कोलकाता के दो छात्रों ने बनाई एक ऐसी डिवाइस जो सिर्फ खांसने से बता देगी, आपको कोरोना है या नहीं!

By भाषा पीटीआई
April 28, 2020, Updated on : Tue Apr 28 2020 14:01:30 GMT+0000
कोलकाता के दो छात्रों ने बनाई एक ऐसी डिवाइस जो सिर्फ खांसने से बता देगी, आपको कोरोना है या नहीं!
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

दो छात्रों ने ऐसा उपकरण बनाया है जो खाँसने वाले व्यक्ति के बारे में कोरोना संबंधी संभावित जानकारी देगा।

सांकेतिक चित्र

सांकेतिक चित्र



कोलकाता, यादवपुर विश्वविद्यालय के दो विद्यार्थियों ने एक ऐसा उपकरण विकसित किया है जो खांसने वाले व्यक्ति के कोरोना वायरस वाहक होने के संबंध में विश्लेषण कर सकेगा।


विश्वविद्यालय के नवोन्मेष परिषद के एक शिक्षक ने मंगलवार को कहा कि इलेक्ट्रॉनिक्स एवं टेलिकम्युनिकेशन इंजीनियरिंग विभाग के स्नातक के दो विद्यार्थियों ने एक ऐसा उपकरण विकसित किया है जो खांस रहे व्यक्ति का पता लगाएगा और यह विश्लेषण करेगा कि क्या व्यक्ति कोरोना वायरस का संभावित मरीज हो सकता है।


इस उपकरण का इस्तेमाल कोविड-19 के पहले स्तर के जांच के रूप में किया जा सकता है क्योंकि यह उपलब्ध आंकड़ों के तहत कोविड-19 के वाहक का पता लगाएगा जिससे इस वायरस के रोकथाम में मदद मिलेगी।


इस गैर-संपर्क उपकरण में तस्वीर और आवाज वाले सेंसर लगे हुए हैं। अगर कोई व्यक्ति इस उपकरण से दूर भी है तो यह काम करेगा और एक ही समय पर खांस रहे कई लोगों की पहचान कर सकता है। इस उपकरण का इस्तेमाल कार्यालय, कक्षा सहित अन्य जमावड़े वाले अन्य स्थानों पर किया जा सकता है।


शिक्षक ने बताया कि इस उपकरण का इस्तेमाल सार्वजनिक स्थलों पर कोविड-19 के संदिग्ध का पता लगाने के लिए ड्रोन में भी किया जा सकता है।


अन्येसा बनर्जी और अचल निल्हानी ने इस उपकरण का निर्माण प्रोफेसर पी वेंकटेश्वरन के मार्गदर्शन में किया है। भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद, कोलकाता और कोविड-19 मरीजों का इलाज कर रहे डॉक्टरों ने भी इस उपकरण को लेकर सकारात्मक रुख दिखाया है।