Gautam Adani की अडानी विल्मर का मुनाफा 73% गिरा, कभी IPO ने बस 3 महीने में दिया था 4 गुना रिटर्न

By Anuj Maurya
November 04, 2022, Updated on : Fri Nov 04 2022 06:58:35 GMT+0000
Gautam Adani की अडानी विल्मर का मुनाफा 73% गिरा, कभी IPO ने बस 3 महीने में दिया था 4 गुना रिटर्न
अडानी विल्मर के आईपीओ ने महज 3 महीने में लोगों के पैसे 3.8 गुना कर दिए थे. अभी कंपनी का मुनाफा 73 फीसदी गिर गया है. हालांकि, अभी भी कंपनी के आईपीओ में पैसे लगाने वालों के पैसे 3 गुना ऊंची कीमतों पर हैं.
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

इन दिनों गौतम अडानी (Gautam Adani) के अडानी ग्रुप (Adani Group) की कंपनियों के नतीजे आ रहे हैं. कुछ के नतीजे (Quarter Results) तो शानदार रहे हैं, लेकिन कुछ कंपनियों के नुकसान हुआ है. हाल ही में अडानी विल्मर (Adani Wilmar) के नतीजे सामने आए हैं, जिन्होंने लोगों को हैरान कर दिया है. अडानी विल्मर को इस वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही यानी जुलाई-सितंबर में तगड़ा 'नुकसान' हुआ है. कंपनी का मुनाफा करीब 73 फीसदी तक गिर गया है. दिलचस्प ये है कि यह वही कंपनी है, जिसके IPO ने धूम मचा दी थी. इसके आईपीओ ने 3 महीने से भी कम के समय में लोगों के पैसों को 3.8 गुना तक बढ़ा दिया था. खैर, अभी भी इसके शेयर की कीमत आईपीओ के वक्त की कीमत से करीब 3 गुनी तक है.

कपंनी के नतीजे कैसे रहे?

अडानी विल्मर लिमिटेड को सितंबर तिमाही में 48.7 फीसदी का मुनाफा हुआ है. पिछले साल इसी अवधि में कंपनी को 182 करोड़ रुपये का मुनाफा हुआ था. यानी कंपनी का मुनाफा करीब 73 फीसदी तक गिर गया है. वहीं दूसरी ओर कंपनी का ऑपरेशनल रेवेन्यू 4 फीसदी से भी अधिक बढ़ा है. पिछले साल यह 13,558 करोड़ रुपये था, जो इस साल 14,150 करोड़ रुपये हो गया है. यानी इसमें करीब 4.36 फीसदी की बढ़ोतरी देखने को मिली है. इसके अलावा कंपनी का कुल खर्च भी बढ़कर 14,149.6 करोड़ रुपये हो गया है, जो पिछले साल 13,354 करोड़ रुपये था. यानी कंपनी के खर्च में भी 6 फीसदी का इजाफा देखा जा रहा है.

अडानी विल्मर के आईपीओ ने किया था कमाल

इसी साल 27 जनवरी 2022 को अडानी विल्मर का आईपीओ खुला था और 8 फरवरी को यह कंपनी शेयर बाजार में लिस्ट हुई थी. कंपनी का इश्यू प्राइस बैंड 218-230 रुपये था. लिस्टिंग के दिन कंपनी का शेयर 221 रुपये पर लिस्ट हुआ, जो इसके फाइनल इश्यू प्राइस 230 रुपये से कम था, लेकिन देखते ही देखते कंपनी के शेयरों ने तेजी पकड़ ली. 3 महीने से भी कम समय में 230 रुपये वाला ये शेयर 3.8 गुना चढ़कर 878 रुपये के लेवल तक जा पहुंचा. हालांकि, वहां से फिर इसमें कुछ गिरावट जरूर आई, लेकिन आईपीओ में पैसा लगाने वाले आज भी तगड़े मुनाफे में हैं.

अभी क्या चल रहा है शेयर का भाव?

अगर आज यानी शुक्रवार की बात करें तो 10.30 तक अडानी विल्मर के शेयर में करीब 1.25 फीसदी की गिरावट आ चुकी है. कंपनी का शेयर करीब 672 रुपये के आसपास ट्रेड कर रहा है. इसी लेवल के करीब अडानी विल्मर आज सुबह खुला भी था. गुरुवार को भी कंपनी का शेयर नतीजे आने के बाद थोड़ा टूटा था और 682.30 रुपये के स्तर पर बंद हुआ था.

क्या करती है कंपनी?

अडानी विल्मर कंपनी गौतम अडानी के अडानी समूह और सिंगापुर के विल्मर समूह का एक ज्वाइंट वेंचर है. यह कंपनी फॉर्च्यून ब्रांड के तहत खाने के तेल, चावल-गेहूं का आटा, चीनी, साबुन, हैंडवॉश जैसे एफएमसीजी प्रोडक्ट बेचती है. इन दिनों कंपनी को खाने के तेल की कैटेगरी में काफी चुनौतियां झेलनी पड़ रही हैं. सरकार भी समय-समय पर खाने के तेल से जुड़े कई अहम फैसले लेती है. कंपनी ने अपने बयान में कहा है कि खाने के तेल से जुड़ी चुनौतियों के चलते ही कपंनी का मुनाफा घटा है. महंगाई बहुत अधिक बढ़ जाने का असर भी कंपनी की सेल्स पर देखा जा रहा है, क्योंकि लोगों का खर्च कम हो गया है.