HDFC बैंक ने महामारी के दौरान शुरू कीं 1,000 से ज्यादा शाखाएं

By रविकांत पारीक
May 05, 2022, Updated on : Thu May 05 2022 10:51:06 GMT+0000
HDFC बैंक ने महामारी के दौरान शुरू कीं 1,000 से ज्यादा शाखाएं
महामारी के दौरान, HDFC बैंक ने हर रोज दो नई शाखाएं खोलीं, और अकेले वित्तवर्ष 2022 में 734 नई शाखाएं खोली गईं।
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

अपने "प्रोजेक्ट फ्यूचर रेडी" के तहत, आज HDFC बैंक ने घोषणा करके बताया कि यह पिछले दो सालों में अपने नेटवर्क में 1,000 से ज्यादा नई शाखाएं शामिल कर चुका है। महामारी के दौरान, बैंक ने हर रोज दो नई शाखाएं खोलीं, और अकेले वित्तवर्ष 2022 में 734 नई शाखाएं खोली गईं।


HDFC बैंक ने 31 मार्च, 2022 को भारत में एक साथ सबसे ज्यादा शाखाएं खोलने का एक नया रिकॉर्ड बनाया, जब सशि जगदीशन, एमडी एवं सीईओ, HDFC बैंक ने डिजिटल रूप से एक साथ 250 शाखाएं लॉन्च कीं। इस रिकॉर्ड को एशिया बुक ऑफ रिकॉर्ड्स और इंडिया बुक ऑफ रिकॉर्ड्स में आधिकारिक मान्यता मिली है।


31 मार्च, 2022 को बैंक के वितरण नेटवर्क में 3,188 शहरों/कस्बों में 6,342 शाखाएं और 18,130 एटीएम थे। इससे पहले बैंक ने अपने स्थायी कर्मचारी आधार में 90 प्रतिशत बढ़ोत्तरी करने की घोषणा की थी, और 31 मार्च, 2022 को बैंक के पास 141,579 कर्मचारी हो गए थे।


देश में शाखाओं के विशाल रिटेल नेटवर्क से बैंक को अपनी मौजूदगी और व्यवसाय बढ़ाने में मदद मिलेगी। बैंक शाखाएं नए ग्राहक बनाने में महत्वपूर्ण बिंदुओं के रूप में काम करती हैं और रिटेल ब्रांच बैंकिंग पिछले कुछ सालों में काफी तेजी से विकसित हुई है। "प्रोजेक्ट फ्यूचर-रेडी" के तहत बैंक के परिवर्तन का यह सफर इसके मूलभूत सिद्धांत, ‘ग्राहक पर केंद्रण’ के साथ जारी रहेगा।


अरविंद वोहरा, कंट्री हेड, रिटेल ब्रांच बैंकिंग, HDFC बैंक ने कहा, "हमारी ब्रांच बैंकिंग की रणनीति रिलेशनशिप मैनेजमेंट की कला में विज्ञान का समावेश कर इस चैनल को नए सिरे से मजबूत करने पर आधारित है।"


उन्होंने आगे कहा, "हमारी शाखाएं हमारे ग्राहकों, समाज, एवं अन्य अंशधारकों के सामने हमारे बैंक का प्रतिनिधित्व करती हैं और रिटेल एवं बिज़नेस कस्टमर रिलेशनशिप संभालती हैं। हम अपनी बैंक शाखाओं को ‘फिज़िटल’ इन्फ्रास्ट्रक्चर एस्सेट में तब्दील कर रहे हैं। संस्थागत स्थिरता के साथ कैचमेंट स्कोपिंग और माईनिंग द्वारा हम ग्राहक पर केंद्रित व्यवहार कर रहे हैं। यह हमारे अत्याधुनिक आईटी इन्फ्रास्ट्रक्चर और आर्टिफिशियल इंटैलिजेंस पर आधारित प्रेडिक्टिव विश्लेषण कला द्वारा संभव होता है। हमारा मानना है कि शाखाएं नए ग्राहक जोड़ने, वॉलेट में बड़ा हिस्सा पाने के लिए सर्वश्रेष्ठ अनुभव प्रदान करने, और ग्राहकों की निष्ठा स्थापित करने में महत्वपूर्ण संपर्क बिंदु का काम करती हैं। हमारी लगभग आधी शाखाएं अर्द्ध-शहरी और ग्रामीण इलाकों में हैं, और हम समावेशी वृद्धि में मदद करने के लिए बैंक की पहुंच का निरंतर विस्तार कर रहे हैं।"


बैंक शाखाओं के लिए प्रमुख रणनीतिक कारक हैंः

  • समग्र कस्टमर लाईफ साईकल मैनेजमेंट।
  • ग्राहकों के साथ एनालिटिक्स पर आधारित वार्ता एवं वितरण योजना उपकरण।
  • सेल्स, सर्विस एवं शाखा के संचालन का डिजिटलीकरण।
  • उत्कृष्ट ग्राहक अनुभव।
  • लोगों की क्षमता।


अपने विस्तार को गति देने के लिए बैंक ने मौजूदा वित्तवर्ष में अपने स्थायी कर्मचारी आधार में 90 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की। 13,000 से ज्यादा लोगों की अधिकांश नियुक्तियां बैंक के चार विस्तृत आपूर्ति चैनलों - शाखा बैंकिंग; टेली-सर्विस/सेल्स (वर्चुअल रिलेशनशिप मैनेजर चैनल); बिज़नेस वर्टिकल्स के साथ तालमेल में सेल्स चैनल; और डिजिटल मार्केटिंग में की गईं। इन चैनलों के माध्यम से बैंक देश के कोने-कोने में अंतिम छोर तक पहुंचता है।


भारत में प्राईवेट सेक्टर के सबसे बड़े बैंक, HDFC बैंक ने अप्रैल, 2021 में "प्रोजेक्ट फ्यूचर रेडी" के तहत संगठनात्मक परिवर्तनों का अनावरण किया, ताकि विकास की अगली लहर को बल दिया जा सके। बैंक तीन स्पष्ट क्षेत्रों बिज़नेस वर्टिकल्स, डिलीवरी चैनल्स एवं टेक्नॉलॉजी/डिजिटल में खुद को पुनः संगठित कर रहा है, ताकि बैंक इन तीनों क्षेत्रों में क्रियान्वयन को मजबूत कर भविष्य के लिए तैयार हो सके। फोकस्ड बिज़नेस वर्टिकल्स और डिलीवरी चैनल्स का निर्माण बैंक को आने वाले समय में विभिन्न कस्टमर सेगमेंट्स में अवसरों का लाभ उठाने में समर्थ बनाएगा।

हमारे दैनिक समाचार पत्र के लिए साइन अप करें