संस्करणों

भारत में निवेश बढ़ाने के लिये जापान का 83,000 करोड़ रु. का ‘मेक इन इंडिया’ कोष

योरस्टोरी टीम हिन्दी
13th Dec 2015
  • Share Icon
  • Facebook Icon
  • Twitter Icon
  • LinkedIn Icon
  • Reddit Icon
  • WhatsApp Icon
Share on


भारत के साथ द्विपक्षीय सहयोग बढ़ाने पर जोर देते हुये जापान ने 1,500 अरब युआन :करीब 83,000 करोड़ रपये: का ‘मेक इन इंडिया’ कोष स्थापित किया है जबकि भारत ने ‘जापान औद्योगिक शहर’ में निवेश आकर्षित करने के लिये एक विशेष प्रोत्साहन पैकेज लाने का वादा किया है।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 1,500 अरब युआन की विशेष मेक इन इंडिया वित्त सुविधा का स्वागत किया है। यह वित्त सुविधा निपॉन एक्सपोर्ट एण्ड इनवेस्टमेंट इंश्योरेंस और जापान बैंक फॉर इंटरनेशनल कॉपोरेशन द्वारा की गई है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे के बीच बैठक के बाद जारी संयुक्त वक्तव्य में यह कहा गया है।

image


इस वित्त सुविधा का मकसद जापान से भारत में प्रत्यक्ष निवेश को बढ़ावा देना है। इसके साथ ही उनके भारत में भागीदारों के साथ व्यावसायिक गतिविधियों को समर्थन देना भी है। इसमें जरूरी ढांचागत सुविधाओं के विकास और मेक इन इंडिया में मदद करना है।

संयुक्त वक्तव्य में कहा गया है कि प्रधानमंत्री आबे ने वित्तीय क्षेत्र सहित अन्य क्षेत्रों में सुधार उपायों को आगे बढ़ाने की अपनी उम्मीद जताई है।

इसमें कहा गया है कि दोनों प्रधानमंत्रियों ने मेक-इन-इंडिया नीति के तहत आपसी सहयोग को और गहरा बनाने का फैसला किया है।

दोनों पक्षों ने जापान औद्योगिक शहर को विकसित करने की अपनी मंशा को फिर से जताया है। इसमें आने वाली कंपनियों को निवेश प्रोत्साहन भी दिया जायेगा। यह प्रोत्साहन सेज जैसे मौजूदा नीतिगत प्रारूप में दिये जाने वाले प्रोत्साहन से कम नहीं होगा।

वक्तव्य में कहा गया है, ‘‘इसके अलावा दोनों पक्ष भारत में जापानी औद्योगिक शहर में जापानी निवेश को आकषिर्त करने के लिये विशेष पैकेज तैयार करने की दिशा में काम करेंगे।’’


पीटीआई

  • Share Icon
  • Facebook Icon
  • Twitter Icon
  • LinkedIn Icon
  • Reddit Icon
  • WhatsApp Icon
Share on
Report an issue
Authors

Related Tags

Latest Stories

हमारे दैनिक समाचार पत्र के लिए साइन अप करें