आईआईटी मुंबई के पूर्व छात्रों ने बना डाला खास 'सब्जी कूलर' जिसे चलाने के लिए नहीं किसी बिजली या ईंधन की जरूरत

By शोभित शील
October 14, 2021, Updated on : Tue Oct 19 2021 06:32:04 GMT+0000
आईआईटी मुंबई के पूर्व छात्रों ने बना डाला खास 'सब्जी कूलर' जिसे चलाने के लिए नहीं किसी बिजली या ईंधन की जरूरत
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

हरी सब्जी जैसी फसल अपने खेतों में उगाने वाले किसानों के लिए उनकी सब्जियों का रखरखाव और भंडारण सबसे प्रमुख समस्या होती है और इसके चलते उन्हें काफी नुकसान भी उठाना पड़ता है। हालांकि अब किसानों को इस समस्या से निजात दिलाने के लिए आईआईटी के कुछ पूर्व छात्रों ने एक बड़ा ही अनूठा और किफायती ‘सब्जी कूलर’ तैयार किया है।


आईआईटी मुंबई के पूर्व छात्रों द्वारा बनाया गया ये खास सब्जी कूलर बिना बिजली या किसी अन्य ईधन के चलता है और इसकी मदद लेते हुए किसान करीब एक हफ्ते तक अपनी सब्जियों को फ्रेश रख सकते हैं।

इस स्टार्टअप का है कमाल

k

फोटो साभार : सोशल मीडिया

विकास झा ने अपने साथी सरयू कुलकर्णी और गुणवंत नेहटे के साथ मिलकर अपने एग्रीटेक स्टार्टअप के जरिये किसानों की आय को बढ़ाने का लगातार प्रयास कर रहे हैं। अपने इसी प्रयास को केंद्र में रखते हुए तीनों ने इस खास सब्जी कूलर का निर्माण किया है। ठाणे आधारित स्टार्टअप रूकार्ट टेक्नालजी ने इस सब्जी कूलर के डिजाइन को तैयार किया है।


मीडिया से बात करते हुए स्टार्टअप के सह-संस्थापकों ने बताया है कि वे अपने कॉलेज के दौरान गांवों का दौरा किया करते थे और तभी उन्हें यह समझ आया था कि किस तरह किसान भंडारण और रखरखाव की परेशानियों के चलते अपनी फसल की उपज के एवज में पर्याप्त लाभ नहीं कमा पा रहे हैं। यहीं से तीनों ने सब्जी कूलर पर काम करना शुरू कर दिया था।

कोरोना के दौरान किसानों को मिली मदद

कोरोना वायरस महामारी के चलते लागू हुए देशव्यापी लॉकडाउन के चलते किसानों के सामने उनकी फसल का भंडारण को लेकर एक बड़ी समस्या पैदा हो गई थी क्योंकि वे हरी सब्जियों को अब पहले के जैसे रोजाना आसानी से बाज़ार तक नहीं पहुंचा पा रहे थे। ऐसे में सब्जी कूलर के जरिये बड़ी संख्या में किसानों ने अपनी हरी सब्जियों को बचाने का काम किया है जिससे उन्हें बड़े नुकसान से बचने में मदद मिली।


सब्जी कूलर की खासियत ये है कि इसमें दिन में कम से कम एक बार पानी की जरूरत होती है और फिर ये मिट्टी के बर्तन की तरह काम करते हुए अंदर जरूरी ठंडक बनाए रखता है। किसानों की जरूरत को ध्यान में रखते हुए स्टार्टअप ने सब्जी कूलर को विभिन्न आकार में तैयार किया है। यह सब्जी कूलर छोटे किसानों से लेकर सभी स्तर के किसानों के लिए कारगर हैं। सब्जी कूलर का इस्तेमाल कर बड़े किसान भी कोल्ड स्टोरेज के खर्च से बड़ी आसानी से निजात पा सकते हैं।

किसानों की बढ़ी कमाई

संस्थापकों का दावा है कि भंडारण के लिए सब्जी कूलर की मदद लेने वाले किसानों को पहले से करीब 30 प्रतिशत तक अधिक कीमत मिल रही है। मालूम हो कि सब्जी कूलर के अंदर 5 से 20 डिग्री सेल्सियस तक तापमान कम हो सकता है जिससे सब्जियाँ 4 से 6 दिन तक ताजी बनी रख सकती हैं।


स्टार्टअप ने उड़ीसा राज्य में 100 से भी अधिक सब्जी कूलर लगाए हैं। स्टार्टअप की तरफ से इस सब्जी कूलर को किसानों को कम कीमत के साथ किश्तों पर भी देने की बात कही जा रही है। इस साल स्टार्टअप देश के 8 राज्यों में अपने इस उतपद को ले जाने के लक्ष्य के साथ आगे बढ़

रहा है।


Edited by Ranjana Tripathi

Clap Icon0 Shares
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Clap Icon0 Shares
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close