महिलाएँ क्यों छोड़ देती हैं इंजीनियरिंग पेशा..

    16th Jun 2016
    • +0
    Share on
    close
    • +0
    Share on
    close
    Share on
    close

    इंजीनियर बनने के सपने के साथ कॉलेजों में दाखिला लेने वाली महिलाएंँ पुरूषों की तुलना में कम ही इस पेशे में बनी रह पाती हैं, क्योंकि खासकर इंटर्नशिप या टीम आधारित शैक्षिक गतिविधियों के दौरान वह खुद को पृथक महसूस करने लगती हैं। 

    अनुसंधानकर्ताओं ने कहा है कि ऐसी स्थितियों में लिंग के आधार पर देखें तो पता चलता है कि सबसे चुनौतीपूर्ण कामों में पुरूषों को लगाया जाता है, जबकि महिलाओं को सामान्य कार्य और साधारण प्रबंधकीय जिम्मेदारियां सौंपी जाती हैं।

    image


    लोगों ने बताया कि टीम आधारित कार्य परियोजनाओं के दौरान भी ऐसा होता है और इस कारण ये पेशा उन्हें बहुत अधिक प्रभावित नहीं करता।अमेरिका के मैसाचुसेट्स इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (एमआईटी)की सुसान सिल्बे ने बताया, ‘‘इसमें निकलकर सामने आया है कि लिंग से बहुत अधिक अंतर पैदा हो जाता है। यह एक सांस्कृतिक घटना है।’’ परिणामस्वरूप बहुत अधिक महत्वाकांक्षा के साथ पेशे में आयी महिलाओं का इन अनुभवों के कारण पेशे से मोहभंग हो जाता है।

    अनुसंधानकर्ताओं ने बताया कि इंजीनियर स्नातक की कुल 20 प्रतिशत डिग्री महिलाओं को मिलती है लेकिन केवल 13 प्रतिशत महिलाएं ही इस पेशे में बनी रह पाती हैं। इस अध्ययन का प्रकाशन वर्क एंड ऑक्यूपेशन्स जर्नल में हुआ है। (पीटीआई )

    • +0
    Share on
    close
    • +0
    Share on
    close
    Share on
    close
    Report an issue
    Authors

    Related Tags

      Latest

      Updates from around the world

      Our Partner Events

      Hustle across India