संस्करणों

100 यंग ग्‍लोबल लीडर्स 2017 की लिस्‍ट में 5 भारतीय

पेटीएम के फाउंडर एंड सीईओ विजय शेखर शर्मा और टमारा हॉस्पिटैलिटी की श्रुति शिबुलाल सहित 5 भारतियों ने वर्ल्‍ड इकॉनामिक फोरम की 100 यंग ग्‍लोबल लीडर्स की लिस्‍ट में बनाई अपनी एक खास जगह।

yourstory हिन्दी
20th Mar 2017
Add to
Shares
2
Comments
Share This
Add to
Shares
2
Comments
Share

100 यंग ग्‍लोबल लीडर्स 2017 की लिस्‍ट में दक्षिण एशिया के नौ लोगों को जगह मिली है, जिनमें पांच भारतीय हैं। इस सूची में अमेरिका और यूरोप में रह रहे भारतीय मूल के कुछ और लोग भी जगह बनाने में सफल हुए हैं। डब्ल्यूईएफ हर साल दुनिया के उन 100 यंग ग्लोबल लीडर्स को चुनता है, जिनकी उम्र 40 साल से कम होती है और जो अपने नये नज़रिये से दुनिया की सबसे कठिन चुनौतियों का सामना कर रहे होते हैं।

बाएं से दाएं: रित्विका भट्टाचार्य अग्रवाल, श्रुति शिबूलाल, अंबरीश मित्रा,  हिंडोल सेनगुप्ता और विजय शेखर शर्मा

बाएं से दाएं: रित्विका भट्टाचार्य अग्रवाल, श्रुति शिबूलाल, अंबरीश मित्रा,  हिंडोल सेनगुप्ता और विजय शेखर शर्मा


यंग ग्लोबल लीडर फोरम वर्ल्ड इकॉनमिक फोरम के साथ मिल कर लोगों के सामाजिक जीवन को बेहतर बनाने के लिए काम करता है। इस फोरम में 40 साल से कम उम्र के 100 लोग लगभग 40 देशों से शामिल किए आते हैं।

डब्ल्यूईएफ की 100 यंग ग्लोबल लीडर्स की सूची में पांच भारतीयों ने भी अपनी जगह बनाई है, जिनमें पेटीएम के संस्थापक व सीईओ विजय शेखर शर्मा, द तमारा हॉस्पिटैलिटी की श्रुति शिबूलाल, फार्चून इंडिया के संपादक हिंडोल सेनगुप्ता, ब्लिपर के संस्थापक व सीईओ अंबरीश मित्रा, स्वानिती इनीशिएटिव की रित्विका भट्टाचार्य अग्रवाल हैं। यंग ग्लोबल लीडर लिस्ट में नाम आने पर ब्लिपर के संस्थापक व सीईओ अंबरीश मित्रा का कहना है, कि "मैं यंग ग्लोबल लीडर्स के ग्रुप में शामिल होकर गौरवान्वित महसूस कर रहा हूं, साथ ही मैं अपने साथियों के साथ मिल कर ग्लोबल फ्यूचर के लिए काम करने को लेकर भी उत्साहित हूं। यह एक बेहतरीन मौका है, जिसकी मदद से यंग ग्लोबल लीडर्स और वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम के साथ मिलकर ऐसा समाज बनाने का सपना पूरा कर पाऊंगा जहां शिक्षा सबके लिए बराबर और मुफ्त हो।मित्रा के नेतृत्व वाली ब्लिपर एक मोबाइल एप कंपनी है, जिसका कारोबार डेढ़ अरब डॉलर का है।

यंग ग्लोबल लीडर 2017 की सूची में पब्लिक सेक्टर से अजा ब्राउन को शामिल किया गया है। वे कैलिफोर्निया के कांप्टन की सबसे युवा मेयर हैं। दुनियाभर में एप्पल के महात्वाकांक्षी क्लीन एनर्जी प्रोग्राम का नेतृत्व करने वाली केटी हिल को भी इस सूची में स्थान मिला है। साथ ही इस लिस्ट में जीनोम एडिटिंग पर काम करने वाले विश्व के दो शीर्ष वैज्ञानिकों के भी नाम हैं, जिनमें ई-जेनेसिस बायोसाइंसेज के प्रमुख वैज्ञानिक लुहान यांग और एमआइटी और हार्वर्ड के बोर्ड के सदस्य फेंग झांग भी शामिल हैं।

100 यंग ग्लोबल लीडर्स की सूची में पांच भारतीयों को मिला कर दक्षिण एशिया से कुल नौ लोगों को जगह मिली है। इस सूची में अमेरिका और यूरोप में रह रहे भारतीय मूल के कुछ और लोगों को भी स्थान मिला है। डब्ल्यूईएफ हर साल दुनिया के 100 यंग ग्लोबल लीडर्स का चयन करता है। इनकी उम्र 40 साल से कम होती है। इनमें ऐसे लोगों को चुना जाता है, जो नये नजरिये के साथ दुनिया की सबसे कठिन चुनौतियों का सामना करने में सफल रहे हों। पेटीएम के फाउंडर एंड सीईओ विजय शेखर शर्मा ने इस बात का भी खुलासा किया है, कि "पेटीएम मार्च के अंत तक देश में पेमेंट बैंक का परिचालन शुरू करने वाला है।" उनके अनुसार, पेमेंट बैंक उन लाखों लोगों को बैंकिंग सेवा उपलब्ध कराने पर केंद्रित होगा, जो अब तक इससे वंचित रहे हैं। हॉस्पिटैलिटी वेंचर द तमारा की मुखिया श्रुति इंफोसिस के सह-संस्थापक एसडी शिबूलाल की बेटी हैं। तमारा बेंगलुरु और केरल में अपने काम को बेहतरीन तरीके से कर रहा है।

इस साल 100 यंग ग्लोबल लीडर्स की सूची में आधे से ज्यादा लोग उभरती अर्थव्यवस्थाओं में से हैं, जो कि ग्लोबल लीडरशिप में बढ़ती विविधता के रुझान की ओर इशारा करता है। इस सूची में आधे लोग बिजनेस तो आधे नॉट-फॉर-प्रॉफिट सेक्टर से हैं। ये वे लोग हैं, जिन्होंने अपने काम को बेहतरीन तरीके से करते हुए लोगों के जीवन में बदलाव लाने का सफल काम भी किया है।

ये भी पढ़ें,

31 मार्च से पहले पेटीएम शुरू करेगा पेमेंट बैंक
Add to
Shares
2
Comments
Share This
Add to
Shares
2
Comments
Share
Report an issue
Authors

Related Tags

Latest Stories

हमारे दैनिक समाचार पत्र के लिए साइन अप करें