संस्करणों

महीनों की सीख दे घंटों में, ‘अर्थ विद्या’, बनाये समझदार एकाउंटेंट

45 कॉलेज के 45सौ छात्र उठा चुके हैं फायदाअगस्त, 2011 में शुरू हुई ‘अर्थ विद्या’

4th Jul 2015
Add to
Shares
0
Comments
Share This
Add to
Shares
0
Comments
Share

किसी आम आदमी के लिए बिजनेस एकाउंटिंग बड़ा मुश्किल काम होता है, लेकिन कॉमर्स के छात्र ‘अर्थ विद्या’ कौशल निखार कोर्स कर रहे हैं जिसे बिजनेस एकाउंटिंग प्रोसेस भी कहते हैं। ये वर्ल्ड ऑफ वारक्रॉफ्ट का मजेदार खेल है। इसमें एक वर्चुअल ऑफिस होता है जिसमें छात्रों को कई तरह के काम करने होते हैं। इसमें 60 से ज्यादा एकाउंटिंग ट्राजेंक्शन करनी होती हैं और कोर्स के अंत में किसी भी छात्र को उतना ही तजुर्बा हासिल होता है जितना वो छह महीने असल जिंदगी में काम कर हासिल कर सकता है। छात्र ये सब सिर्फ 120 घंटों में सीख जाता है। इस खास कोर्स ‘अर्थ विद्या’ को इजाद किया है नागराजन जी ने।

image


थ्योरी सेशन को चार्टर्ड एकाउंटेंट पढ़ा कर छात्रों का समझा सकते हैं जबकि उसका अनुभव जानने के लिए एक खास सॉफ्टवेयर की मदद ली जाती है। उदाहरण के लिए छात्र पढ़ाई के जरिये ये तो जान जाता है कि टैक्स की गणना कैसे की जाती है और उसे घटाया कैसे जा सकता है लेकिन वो इस प्रक्रिया से कोसो दूर रहता है। जब वो ये खेल खेलता है तो उसे सीढ़ी दर सीढ़ी इस प्रक्रिया को पार करना होता है इस दौरान उसके सामने कई चुनौतियां भी आती हैं।

नागराजन के मुताबिक उनका मंत्र प्रदर्शन करना है इसमें मूल्यांकन, परामर्श और प्रशिक्षण का समावेश होता है। इस दौरान छात्रों का मूल्यांकन शैक्षिक ज्ञान, प्रकिया की जानकारी, विश्लेषणात्मक कौशल और सॉफ्टवेयर की जानकारी पर होता है। इन सॉफ्टवेयर में टैली और एक्सल की जानकारी जरूर होनी चाहिए। परीक्षा पूरी करने के बाद हर छात्र को एक रिपोर्ट मिलती है। इस रिपोर्ट के जरिये छात्र ये जान पाता है कि वो ज्ञान और कौशल के मामले में कॉलेज के दूसरे छात्रों के मुकाबले इस क्षेत्र में कहां पर खड़ा है। अब तक 45 कॉलेज के 4500 छात्रों का इस तरह मूल्यांकन किया गया है। ये छात्र बेंगलौर, हैदराबाद, चेन्नई और कोयंबत्तूर के थे।

image


जबकि इस उद्योग से जुड़े विशेषज्ञ और काम कर रहे पेशेवर इस बात को मानते हैं कि कॉलेजों में जो पढ़ाई होती है वो कार्यस्थल की जरूरत के मुताबिक नहीं होती और इस बात को कॉलेज और छात्र दोनों ही नहीं देख पाते। अर्थ विद्या के सामने ये एक महत्वपूर्ण चुनौती है। इस कारण अर्थ विद्या में परामर्श को एक मुख्य गतिविधि के तौर पर शामिल किया गया है। ये छात्रों को व्यक्तिगत आकलन रिपोर्ट के दौरान पढ़ाई और जमीनी हकीकत के इस फासले के बारे में जानकारी देती हैं। ताकि वो सही रास्ते में चल सकें और जरूरत के मुताबिक अपने कौशल में निखार लाएं। इस दौरान छात्रों को एक डेमो के माध्यम से मुख्य प्रशिक्षण उत्पाद के बारे में बताया जाता है।

नागराजन  जी

नागराजन जी


अर्थ विद्या को चार्टड एकाउंटेंट और पेशेवर साफ्टवेयर के समूह की मदद से नागराजन ने बेंगलौर में अगस्त 2011 में इसे शुरू किया था। नागराजन खुद एक सीनियर सीए हैं और उनके पास सूचना और तकनीक के क्षेत्र में 30 सालों का अनुभव है। उन्होने अपने करियर की शुरूआत एनफिल्ड इंडिया से की थी। इसके बाद उन्होने 13 साल विप्रो में काम किया। अर्थ विद्या कौशल विकास के सहयोगी के तौर पर राष्ट्रीय कौशल विकास निगम भी जुड़ा है। खासतौर से इसमें बैंकिंग, वित्तीय सेवाएं और इंश्योरेंश क्षेत्र शामिल है। इस प्रोजेक्ट को एनएसडीसी से अनुदान मिला हुआ है इसके अलावा नागराजन के दोस्तों ने भी इसमें निवेश किया हुआ है।

अर्थ विद्या का लक्ष्य कॉमर्स ग्रेजुएट छात्रों या जो बी-कॉम, एम-कॉम, बीबीए, बीबीएम या एमबीए कर रहे हैं और जिन्होने आईसीडब्लूए, सीए या एसीएस के लिए आवेदन किया है उनको तैयार करना है। फिलहाल नागराजन की ये टीम कोयंबत्तूर और बेंगलौर के विभिन्न कॉलेजों में काम कर रही है।

Add to
Shares
0
Comments
Share This
Add to
Shares
0
Comments
Share
Report an issue
Authors

Related Tags