संस्करणों
विविध

भारतीय फॉर्म्यूला वन रेसर महावीर रघुनाथन ने जीता यूरोपीय रेसिंग का खिताब

5th Oct 2017
Add to
Shares
29
Comments
Share This
Add to
Shares
29
Comments
Share

महावीर का यह सीजन बेहद शानदार रहा है। उन्होंने सातों राउंड में शीर्ष-3 में जगह बनाई है। उन्होंने रविवार को अपनी पहली रेस की मंजिल तय की। दूसरी रेस में भाग्य ने उनका साथ दिया।

रेस के बाद महावीर (बीच में) फोटो साभार- फेसबुक वॉल

रेस के बाद महावीर (बीच में) फोटो साभार- फेसबुक वॉल


महावीर रघुनाथन ने इससे पहले शानदार प्रदर्शन करते हुए नीदरलैंड के जैंडवूर्ट में बोस ग्रां प्री सीरीज के दूसरी रेस में भी पोडियम में जगह बनाई थी। चेन्नई के इस 18 साल के ड्राइवर ने मौजूदा सत्र में लगातार चौथी बार पोडियम पर जगह बनाई थी। 

महावीर ने कार्टिंग से मोटरस्पोर्ट की शुरुआत की थी। 2012 में जेके रेसिंग एशिया सीरीज में भाग लेने के बाद वह फॉर्म्यूला कार के लिए ग्रैजुएट हो गए थे। 2013 में उन्होंने एमआरएफ चैलेंज फॉर्म्यूला 1600 में रेस लगाई थी। 

भारतीय एफवन रेसर महावीर रघुनाथन ने रविवार को इटली के इमोला में आयोजित हुई यूरोपीय रेसिंग चैंपियनशिप जीत ली है। इसी के साथ वह यह रेस जीतने वाले पहले भारतीय बन गए। उन्होंने यहां प्रतिष्ठित बास ग्रांड प्री चैंपियनशिप (फार्मूला वर्ग) की अंतिम दो रेस जीती। समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक दुनिया भर के 20 रेसर के बीच चेन्नई के 19 साल के महावीर ने सात राउंड में 263 अंक के साथ खिताब जीता। इस रेस में ऑस्ट्रिया के योहान लेडेरमेयर 247 अंक के साथ दूसरे जबकि इटली के सल्वाटोर डि प्लानो 243 अंक के साथ तीसरे स्थान पर रहे। कोलोनी मोटरस्पोर्ट की पीएस रेसिंग की ओर से उतरने वाले महावीर ने सभी सातों राउंड में पोडियम पर जगह बनाई।

महावीर का यह सीजन बेहद शानदार रहा है। उन्होंने सातों राउंड में शीर्ष-3 में जगह बनाई है। उन्होंने रविवार को अपनी पहली रेस की मंजिल तय की। दूसरी रेस में भाग्य ने उनका साथ दिया। उनके मुख्य प्रतिद्वंद्वी इटली के सालवाटोरे दे प्लानो (एमएम इंटरनेशनल स्पोर्ट) ने चौथे लेप में अपने आप को रेस से बाहर कर लिया था। दे प्लानो 243 अंकों के साथ तीसरे स्थान पर रहे। दूसरे स्थान पर आस्ट्रिया के जोहान लेडेरेमाइर रहे। उन्होंने रेस में 247 अंक हासिल किए।

इस चैंपियनशिप को जीतने के बाद महावीर रघुनाथन ने कहा, 'इसमें काफी आनंद आया। मैं पी1 हासिल कर सका और फिर चैम्पियनशिप जीत सका, इस बात से मैं बेहद खुश हूं। यह शानदार है। इससे मेरे आत्मविश्वास में इजाफा होगा। मैं अपनी टीम कोलोनी मोटरस्पोर्ट की पीएस रेसिंग को दिल से शुक्रिया कहना चाहता हूं।' कार्टिग में रेस की बारीकियां सीखने के बाद महावीर ने 2012 में फॉर्मूला का रुख किया और पहली बार जेके एशिया रेसिंग सीरीज में कदम रखा। उन्होंने 2013 में एमआरएफ फॉर्मूला 1600 में शिरकत की। चानी फॉर्मूला मास्टर्स की तीन रेसों में भी उन्होंने हिस्सा लिया।

महावीर रघुनाथन ने इससे पहले शानदार प्रदर्शन करते हुए नीदरलैंड के जैंडवूर्ट में बोस ग्रां प्री सीरीज के दूसरी रेस में भी पोडियम में जगह बनाई थी। चेन्नई के इस 18 साल के ड्राइवर ने मौजूदा सत्र में लगातार चौथी बार पोडियम पर जगह बनाई थी। महावीर उस रेस में दूसरे स्थान पर रहे। उससे पहले पहली रेस में भी वह दूसरे स्थान पर रहे थे। महावीर इटली की टीम कोलोनी मोटरस्पोर्ट का प्रतिनिधित्व करते हैं। उनकी टीम 84 अंक के साथ दूसरे स्थान पर चल रही है।

महावीर ने कार्टिंग से मोटरस्पोर्ट की शुरुआत की थी। 2012 में जेके रेसिंग एशिया सीरीज में भाग लेने के बाद वह फॉर्म्यूला कार के लिए ग्रैजुएट हो गए थे। 2013 में उन्होंने एमआरएफ चैलेंज फॉर्म्यूला 1600 में रेस लगाई थी। उन्होंने चाइनीज फॉर्म्यूला रेस में भी तीन बार प्रतिभाग किया है। 2014 में वे यूरोप चले गए और वहां इटैलियन फॉर्म्यूला-4 जॉइन किया. 2015 में उन्होंने मोटरपार्क अकैडमी के लिए यूरोपियन फॉर्म्यूला-3 चैंपियनशिप में भाग लिया। साल 2016 उनके लिए काफी बेमिसाल साबित हुआ था तब उन्होंने कोलोनी इटैलियन टीम के लिए रेस लगाते हुए दूसरा स्थान हासिल किया था। अभी तक नारायण कार्तिकेयन ने ही 1994 में ब्रिटिश फॉर्म्यूला फोर्ड और 1996 में फॉर्म्यूलाा एशिया सीरीज का खिताब अपने नाम किया है।

यह भी पढ़ें: बेटी के नामकरण पर 101 पेड़ लगाकर इस दंपति ने पेश की मिसाल

Add to
Shares
29
Comments
Share This
Add to
Shares
29
Comments
Share
Report an issue
Authors

Related Tags