संस्करणों
विविध

खुदकुशी को उकसाने वाले गेम 'ब्लू व्हेल' पर बैन के लिए सरकार ने उठाया ये कदम

15th Aug 2017
Add to
Shares
74
Comments
Share This
Add to
Shares
74
Comments
Share

विशेषज्ञ लोगों को अपने बच्चों को इस खतरनाक गेम से दूर रहने की सलाह दे रहे हैं, लेकिन फिर भी आत्महत्या का सिलसिला नहीं रुक रहा है।

<b>सांकेतिक तस्वीर (साभार: YouTube)</b>

सांकेतिक तस्वीर (साभार: YouTube)


सरकार ने 'ब्लू व्हेल चैलेंज' खेलने वाले बच्चों पर दुष्प्रभावों की शिकायत के बाद इस गेम पर रोक लगाते हुए सर्च इंजन और सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स को यह गेम डाउनलोड करने संबंधित लिंक हटाने को कहा है।

अमेरिका से लेकर पाकिस्तान तक, कुल 19 देशों में इस गेम की वजह से खुदकुशी के कई मामले सामने आए। 

इन दिनों सोशल मीडिया से लेकर इंटरनेट की दुनिया में 'ब्लू-व्हेल' नाम के एक गेम की खूब चर्चा हो रही है। यह खतरनाक गेम दुनियाभर में कई लोगों की जान ले चुका है और भारत में भी इसकी वजह से सुसाइड करने के कुछ मामले सामने आए हैं। विशेषज्ञ लोगों को अपने बच्चों को इस खतरनाक गेम से दूर रहने की सलाह दे रहे हैं, लेकिन फिर भी आत्महत्या का सिलसिला नहीं रुक रहा है। अभी हाल ही में 'ब्‍लू व्‍हेल' की वजह से कोलकाता के एक 10वीं क्लास के बच्चे ने कथित तौर पर आत्महत्या कर ली।

'ब्लू व्हेल' के खतरनाक दुष्परिणाम को देखते हुए भारत सरकार ने भी कड़े कदम उठाने शुरू कर दिए हैं। केंद्र सरकार ने ऑनलाइन कंप्यूटर और मोबाइल गेम 'ब्लू वेल चैलेंज' खेलने वाले बच्चों पर दुष्प्रभावों की शिकायत के बाद इस गेम पर रोक लगाते हुए प्रमुख सर्च इंजन और सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स को यह गेम डाउनलोड करने संबंधित लिंक हटाने को कहा है। देश की संसद में भी इसे बैन करने की मांग उठ रही है।

यह गेम तकरीबन 4 साल पहले 2013 में रूस में सामने आया था। तब से लेकर अब तक इसने दुनिया भर में 250 से ज्यादा लोगों की जान ले ली। अकेले रूस में 130 से ज्यादा मौतें रिपोर्ट की गई हैं। इसके अलावा, अमेरिका से लेकर पाकिस्तान तक, कुल 19 देशों में इस गेम की वजह से खुदकुशी के कई मामले सामने आए।

ब्लू व्हेल चैलेंज गेम डेवलप करने वाले 22 साल के फिलिप बुदिएकिन ने एक इंटरव्यू में इस गेम को बनाने के पीछे के मकसद के बारे में खुलासा किया था। उसने कहा, 'हां, मैं लोगों को सुसाइड के लिए उकसाता हूं। जो लोग अपनी जिंदगी की कद्र नहीं करते वे एक तरह से बायॉलजिकल वेस्ट हैं। मैं ऐसे ही लोगों को दुनिया से बाहर भेजने का काम कर रहा हूं।'

इलेक्ट्रॉनिक और इन्फॉर्मेशन एंड टेक्नॉलजी मिनिस्ट्री ने सर्च इंजन गूगल इंडिया, माइक्रोसॉफ्ट इंडिया और याहू इंडिया के अलावा सोशल मीडिया के सभी प्लेटफॉर्म्स जैसे फेसबुक, इंस्टाग्राम और वॉट्सऐप को ब्लू व्हेल चैलेंज गेम को डाउनलोड करने की सुविधा या इससे जुड़ा कोई भी लिंक अपने प्लेटफॉर्म से तुरंत हटाने को कहा है। मंत्रालय के वरिष्ठ निदेशक अरविंद कुमार ने बीते 11 अगस्त को जारी निर्देश में ब्लू व्हेल चैलेंज गेम के अलावा इससे मिलते-जुलते नाम वाले ऑनलाइन गेम्स के लिंक भी हटाने को कहा है।

इस गेम को खेलने वाले बच्चों में आत्महत्या की प्रवृत्ति पनपने की घटनाओं की शिकायतों के बाद केरल, मध्यप्रदेश, महाराष्ट्र सहित अन्य राज्य सरकारों की मांग पर केंद्र सरकार ने 'ब्लू व्हेल चैलेंज' पर रोक लगाई है। इससे पहले केंद्रीय मंत्री मेनका गांधी ने भी सोमवार को सरकार से इस गेम को प्रतिबंधित करने की मांग की थी।

इन्फॉर्मेशन एंड टेक्नॉलजी मिनिस्टर रविशंकर प्रसाद को इस गेम के बारे में शिकायतें मिलने के बाद यह पहल की गई है। एक अधिकारी ने बताया कि इस गेम पर प्रतिबंध की आशंका को देखते हुए सोशल मीडिया प्लैटफॉर्म्स पर पहले ही कई नकली या प्रॉक्सी यूआरएल या आईपी अड्रेस बना लिये गए थे। इसके मद्देनजर ही सरकार ने अपने निर्देश में सर्च इंजन और सोशल मीडिया वेबसाइट से ब्लू वेल चेलैंज गेम से मिलते-जुलते नाम वाले या यूआरएल वाले गेम्स के लिंक भी हटाने को कहा है।

(पीटीआई से इनपुट)

पढ़ें: पायलट परिवार, दादा से लेकर मां-बाप और उनके बच्चे भी उड़ाते हैं प्लेन

Add to
Shares
74
Comments
Share This
Add to
Shares
74
Comments
Share
Report an issue
Authors

Related Tags

Latest Stories

हमारे दैनिक समाचार पत्र के लिए साइन अप करें