संस्करणों
विविध

स्मॉग और प्रदूषण से लड़ने के लिए आईआईटी दिल्ली के स्टार्टअप ने बनाई सस्ती डिवाइस

नैसोफिल्टर का इस्तेमाल करके बचा जा सकता है प्रदूषण से काफी हद तक।

13th Nov 2017
Add to
Shares
425
Comments
Share This
Add to
Shares
425
Comments
Share

दिल्ली और देश के कई अन्य राज्य विषाक्त धुंध के कंबल में बीमार पड़े हैं। लेकिन इस संकट के आने के कुछ दिन पहले ही नैनोक्लीन ग्लोबल नामक एक आईआईटी-दिल्ली स्टार्टअप ने अपने फेसबुक पेज नैसोफिल्टर पर 'गिफ्ट प्यूर एयर' नामक अभियान शुरू किया था। राजधानी में प्रदूषण के स्तर में वृद्धि के रूप में यह वायरल हो गया। तीन दिनों के भीतर, स्टार्टअप ने स्कूलों, अस्पतालों और दिल्ली से और पूरे देश में अपने नैसोफिल्टर के बारे में हजारों पूछताछ प्राप्त की।

साभार: पिनट्रेस्ट

साभार: पिनट्रेस्ट


नैसोफिल्टर का इस्तेमाल करके प्रदूषण से काफी हद तक बचा जा सकता है। इस उपकरण की कीमत 10 रुपये है। इसमें एक फिल्टर है जिसके साथ आप अपने नाक को कवर कर सकते हैं। यह बाकी के मास्क की तरह खूब बड़ा सा दिखने वाला नहीं है। ये लगाने के बाद तकरीबन दिखाई ही नहीं देता। नाक के नीचे इसके किनारे बिल्कुल पारदर्शी हैं। एक फिल्टर लगभग आठ घंटे तक इस्तेमाल किया जा सकता है।

2 दिसंबर को राष्ट्रीय प्रदूषण नियंत्रण दिवस पर सिविल और मैकेनिकल इंजीनियरिंग के स्नातकों और टेक्सटाइल इंजीनियरिंग के प्रोफेसरों की ये स्टार्टअप टीम इस उत्पाद को पूरे भारत में लॉन्च करने वाली है। नैनोक्लीन को दक्षिण कोरिया द्वारा 118 देशों से दुनिया के शीर्ष 50 तकनीक स्टार्टअप के बीच भी मान्यता दी गई है और इसे हांगकांग ने दुनिया के शीर्ष 100 स्टार्टअप में चुना है। इस उपलब्धि को हासिल करने वाला एकमात्र भारतीय स्टार्टअप है।

दिल्ली और देश के कई अन्य राज्य विषाक्त धुंध के कंबल में बीमार पड़े हैं। लेकिन इस संकट के आने के कुछ दिन पहले ही नैनोक्लीन ग्लोबल नामक एक आईआईटी-दिल्ली स्टार्टअप ने अपने फेसबुक पेज नैसोफिल्टर पर 'गिफ्ट प्यूर एयर' नामक अभियान शुरू किया था। राजधानी में प्रदूषण के स्तर में वृद्धि के रूप में यह वायरल हो गया। तीन दिनों के भीतर, स्टार्टअप ने स्कूलों, अस्पतालों और दिल्ली से और पूरे देश में अपने नैसोफिल्टर के बारे में हजारों पूछताछ प्राप्त की। नैसोफिल्टर का इस्तेमाल करके प्रदूषण से काफी हद तक बचा जा सकता है। इस उपकरण की कीमत 10 रुपये है। इसमें एक फिल्टर है जिसके साथ आप अपने नाक को कवर कर सकते हैं। यह बाकी के मास्क की तरह खूब बड़ा सा दिखने वाला नहीं है। ये लगाने के बाद तकरीबन दिखाई ही नहीं देता। नाक के नीचे इसके किनारे बिल्कुल पारदर्शी हैं। एक फिल्टर लगभग आठ घंटे तक इस्तेमाल किया जा सकता है।

2 दिसंबर को राष्ट्रीय प्रदूषण नियंत्रण दिवस पर सिविल और मैकेनिकल इंजीनियरिंग के स्नातकों और टेक्सटाइल इंजीनियरिंग के प्रोफेसरों की ये स्टार्टअप टीम इस उत्पाद को पूरे भारत में लॉन्च करने वाली है। नैनोक्लीन को दक्षिण कोरिया द्वारा 118 देशों से दुनिया के शीर्ष 50 तकनीक स्टार्टअप के बीच भी मान्यता दी गई है और इसे हांगकांग ने दुनिया के शीर्ष 100 स्टार्टअप में चुना है। इस उपलब्धि को हासिल करने वाला एकमात्र भारतीय स्टार्टअप है।

कब आया ये आइडिया-

नैसोफिल्टर का उद्भव काफी प्रेरणादायक परिस्थितियों में हुआ। नैनोक्लीन के संस्थापक प्रतीक शर्मा अपनी मां को अस्थमा से ग्रस्त देखते हुए बड़ा हुए हैं। वो अपनी मां को प्रदूषण से बचाकर रखने के लिए मार्केट में उपलब्ध सर्वोत्तम मास्क खरीदकर लाते थे। लेकिन ज्यादातर मास्क पहनने के लिए असुविधाजनक थे। 2015 में, जब वह आईआईटी-दिल्ली में सिविल इंजीनियरिंग के अंतिम वर्ष में थे तो उन्होंने प्रदूषण को फ़िल्टर करने के लिए एक प्रोटोटाइप बनाने के बारे में सोचा। इससे भी महत्वपूर्ण बात यह थी कि इसका उद्देश्य यह सुनिश्चित करना था कि उनकी मां एक ऐसी डिवाइस तक पहुंच सके जो कि प्रभावी और प्रयोग में आसान हो।

कैसे काम करती है ये तकनीक-

नैसोफिल्टर का पहला प्रोटोटाइप 2016 में विकसित किया गया था। उन्होंने डिवाइस को व्यावसायिक बनाने के लिए नैनोकलीन ग्लोबल का निर्माण किया। शर्मा के मुजाबिक, हमने लाखों छिद्रों को एक छोटे से क्षेत्र में बनाया, फाइबर के व्यास को 100 गुणा से कम करके छिद्रों के घनत्व को बढ़ा दिया। गहराई से छानने के बजाय, टीम ने सतह निस्पंदन का इस्तेमाल किया। टीम ने नैनोटेक्नोलॉजी का प्रयोग उन फ़िल्टरों के निर्माण के लिए किया जो उपयोगकर्ता के नाक के छिद्र पर पहरा कर सकते हैं जब पीएम 2.5 कणों और पराग एलर्जी सहित कण पदार्थों के प्रवेश करने की कोशिश रहे हैं।

टीम से जुड़े प्रोफेसर अग्रवाल के मुताबिक, नैनोटेक्नोलॉजी पर बहुत सारे शोध हैं लेकिन कई अनुप्रयोगों का उपयोग करके इसे बढ़ाया नहीं जा सका है। हमारे डिवाइस ने वैश्विक समुदाय की गंभीर समस्या को हल करने के लिए इस तकनीक का इस्तेमाल किया है। यह एक यूज एंड थ्रो, बायोडिग्रेडेबल उत्पाद है और श्वास प्रतिरोध को नगण्य देता है।

नैसोफिल्टर में एक अत्यधिक झरझरा सब्सट्रेट होता है जो सतह निस्पंदन करता है और स्वयं को एक ही उच्छृंखल के रूप में आटोक्लेन करता है। यह तकनीकी रूप से बहुत उन्नत है। डिवाइस ने हाल ही में स्टार्टअप राष्ट्रीय पुरस्कार 2017 जीता है।

ये भी पढ़ें: 103 साल की इस महिला ने अब तक लगाए 384 बरगद के पेड़

Add to
Shares
425
Comments
Share This
Add to
Shares
425
Comments
Share
Report an issue
Authors

Related Tags