संस्करणों
प्रेरणा

फेसबुक के इतिहास में भारत बहुत महत्वपूर्ण-जुकरबर्ग

योरस्टोरी टीम हिन्दी
28th Sep 2015
Add to
Shares
1
Comments
Share This
Add to
Shares
1
Comments
Share

पीटीआई


image


फेसबुक के संस्थापक मार्क जुकरबर्ग ने कहा कि वह भारत को ज्ञान का मंदिर मानते हैं जहां से उन्होंने फेसबुक को फिर से संगठित करने की प्रेरणा ली जब 10 साल पहले कंपनी कठिन दौर से गुजर रही थी और बिकने की कगार पर पहुंच गई थी।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ फेसबुक मुख्यालय में कल बातचीत की मेजबानी करते हुए जुकरबर्ग ने कहा, ‘‘निजी तौर पर भारत को लेकर मैं कई वजहों से उत्साहित हूं।’’ उन्होंने 10 साल पहले के अपने एक महीने लंबे भारत दौरे के जिक्र करते हुए कहा, ‘‘फेसबुक के इतिहास में भारत बहुत महत्वपूर्ण है।’’ जुकरबर्ग ने कहा कि फेसबुक कठिन दौरे से गुजर रहा था और बिकने के कगार पर पहुंच गया था तब उनके ‘गुरू’ और एप्पल के पूर्व सीईओ स्टीव जॉब्स ने कहा कि ‘मैं भारत में एक मंदिर का दौरा करूं।’ उन्होंने कहा, ‘‘इसलिए मैंने करीब एक महीने के लिए भारत का दौरा किया।’’ उनके मुताबिक, भारत की यात्रा के बाद उनके भीतर फेसबुक को अरबों की कंपनी के रूप में तब्दील करने का भरोसा फिर से पैदा हुआ।

उन्होंने कहा, ‘‘विचार यह है कि कुछ करने से पहले आपको मंदिर जाना चाहिए।’’ जुकरबर्ग ने कहा, ‘‘भारत में बहुत आशावाद है। आप भारत पहुंचते हैं, आशा लिए मंदिर में जाते हैं। और देखिए कि आप कहां पहुंच जाते हैं। आपका अनुभव आशा बनता है। भारत के बारे में कुछ तो विशेष है।’’ फेसबुक के प्रमुख ने कहा कि वह इस बारे में जानने के इच्छुक थे कि मोदी ने लोगों से सीधे जुड़ने के लिए कैसे सोशल मीडिया का इस्तेमाल किया।

उन्होंने यह भी कहा कि भारत में अब भी एक अरब लोग इंटरनेट से दूर हैं।

मोदी ने कहा, ‘‘मैं आशा करता हूं कि आप दुनिया भर में एक अरब लोगों की आवाज बनेंगे।’’

Add to
Shares
1
Comments
Share This
Add to
Shares
1
Comments
Share
Report an issue
Authors

Related Tags