिंग के साथ, हम खुदरा क्षेत्र की सभी जटिलताओं को हल करने और लैंड बैंक बनाने के लिए अपनी तकनीक को और विकसित करेंगे। हम अपनी टीम बनाएंगे और अपने ब्रांड पोर्टफोलियो का विस्तार करेंगे, जिसमें हमारे उपभोक्ताओं के लिए अधिक क्यूरेटेड और प्रासंगिक उत्पाद होंगे।"

बाजार और प्रतियोगिता

वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम की एक रिपोर्ट के अनुसार, रिटेल भारत में 1.3 ट्रिलियन डॉलर मार्केट है, जिसमें भारत 2030 तक 6 ट्रिलियन डॉलर तक पहुंचने के लिए उपभोक्ता मांग के अनुमानित आकार के साथ तीसरा सबसे बड़ा उपभोक्ता बाजार है।

न्यू शॉप का फोकस सेगमेंट ट्रांजिट रिटेल है, जो कंसल्टेंसी फर्म नाइट फ्रैंक के मुताबिक 2030 तक 22 बिलियन डॉलर होने का अनुमान है। कंपनी 24Seven और 7-Eleven जैसों के साथ प्रतिस्पर्धा करती है, लेकिन आस्था का कहना है कि ऐसी कोई चैन नहीं है जिसकी भारत भर में मौजूदगी हो।

वे कहती हैं, "द न्यू शॉप का मुख्य ध्यान ऑर्गनाइज्ड कन्वीनियंस रिटेल ऑफरिंग को जनता तक ले जाना है और इसलिए हमारे लोकेशन सेगमेंट हर मोड़ और आवासीय क्षेत्र पर हैं।" आस्था कहती हैं कि खुदरा क्षेत्र असंगठित है, और कंपनी कन्वीनियंस रिटेल में समेकन और मानकीकरण लाना चाहती है।

Edited by Ranjana Tripathi

Latest

Updates from around the world