संस्करणों

ऐसी रसोई जो हर दिन भरती है 1 लाख लोगों का पेट

24 घंटे चलता है लंगर हर रोज 5 हजार किलोग्राम लकड़ी सौ से ज्यादा एलपीजी गैस सिलेडंर का इस्तेमाल होता हैरसोई घर में 4 सौ से ज्यादा कर्मचारी दिन रात काम करते हैं हर रोज 7 हजार से 10 हजार किलो आटे की जरूरतअमृतसर के स्वर्ण मंदिर की रसोई

13th Jun 2015
Add to
Shares
0
Comments
Share This
Add to
Shares
0
Comments
Share

क्या आप ऐसे किसी रसोई घर के बारे में जानते हैं जो 24 घंटे खुला रहता है। जहां हर रोज 1 लाख से ज्यादा लोग खाना खाते हैं। बिना ये जाने की यहां आने वाला व्यक्ति किस धर्म, जाति,पंथ या लिंग का है। यहां सिर्फ एक मूलभूत दर्शन काम करता है और वो है कि इस रसोई घर में आने वाला हर इंसान बराबर है।

चौकिये मत ! ऐसा रसोई घर कहीं और नहीं बल्कि अपने देश में है। जहां हर रोज लाखों श्रद्धालु अपना माथा टेकते हैं ये है पंजाब के अमृतसर का स्वर्ण मंदिर का रसोई घर। औसतन इस रसोई घर में खाना बनाने के लिए हर रोज 5 हजार किलोग्राम लकड़ी और सौ से ज्यादा एलपीजी गैस सिलेडंर का इस्तेमाल होता है। यहां तैयार होने वाले खाने को कई सौ स्वंय सेवक खाना खाने के लिए आने वाले लोगों के लिए परोसते हैं। इसके अलावा झूठे बर्तन धोने और रसोई घर में काम करने के लिए 4सौ से ज्यादा कर्मचारी रात दिन काम करते हैं। जो लोग खुद अपनी ओर से इस रसोई घर में हाथ बंटाना चाहते हैं उनको भी इस काम में लगाया जाता है। समानता की ये अवधारणा यहां पर हर जगह दिखाई देती है फिर चाहे वो स्वर्ण मंदिर गुरुद्वारा हो या फिर खाना खाने के लिए लंगर वाली जगह।

यहां अमीरी-गरीबी का कोई भेद नहीं होता। बस इंसानियत ही यहां पर काम करती है तभी तो यहां आने वाले भक्तों के जूतों का प्रबंधन हो या फिर प्यासे लोगों को पानी पिलाने का काम स्वर्ण मंदिर में स्वयं सेवक के तौर पर भक्त जुड़ते रहते हैं। यहां पर इंसानियत के सामने धर्म या मजहब को कोई मतलब नहीं रह जाता।

हाल ही में स्वर्ण मंदिर, हिंसा के कारण सुर्खियों में था। जब ऑपरेशन ब्लू स्टॉर की 30वीं बरसी पर कुछ अनुयायी आपस में भिड़ गए थे। भले ही आप नास्तिक हों लेकिन एक बार आपको भी स्वर्ण मंदिर जाना चाहिए। यहां आने पर पता चलता है कि स्वंय सेवा और प्रबंधन कैसे काम करता है जितना आप किसी संगठन में रहकर नहीं सीख सकते। यहां लगने वाले लंगर पर सालाना करोड़ों रुपये खर्च होते हैं और ये पैसा यहां आने वाले श्रद्धालु और विदेशों से मिलने वाले दान और चंदे से आता है।

image


अमृतसर में मौजूद स्वर्ण मंदिर सिक्खों का पवित्र धार्मिक स्थल है, लेकिन यहां पर किसी दूसरे धर्म के व्यक्ति के आने की कोई बंदिश नहीं है और वो यहां पर होने वाली सभी गतिविधियों में हिस्सा ले सकते है।

image


हर रोज यहां पर 100,000 लोग लंगर में खाना खाते हैं, जो 24 घंटे खुला रहता है। इस काम को दुनिया भर से आने वाले स्वंय सेवक अपने श्रम से आसान बना देते हैं।

image


इस रसोई घर में कई सौ लोग खाना बनाने में मदद करते हैं। रसोई घर में महिला पुरूष मिलकर काम करते हैं।

image


स्वर्ण मंदिर में स्वंय सेवक के लिए कोई उम्र निर्धारित नहीं है फिर चाहे वो 8 साल का हो या 80 साल का।

image


खाना खाने के बाद झूठे बर्तनों को दो श्रेणियों में बांट दिया जाता है छोटा (चम्मच) और मध्यम (थाली और कटोरी)। स्वंय सेवक इनको इकठ्ठा करते हैं ताकि इन बर्तनों को धोने में आसानी हो।

image


झूठे बर्तनों को कई बार साफ किया जाता है ताकि उसमें खाना चिपका ना रह जाए और ज्यातर ये काम स्वंय सेवक करते हैं।

image


सभी स्वंय सेवक एक साथ बर्तनों को साफ करते हैं। इस दौरान उनका सामान का खास ध्यान रखा जाता है, प्रबंधन इस बात पर नजर बनाये रखता है कि स्वंय सेवकों को किसी तरह की दिक्कत ना हो।

image


स्वयं सेवक के काम करने के बाद उनको कटोरे में चाय दी जाती है। (यहां पर सभी तरह का तरल पदार्थ गिलास की जगह कटोरे में परोसा जाता है।)

image


यहां पर हर रोज 3 लाख से ज्यादा बर्तनों को साफ कर अगले दौर के खाने के लिए तैयार किया जाता है।

image


लोगों का समूह जब खाना खाने के लिए आता है तो उनकी सेवा सभी मानवीय सीमाओं को ध्यान में रखकर की जाती है।

image


खाना खाने के बाद कुछ लोग आराम करना चाहते हैं इसके लिए दीवान हॉल मंजी साहिब में खास व्यवस्था की गई होती है। भगवान के दरबार में आने वाला किसी भी वर्ग से संबंध नहीं रखता क्योंकि सब को सोने के लिए जमीन में 5 फीट जगह चाहिए होती है।

image


यहां के रसोई घर में हर रोज 7 हजार से 10 हजार किलो आटे की जरूरत खाना बनाने के लिए पड़ती है।

image


स्वंय सेवक और कर्मचारी मिलकर काम करते हैं और ये लोग रोटी, प्रसाद तैयार करते हैं। एक अनुमान के मुताबिक यहां पर हर रोज 2 लाख से लेकर 3 लाख के बीच रोटियां बनती हैं।

image


यहां पर सेवा करने वालों की खुशी का अंदाजा दूसरा की नहीं लगा सकता।

image


मंदिर में घुसते ही पानी से पैर धोने की खास व्यवस्था है। जो कि निरंतर बहते रहता है। इसका अभिप्राय ये है कि अपने साथी लोगों के प्रति जो भी पूर्वाग्रह हैं उनको साफ करो।

image


कुछ लोग मंदिर के चारों और बनी पवित्र झील में नहाना पसंद करते हैं

image


यहां आने वाले स्वंय सेवक कहीं से भी आ सकते हैं इतना ही नहीं स्वंय सेवकों को जो भी काम दिया जाता है वो उनके लिये छोटा या बड़ा नहीं होता फिर चाहे वो जूतों का प्रबंधन हो या फिर लोगों को पानी पिलाने का काम।

image


दुनिया भर के लोगों से मिलने वाले चंदे और दान के लिए धन्यवाद, यहां पर कई तरह काउंटर भी लगाये जाते हैं जैसे ठंडे पानी के लिए, जो कि लोगों को काफी सस्ते दामों पर दिया जाता है।

image


सैंकड़ों लोग रोज यहां पर रात बिताते हैं, जिनको खुले आसमान के नीचे आंगन में सोना पड़ता है।

Add to
Shares
0
Comments
Share This
Add to
Shares
0
Comments
Share
Report an issue
Authors

Related Tags