संस्करणों
विविध

नीति आयोग ने जीएसटी का समर्थन किया

जीएसटी के अगले साल एक अप्रैल से लागू होने की संभावना है।

PTI Bhasha
30th Oct 2016
Add to
Shares
1
Comments
Share This
Add to
Shares
1
Comments
Share

नीति आयोग के उपाध्यक्ष अरविंद पनगढ़िया ने वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) की प्रस्तावित चार दरों का आज समर्थन किया और इस संबंध में की जा रही आलोचनाओं को खारिज कर दिया। उन्होंने कहा कि इससे मुद्रास्फीति में संभावित वृद्धि या राजस्व नुकसान से निपटने में मदद मिलेगी।

image


पनगढ़िया ने उपकर को जारी रखने का भी समर्थन किया और इस आलोचना को खारिज किया कि इससे एकल एकीकृत दर का मूल विचार पीछे छूट जाएगा।

जीएसटी के तहत प्रस्तावित चार दरों के पीछे तर्क के बारे में विस्तार से बताते हुए उन्होंने कहा, ‘जीएसटी से बड़ा लाभ इसलिए होगा क्योंकि भौगौलिक रूप से किसी भी उत्पाद पर दर एक होगी।’ 

जीएसटी परिषद वस्तु एवं सेवा कर के लिये कर ढांचे का चार स्लैब के प्रस्ताव पर विचार कर रही है। ये स्लैब 6, 12, 18 और 26 प्रतिशत हैं। इसके अलावा विलासिता और अहितकर वस्तुओं पर अतिरिक्त शुल्क लगाया जाएगा।

इस बात को लेकर बहस चल रही है कि जीएसटी में एकल दर होना चाहिए या इसमें कई दरें होनी चाहिए। जीएसटी के अगले साल एक अप्रैल से लागू होने की संभावना है।

इससे पहले, दिन में पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम ने कहा कि प्रस्तावित वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) व्यवस्था के तहत कर की कई दरें रखना घातक होगा और यह यह पुराने वैट को नए आकार में पेश करने के अलावा और कुछ नहीं होगा।

चिदंबरम ने भारतीय प्रबंधन संस्थान-कलकत्ता के विद्यार्थियों के साथ आर्थिक सुधारों पर परिचर्चा में कहा, ‘हम ईमानदारी से उम्मीद करते हैं कि मानक के डिजाइन की गलत व्याख्या नहीं हो, जीएसटी की मानक घटा और जमा दर हो। हमारे पास 20 दरें हो सकतीं हैं। यह घातक होगा और यह जीएसटी नहीं हो सकता। यह देश को मूर्ख बनाना है।’

Add to
Shares
1
Comments
Share This
Add to
Shares
1
Comments
Share
Report an issue
Authors

Related Tags

Latest Stories

हमारे दैनिक समाचार पत्र के लिए साइन अप करें