कोलकाता में 10 मिनट में शराब की होम डिलीवरी कर रहा है स्टार्टअप Booozie, दिल्ली, उड़ीसा में भी जल्द ही...

विवेकानंद बालीजेपल्ली ने अगस्त 2020 में Booozie की शुरूआत की थी. यह ऐप 10 मिनट में घर-घर शराब की डिलीवरी का वादा करता है. यह स्टार्टअप वर्तमान में कोलकाता में अपनी सर्विसेज दे रहा है और जल्द ही दिल्ली और ओडिशा में शुरू करने की योजना बना रहा है.
1 CLAP
0

हैदराबाद का डिलीवरी एग्रीगेटर Booozie 10 मिनट की डिलीवरी रेस में Swiggy, Zomato, Blinkit और Zepto में शुमार हो गया है. लेकिन एक अंतर है. एक बात है जो इसे बाकी दूसरे सभी एग्रीगेटर से अलग बनाती है. यह केवल शराब की होम-डिलीवरी करता है.

Innovent Technologies Private Limited के प्रमुख ब्रांड के रूप में विवेकानंद बालीजेपल्ली द्वारा शुरू किए गए स्टार्टअप ने 1 जून, 2022 को कोलकाता में अपना ईकॉमर्स वर्टिकल शुरू किया.

Booozie प्लेटफ़ॉर्म के 20,000 यूजर हैं. इसके पास 2,000 से ज्यादा लेबल का कैटलॉग है. स्टार्टअप ने पिछले 15 दिनों में 1,000 से ज्यादा ऑर्डर पूरे करने का दावा किया है.

कैसा रहा अब तक का सफर

Booozie को अगस्त 2020 में शुरु किया गया था. COVID-19 महामारी के चलते लगाए गए लॉकडाउन के बीच नवंबर 2020 में इसने सोशल ड्रिंकिंग और एंटरटेनमेंट प्लेटफॉर्म लॉन्च किया.

विवेकानंद एक क्वालिफाइड पायलट हैं. उन्होंने "ड्रिनफोटेनमेंट" (drinfotainment) उद्देश्यों के लिए उम्र के हिसाब से, फेसबुक जैसी कम्यूनिटी की शुरुआत की. प्लेटफॉर्म यूजर्स को अपने एक्सपीरियंस शेयर करने, रेसिपी शेयर करने, बारटेंडरों से जुड़ने आदि की सुविधा देता है. यह वो बातें हैं जिन्हें वे किसी सोशल प्लेटफॉर्म पर करने से कतराते हैं.

फाउंडर कहते हैं, “मुख्य समस्या समाज में शराब के सेवन से जुड़ी वर्जना थी. मेरा मानना ​​है कि लोगों के लिए जिम्मेदारी से शराब का सेवन करना पूरी तरह से स्वीकार्य और संभव है.”

एंड्रॉइड ऐप ने जल्द ही 15,000 से अधिक डाउनलोड पार किए, जबकि iOS वर्जन पर करीब 3,500 यूजर हैं.

लॉकडाउन के कुछ महीनों बाद, विवेकानंद ने महसूस किया कि लॉकडाउन के बीच शराब की सोर्सिंग बड़ी समस्या बन गई है. उन्होंने एक ई-कॉमर्स वर्टिकल जोड़कर इसे हल करने का फैसला किया जो घर-घर शराब की डिलीवरी करता है.

बूटस्ट्रैप्ड स्टार्टअप ने दिसंबर 2021 में कोलकाता में लाइसेंस के लिए अप्लाई किया. इसने जून 2022 में डिलीवरी करना शुरू कर दिया.

विवेकानंद कहते हैं, सरकार एक्साइज गाइडलाइंस के मुताबिक डिलीवरी करने में कंपनी की साख और क्षमताओं को देखती है. सोशल नेटवर्क—और वर्ड ऑफ माउथ— ने Booozie को अपने कस्टमर्स तक पहुंचने में मदद की.

वे कहते हैं, “Booozie लोगों को शराब से संबंधित विषयों पर जुड़ने देता है. यह शराब की डिलीवरी के लिए एक ईकॉमर्स प्लेटफॉर्म है. यह शराब का Facebook और Amazon है.”

स्टार्टअप ने हाइपरलोकल और 3 PL डिलीवरी के लिए अप्रैल 2021 में एक इन-हाउस लॉजिस्टिक्स मैनेजमेंट प्लेटफॉर्म, Gokea लॉन्च किया. इसे लास्ट-मील डिलीवरी को मैनेज करने के लिए किसी भी प्लेटफॉर्म के साथ इंटीग्रेट किया जा सकता है. Booozie डिलीवरी के लिए Gokea का भी इस्तेमाल करता है.

Booozie के डिलीवरी एग्जीक्यूटिव

10 मिनट की डिलीवरी विंडो

10 मिनट का डिलीवरी मॉडल हाल ही में आलोचना का शिकार हुआ है. लेकिन विवेकानंद का कहना है कि डिलीवरी पार्टनर्स पर अनुचित तनाव से बचने के लिए Booozie के अपने तरीके हैं.

विवेकानंद कहते हैं, “आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस के जरिए यूजर डेटा के अनुसार सबसे पसंदीदा ऑर्डर तैयार रखे जाते है. उनकी बिलिंग और बाकी सभी चीजें तैयार रहती है. डिलीवरी पार्टनर हमेशा शराब की दुकानों के बाहर तैनात रहते हैं. ऑर्डर जल्द पूरा करने में मदद करने के लिए उनके पास प्रत्येक स्टोर में एक स्टोर मैनेजर होता है.”

"इस तरह Booozie एक मिनट के भीतर ऑर्डर को डिलीवरी के लिए निकाल पाता है. इससे 10 मिनट में डिलीवरी संभव है. लेकिन, हम यह भी सुनिश्चित करते हैं कि हम अपने राइडर्स पर कोई दबाव न डालें.”

स्टार्टअप इस बात का भी ख्याल रखता है कि कस्टमर कानूनी तौर पर शराब पीने की उम्र के हैं.

विवेकानंद कहते हैं, “हमने एक पहचान सत्यापन सॉफ्टवेयर, हाइपरवर्ज को एकीकृत किया है, जो ग्राहक के आधार कार्ड की जांच करता है और एक फेस मैच करता है। आदेश तब केवल उसी व्यक्ति को दिया जाता है.”

बिजनेस मॉडल

Booozie हर दिन 400-500 ऑर्डर पूरा करने का दावा करता है. इसने कोलकाता में 18 शराब की दुकानों के साथ करार किया है. इसने 45 डिलीवरी पार्टनर्स को ऑन-बोर्ड किया है.

स्टार्टअप कस्टमर से डिलीवरी चार्जेज के जरिए रेवेन्यू कमाता है. हालांकि, फाउंडर आंकड़े नहीं बताना चाहते.

फाउंडर कहते हैं, “हम कानून के मुताबिक डिलीवरी चार्ज पर GST लगाते हैं. अलग से कोई चार्ज नहीं लिया जाता.”

स्टार्टअप को बिक्री पर स्टोर से 2-5 प्रतिशत का कमीशन मिलता है. यह इन-ऐप प्रायोरिटी लिस्टिंग के लिए शराब ब्रांडों (liquor brands) से चार्ज भी लेता है.

विवेकानंद कहते हैं, "हमारी एवरेज ऑर्डर वैल्यू 700 रुपये है." हालांकि, उन्होंने रेवेन्यू के आंकड़े नहीं बताए.

फंडिंग और भविष्य की योजनाएं

भारत 2020 में 52.5 बिलियन डॉलर के अनुमानित मार्केट साइज के साथ विश्व स्तर पर सबसे तेजी से बढ़ते मादक पेय (alcoholic beverages) बाज़ारों में से एक है. इंडियन काउंसिल फॉर रिसर्च ऑन इंटरनेशनल इकोनॉमिक रिलेशंस (ICRIER) के मुताबिक, 2020 से 2023 के बीच मार्केट के 6.8 प्रतिशत की CAGR (compound annual growth rate) से बढ़ने की उम्मीद है.

विवेकानंद के अनुसार, कोलकाता में बीयर और व्हिस्की सबसे ज्यादा बिकती हैं. Booozie सप्लाई चेन में अंतराल का आकलन करने के लिए Diageo और Bacardi जैसे मैन्युफैक्चरर्स के साथ सक्रिय रूप से जुड़ रही है.

स्टार्टअप ने हाल ही में ईकॉमर्स वर्टिकल के लॉन्च के बाद, दोस्तों और रिश्तेदारों से फंडिंग जुटाई है.

यह राज्य सरकारों से अप्रुवल मिलने के आधार पर पूरे भारत में विस्तार करने की योजना बना रहा है.

विवेकानंद कहते हैं, "दिल्ली सरकार से L-13 लाइसेंस मिलने के बाद Booozie का ईकॉमर्स वर्टिकल जल्द ही दिल्ली में सेवाएं शुरू कर देगा. हम जून के तीसरे सप्ताह तक ओडिशा में भी लाइसेंस मिलने की उम्मीद कर रहे हैं.”

Booozie अपने कोर बिजनेस को पूरा करने के लिए नॉन-अल्कोहोलिक बेवरेजेज और मिक्सर का अपना ब्रांड लॉन्च करने की तैयारी में भी है.

इस सेगमेंट में दूसरे खिलाड़ी हैं — Swiggy, Spencer’s, Zomato, और BigBasket.

विवेकानंद कहते हैं, "हालांकि, सोशल एंगेजमेंट एक मुद्दा है, जिसके चलते Booozie बाहर खड़ा है. हमारी डोमेन एक्सपर्टीज़ हमें अलग बनाती है.”

Latest

Updates from around the world