घरवालों के विरोध के बावजूद 17 साल की इस लड़की ने शुरू किया ब्यूटी बिजनेस, महामारी में भी रहीं सफल

ये कहानी है मुंबई की रहने वाली दिव्या पेरियासामी आचार्य की, जिन्होंने सभी बाधाओं को पार किया और अपना ब्यूटी पार्लर खोला।
11 CLAPS
0

मुंबई में पली-बढ़ी, मैं हमेशा से ब्यूटी इंडस्ट्री में काम करना चाहती थी। लेकिन, एक रूढ़िवादी परिवार से होने के कारण, मुझे इस सपने को पूरा करना मुश्किल लग रहा था क्योंकि मेरा परिवार इस विचार के बिल्कुल खिलाफ था।

2018 में, मैंने Salaam Bombay Foundation के skills@school में स्किलिंग प्रोग्राम्स के बारे में सुना, और उनके ब्यूटी एण्ड वेलनेस प्रोग्राम के लिए साइन अप किया। कोर्स के दौरान, मैंने एक ब्यूटी पार्लर में भी इंटर्नशिप की, जिससे मुझे अलग-अलग ब्यूटी सर्विसेज में बेसिक ट्रेनिंग प्राप्त करने में मदद मिली।

कोर्स पूरा करने के बाद, मैं अपने घर पर अपना ब्यूटी पार्लर खोलने में कामयाब रही और इसका नाम 'Divya’s Beauty Parlour' रखा। पार्लर में, मैं फेसियल, मैनीक्योर, पेडीक्योर, मेकअप, मेहंदी कला आदि सहित कई तरह की ब्यूटी सर्विसेज देती थी।

हालाँकि, महामारी के चलते लगाए गए लॉकडाउन के कारण इस पार्लर को चलाने में मैं असमर्थ थी। इसके अलावा, सोशल डिस्टेंसिंग और COVID-19 महामारी की अनिश्चितता के साथ चीजें और भी कठिन हो गईं।

इसके अलावा, एक 17 वर्षीय होने के नाते, मेरे लिए स्वयं को बेहतर बनाने के लिए किसी भी प्रासंगिक सरकारी योजनाओं तक पहुंचना कठिन था, क्योंकि स्किल डेवलपमेंट और आंत्रप्रेन्योरशिप से संबंधित सभी कोर्सेज और स्किम्स में 18 वर्ष से ऊपर के युवाओं को लक्षित किया गया था।

सौभाग्य से, मुझे SBF का एक दूसरा प्रोग्राम 'Entrepreneurship Incubator for Grassroot Adolescents' मिला, जिसका उद्देश्य 16-20 वर्ष के आयु वर्ग के किशोरों की मदद करना है।

मुझे इस प्रोग्राम के पायलट बैच का हिस्सा बनने का सौभाग्य प्राप्त हुआ। एक बार जब मैंने खुद को एनरोल कर लिया, तो मुझे नए बिजनेस कॉन्सेप्ट्स से परिचित कराया गया और बजट, ग्राहक दृष्टिकोण, खरीदे गए प्रोडक्ट्स और प्रदान की गई सेवाओं के रिकॉर्ड बनाए रखने जैसे उपयोगी कौशल सीखे।

मैंने यह भी सीखा कि इंस्टाग्राम जैसे सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म का उपयोग कैसे किया जाता है, जिसके माध्यम से मैं एक अकाउंट बनाने और ब्यूटी से संबंधित कुछ काम दिखाने में सक्षम थी जो मैंने पहले किया था।

इसके अलावा, Canva जैसे सरल डिजाइनिंग ऐप की शुरुआत के साथ, मैं अपने सोशल मीडिया प्रोफाइल के लिए पोस्टर और क्रिएटिव डिजाइन कर सकती थी।

अब ब्यूटी पार्लर के साथ-साथ मैं अपना हेयर ऑयल भी बना रही हूं। मैंने एक बोर्ड तैयार किया है - मेरे नाम और मेरे द्वारा दी जाने वाली सेवाओं का उल्लेख करते हुए - और इसे अपने घर के सामने लगाया है।

ब्यूटीशियन बनने के अपने सपने को पूरा करने में मुझे अपने परिवार के बहुत विरोध का सामना करना पड़ा, लेकिन आज वे यह देखकर खुश हैं कि मेरी सारी मेहनत रंग लाई है।

आने वाले वर्षों में, मैं एक फुल-टाइम ब्यूटीशियन बनना चाहती हूं और अपना खुद का स्टूडियो शुरू करना चाहती हूं, जहां मैं अपनी उम्र के अधिक लोगों को रोजगार देकर और अधिक सशक्त बना सकूं।

(अंग्रेजी से अनुवाद: रविकांत पारीक)