ऐरेका पत्तियों का इस्तेमाल कर ईको फ्रेंडली प्लेटें बना रहे ये उद्यमी, 20 हजार के निवेश से शुरू किया था बिजनेस आज है 18 करोड़ का रेवेन्यू

अमरदीप बर्धन और वैभव जयसवाल ने 2012 में दिल्ली में प्रकृती कल्टीवेटिंग ग्रीन (Prakritii Cultivating Green) की शुरुआत की। उन्होंने अपनी तमिलनाडु फैसिलिटी में बायोडिग्रेडेबल प्लेट बनाने के लिए असम से ऐरेका नट की पत्तियों की सोर्सिंग की।
8 CLAPS
0

"शुरू में, दोनों ने अपनी प्लेटें कैटरर्स और इवेंट आयोजकों को बेचीं जो बड़े समारोहों और पार्टियों में उनका इस्तेमाल करते थे। बढ़ती लोकप्रियता को देखने के बाद, उन्होंने इको-फ्रेंडली कटलरी, ग्लास, स्टिरर आदि को शामिल करके अपने प्रोडक्ट पोर्टफोलियो का विस्तार किया। फाउंडर्स का दावा है कि आज, प्रकृती 18 करोड़ रुपये का सालाना कारोबार कर रही है, और 120 लोगों के लिए सीधे व 700 लोगों के लिए अप्रत्यक्ष रूप से रोजगार पैदा कर रही है।"

गुरुग्राम में IILM ग्रेजुएट स्कूल ऑफ मैनेजमेंट से ग्रेुजुएशन करने वाले अमरदीप बर्धन और वैभव जायसवाल अपने बिजनेस आइडिया को लेकर एक साथ आए। दोनों ने प्लास्टिक और पॉलीमर प्लेटों के इस्तेमाल से होने वाले प्रतिकूल पर्यावरणीय प्रभाव के बारे में दृढ़ता से महसूस किया। 

इस मुद्दे को हल करने के लिए, अमरदीप और वैभव ने प्लास्टिक की प्लेटों के लिए एक वैकल्पिक विकल्प के रूप में ऐरेका लीफ प्लेट यानी ऐरेका की पत्तियों से प्लेट बनाने का फैसला किया। उन्होंने अमरदीप के गृह राज्य असम से पत्तियों को स्रोत करने का निर्णय लिया। असम में पर्यावरण के अनुकूल और डिस्पोजेबल प्लेट बनाने के लिए ऐरेका पत्तियों की बहुतायत थी। इसने अंततः उन्हें 2012 में प्रकृती कल्टीवेटिंग ग्रीन शुरू करने के लिए प्रेरित किया जिसे असम में शुरू किया गया था और दिल्ली से संचालित किया गया।

अमरदीप YourStory को बताते हैं,

“हमने छोटे पैमाने पर संसाधनों की व्यवस्था की और 20,000 रुपये के साथ प्रकृती शुरू की। तमिलनाडु के कोयम्बटूर में एक विनिर्माण इकाई की स्थापना करते हुए, हमने असम में पायी जाने वाली पत्तियों का उपयोग करके विभिन्न शेप और साइज में ऐरेका नट लीफ प्लेट का प्रोडक्शन शुरू किया।”

शुरू में, दोनों ने अपनी प्लेटें कैटरर्स और इवेंट आयोजकों को बेचीं जो बड़े समारोहों और पार्टियों में उनका इस्तेमाल करते थे। बढ़ती लोकप्रियता को देखने के बाद, उन्होंने इको-फ्रेंडली कटलरी, ग्लास, स्टिरर आदि को शामिल करके अपने प्रोडक्ट पोर्टफोलियो का विस्तार किया। संस्थापकों का दावा है कि आज, प्रकृती 18 करोड़ रुपये का सालाना कारोबार कर रही है, और 120 लोगों के लिए सीधे व 700 लोगों के लिए अप्रत्यक्ष रूप से रोजगार पैदा कर रही है। 

पर्यावरण के अनुकूल लाभ

प्लास्टिक की प्लेटें गैर-बायोडिग्रेडेबल होती हैं और डीकम्पोज होने में सैकड़ों, और कभी-कभी हजारों साल लग जाते हैं। इस सबके दौरान, वे मिट्टी और भूजल में विषाक्त पदार्थों को छोड़ती हैं। वहीं बायोडिग्रेडेबल मटेरियल जैसे ऐरेका के पत्तों से बनी प्लेट्स पर्यावरण को नुकसान नहीं पहुंचाती हैं। 

ऐरेका के पत्तों से बने प्रकृति की टेबलवेयर रेंज के बारे में बताते हुए वैभव कहते हैं, “हमारी रेंज केमिकल, लाह (lacquers), ग्लू, बॉन्डिंग एजेंट्स या भोजन और हमारे पर्यावरण को नुकसान पहुंचाने वाले कुछ भी टॉक्सिक से 100 प्रतिशत मुक्त है। हम केवल स्टीम, हीट और प्रेसर का उपयोग करके अपने ऐरेका लीफ प्रोडक्ट्स को बनाते हैं।" 

वह कहते हैं कि प्रकृति की प्लेटें झड़ी हुई ऐरेका पत्तियों का उपयोग करके बनाई जाती हैं। यह अन्य प्रकार की बायोडिग्रेडेबल प्लेटों के विपरीत है, जैसे कि बांस से बनी, जिनके लिए पेड़ों को गिराना पड़ता है।

ऐरेका की पत्तियों का एक और फायदा है - वे अत्यधिक ऑक्सीजन युक्त होती हैं और लंबी अवधि के लिए फल और कच्ची सब्जियों को ताजा रखती हैं। वैभव दावा करते हैं कि उनकी बहुमुखी प्लेटों को ओवन, माइक्रोवेव और रेफ्रिजरेटर में भी इस्तेमाल किया जा सकता है। 

मूल्य प्रति पीस 1 रुपये से शुरू होता है और 40 रुपये तक जाता है। संस्थापक कहते हैं कि प्रकृति की प्लेटें 12 से 15 दिनों के बीच घर के गड्ढे में सड़ जाती हैं, और पर्यावरण को कोई नुकसान नहीं पहुंचाती हैं।

विनिर्माण और खुदरा सेटअप

तमिलनाडु में अपनी खुद की फैसिलिटी स्थापित करते समय संस्थापकों को भाषा और सांस्कृतिक अंतर का सामना करना पड़ा। एक छोटे, विनिर्माण उद्यम के रूप में, आवश्यक मात्रा में कच्चे माल को स्रोत करने, स्थिर बिजली की आपूर्ति सुनिश्चित करने, सही उपकरण खरीदने आदि में भी समय लगा, लेकिन अमरदीप और वैभव ने अपने ऐरेका लीफ प्रोडक्ट्स के उपयोग के मामलों को जारी रखा और विस्तार करते हुए, प्रकृति को 18 करोड़ रुपये के राजस्व के व्यवसाय में बदल दिया।

अमरदीप कहते हैं,

“लोग यह समझने लगे थे कि कैसे हमारे ईको-फ्रेंडली प्रोडक्ट्स विभिन्न परिस्थितियों में प्लास्टिक के विकल्प के रूप में काम कर सकते हैं। इसलिए हमने लकड़ी की कटलरी, पेपर ग्लास, टेकवे बॉक्स आदि बनाना शुरू किया।"

वर्तमान में, प्रकृति की भद्रावती, कर्नाटक में भी एक विनिर्माण इकाई है। स्वयं सहायता समूहों (एसएचजी) द्वारा संचालित 80 से अधिक सहायक इकाइयां भी कंपनी के लिए उत्पादों का निर्माण करती हैं।

अमरदीप कहते हैं,

“हमारे टारगेट ग्राहकों में थोक व्यापारी और वितरक, पैकेजिंग हाउस, होटल और रेस्तरां, कैटरर्स और इवेंट आयोजक आदि शामिल हैं। हम उन्हें प्रतिस्पर्धी कीमतें और इंसेंटिव ऑफर करते हैं।"

वे कहते हैं कि प्रकृति के प्रोडक्ट ईकॉमर्स पोर्टल्स पर भी उपलब्ध हैं। व्यवसाय के लिए, प्रतियोगियों में समान उत्पादों के छोटे निर्माता शामिल हैं। लेकिन उद्यमियों का मानना है कि उनका विस्तारित उत्पाद पोर्टफोलियो एक संपूर्ण समाधान है जोकि प्रकृति के लिए एक एडवांटेज है। 

वैभव कहते हैं,

''हमारे पास प्रमाणपत्र भी हैं जो यह दिखाते हैं कि हमारे उत्पाद अमेरिका और यूरोपीय मानकों के अनुसार मानदंडों का अनुपालन करते हैं। यह निर्यात बाजार में हमारे उत्पादों को बनाने में हमारी मदद करता है।”

COVID-19 प्रभाव और भविष्य की योजनाएं

जैसा कि कोरोना महामारी के चलते होटल, कैफे और रेस्तरां बंद थे और महामारी के चलते लगे लॉकडाउन के दौरान ईवेंट्स पर भी प्रतिबंध लगा दिया गया था, ऐसे में प्रकृति के प्रोडक्ट्स की बिक्री में तेजी से गिरावट देखी गई। 

हालांकि, बिजनेस पर किसी भी तरह का कोई ऋण नहीं था, इसलिए संस्थापक दावा करते हैं वह बिना किसी कर्मचारी को निकाले अपने भंडार और अधिशेष का उपयोग करते हुए बने रहे। 

अमरदीप कहते हैं,

“जैसे-जैसे चीजें सामान्य हुईं, हमने व्यापार को बनाए रखा है, लेकिन नुकसान अभी तक पूरी तरह से ठीक नहीं हुआ है। अब, महामारी हमारे लिए एक गेम-चेंजर बन गई है क्योंकि आतिथ्य उद्योग पुन: प्रयोज्य क्रॉकरी का उपयोग करके इको-फ्रेंडली, डिस्पोजेबल टेबलवेयर का उपयोग करता है।” 

रिसर्चएंडमार्केट्स की रिपोर्ट के अनुसार अगले पांच वर्षों में वैश्विक बायोडिग्रेडेबल कटलरी बाजार का विस्तार लगभग पांच प्रतिशत के सीएजीआर से होने की उम्मीद है।

प्रकृति अब पर्यावरण के अनुकूल और टिकाऊ कटलरी की इस बढ़ती मांग को पूरा करने के लिए अपनी उत्पादन क्षमताओं का विस्तार करने और अपनी उत्पाद लाइन में विविधता लाने की योजना बना रही है। 

संस्थापकों का कहना है कि दुनिया तेजी से पर्यावरण पर प्लास्टिक के प्रतिकूल प्रभाव को समझती है, ऐसे में प्रकृति उपयोग के मामलों में सिंगल यूज प्लास्टिक की जगह एक भूमिका निभाने के लिए तैयार है।

Edited by Ranjana Tripathi

Latest

Updates from around the world