सिर्फ 20000 रुपये लगाकर इंस्टाग्राम से शुरू किया बिजनेस, हर महीने कमा रहीं 2 लाख रुपये

जयपुर की रहने वाली रितु भंसाली और उनकी दो बेटियां इंस्टाग्राम पर अपने घरेलू D2C सोशल कॉमर्स वेंचर EverythingMomMade – नैचुरल, प्रिजर्वेटिव फ्री पर्सनल ग्रूमिंग ब्रांड, के जरिए सफलता का स्वाद चख रही हैं।
4 CLAPS
0

महिला आंत्रप्रेन्योर्स के लिए वर्चुअल शॉप्स शुरू का सोशल कॉमर्स तेजी से सबसे पसंदीदा प्लेटफॉर्म बन गया है। लोग महामारी के दौरान बिजनेस शुरू करने के लिए अधिक जोखिम उठाने के लिए तैयार हो रहे हैं। ऐसे कई लोग हैं, जो स्मॉल बिजनेस शुरू करने और इसके आसपास एक कॉम्यूनिटी बनाने के लिए Instagram जैसे ऑनलाइन प्लेटफॉर्म का धड़ल्ले से प्रयोग कर रहे हैं।

49 वर्षीय रितु भंसाली ने भी कुछ ऐसा ही किया, जो अपने जीवन के अधिकांश समय तक एक गृहिणी रही है और महामारी के बीच केवल एक साल पहले ही वे आंत्रप्रेन्योर बनीं थी। जयपुर की रहने वाली यह महिला आंत्रप्रेन्योर इंस्टाग्राम पर अपनी बेटियों की मदद से एक नैचुरल, प्रिजर्वेटिव फ्री स्कीन एण्ड हेयर केयर ब्रांड EverythingMomMade चलाती हैं।

सोशल कॉमर्स बिजनेस को प्लेटफॉर्म पर 16,000 से अधिक फॉलोअर्स की अपनी कॉम्यूनिटी से बहुत प्यार मिलता है। 1,000 से अधिक रिव्यू मिल चुके हैं, जिनमें से सभी ने रितु को बेहद खुशी दी है।

रितु की बड़ी बेटी दिवा कहती है,

"यह एक गृहिणी है जो अपने कम्फर्ट ज़ोन से बाहर जा रही है और इतने सारे लोगों तक पहुंच रही है। जब वे हमारे प्रोडक्ट्स का उपयोग करने के अपने एक्सपीरियंस शेयर करते हैं, और कमेंट करते हैं, तो हमारी मां बहुत भावुक हो जाती हैं। और हर बार जब वह एक अच्छा रिव्यू पढ़ती हैं, तो वह रोती हैं।”

दिवा का कहना है कि उनकी मां एमकॉम ग्रेजुएट हैं। लेकिन 90 के दशक की शुरुआत में, लोग उन महिलाओं पर भड़क जाते थे जो बाहर जाकर काम करती थीं, और उनकी पढ़ाई के बाद शादी करना पसंद किया जाता था।

दिवा YourStory को बताती है,

“आज, घर में 360-डिग्री परिवर्तन है क्योंकि हमारी माँ एक आंत्रप्रेन्योर के रूप में अपनी नई-नई पहचान को जी रही है और बिजनेस के लिए एक के बाद एक कॉल और मीटिंग्स में व्यस्त हैं। ऐसा नहीं है कि हमें उसकी क्षमताओं पर संदेह है, लेकिन किसी ने नहीं सोचा था कि वह आर्थिक रूप से इतनी स्वतंत्र होंगी, बिजनेस चलाने की तो बात ही छोड़ दें।”

कैसे हुई शुरुआत

दिवा दो बेटियों में से सबसे साहसी हैं और लंदन, दिल्ली और मुंबई जैसे शहरों में आठ साल से घर से दूर रही है। लेकिन अब, उन्होंने अपनी माँ के बढ़ते बिजनेस को सपोर्ट करने के लिए एक पब्लिक रिलेशंस प्रोफेशनल के रूप में अपनी फुल-टाइम जॉब से फ्रीलांसिंग की ओर रुख किया है।

बेटियाँ अपनी माँ को लगभग सभी प्रकार की समस्याओं के लिए विभिन्न घरेलू उपचारों को नया करने और बिजनेस शुरू करने के लिए अपनी स्किल्स का उपयोग करने के लिए प्रेरित कर रही थीं। यह केवल महामारी के दौरान हुआ, जब उन्होंने इसकी शुरूआत की।

दिवा याद करते हुए बताती हैं,

“हमने एक इंस्टाग्राम पेज बनाया, पहले कुछ प्रोडक्ट कैटलॉग बनाए और उन्हें बताया कि पहले पांच ऑर्डर हैं जिन्हें आपको पूरा करना है और कोई दूसरा रास्ता नहीं है। इस तरह हमने शुरुआत की।”

जैसे-जैसे मांग बढ़ती गई, वैसे ही उनके कस्टमर्स की कम्यूनिटी भी बढ़ती गई, जो स्किन से संबंधित विभिन्न समस्याओं और DIYs पर रितु की सलाह लेते थे। इस समय पूरी तरह से इंस्टाग्राम के जरिए बिक्री करते हुए, EverythingMomMade हैयर, स्किन और बॉडी के लिए लगभग 175 प्रोडक्ट्स की पेशकश करता है, सभी की कीमत 150 रुपये से 800 रुपये के भीतर है। ब्रांड Amazon और Flipkart जैसे ईकॉमर्स प्लेटफॉर्म पर लिस्टेड होने के लिए उत्सुक नहीं है क्योंकि वे बड़े ब्रांड्स और महीनों पुराने स्मॉल बिजनेसेज को उसी पॉलिसी और प्रोसिज़र के अधीन करते हैं जब सर्विस और डिलिवरी फीस की बात आती है तो।

वह आगे कहती हैं,

“यह हमें कीमत बढ़ाने के लिए मजबूर करेगा जबकि हम एक कॉम्यूनिटी बनाना चाहते हैं और अपने ग्राहकों को संतुष्ट करेंगे जो हमारे ब्रांड को पसंद करते हैं। लेकिन आप कभी नहीं जानते कि ये नीतियां कब बदल जाती हैं।”

20,000 रुपये के शुरुआती निवेश से शुरू हुए इस ब्रांड का अब रेवेन्यू हर महीने लगभग 1.5 रुपये से 2 लाख रुपये के पार हो गया है।

हालांकि एक अपेक्षाकृत युवा ब्रांड, तीनों महिलाएं अपने घरेलू व्यंजनों में बड़ी संभावनाएं देखती हैं, जब पैकेज्ड ग्रूमिंग प्रोडक्ट अक्सर हानिकारक रसायनों से भरे होते हैं।

TechSci Research की एक रिपोर्ट के अनुसार, FY2020 में, भारत में पुरुष और महिला सौंदर्य बाजार का मूल्य क्रमशः $ 208.22 मिलियन और $ 226.95 मिलियन था।

EverythingMomMade के प्रोडक्ट्स

चुनौतियां और भविष्य की योजनाएं

महामारी के दौरान पहली बार बिजनेस शुरू करना आसान नहीं रहा है। दो लॉकडाउन का सामना करना और एक ओर कम सप्लाई के लिए वेंडर्स को मैनेज करना और दूसरी ओर कस्टमर्स के ऑर्डर्स को पूरा करना एक चुनौती ही रही है।

वह आगे कहती हैं,

"हम एक युवा ब्रांड हैं और कुछ ऑर्डर के लिए वेंडर्स को तेजी से आगे बढ़ने के लिए बड़े ब्रांड्स की तरह पावर और रिलेशन नहीं हैं।"

उन्हें घर से बाहर तीन-महिला सेना टीम के रूप में भी काम करना पड़ा और दूसरों को काम पर रखने में जल्दबाजी नहीं करनी पड़ी क्योंकि महामारी अभी भी एक खतरा थी।

बिजनेस में एक वर्ष के बाद, वे आने वाले वर्षों में पूरे भारत में व्यापक व्यूवर्स और कस्टमर्स तक पहुंचने की उम्मीद करती हैं।

Edited by Ranjana Tripathi