इस इंडियन कंपनी को मिला दिवालिया हुए अमेरिकी बैंक में फंसा अपना पूरा पैसा

इस इंडियन कंपनी को मिला दिवालिया हुए अमेरिकी बैंक में फंसा अपना पूरा पैसा

Wednesday March 15, 2023,

3 min Read

इंडियन गेम डेवलपिंग फर्म Nazara Technologies ने बुधवार को अपनी स्टॉक फाइलिंग में बताया कि इसकी दो सहायक कंपनियों को सिलिकॉन वैली बैंक (Silicon Valley Bank - SVB) में जमा अपने ₹64 करोड़ को मैनेज करने की मंजूरी मिल गई है.

Kiddopia और Mediawrkz, कंपनी की दो स्टेप-डाउन सहायक कंपनियों ने SVB में संचयी रूप से 7.75 करोड़ डॉलर (₹64 करोड़) जमा होने की जानकारी दी थी. हालांकि, कंपनी ने कहा, बैंक में रखी कुल राशि का ₹60 करोड़ एसवीबी से निकालकर दूसरे बैंक खातों में ट्रांसफर कर दिया गया है. जबकि शेष ₹4 करोड़ अभी भी कारोबारी उपयोग के लिए एसवीबी खातों में जमा रखे गए हैं.

"हम बताना चाहते हैं कि दोनों कंपनियों यानी Kiddopia Inc और Mediawrkz Inc को एसवीबी में जमा 7.75 करोड़ अमरीकी डॉलर (₹64 करोड़) की पूरी राशि को मैनेज करने की मंजूरी दी गई है. इस राशि से, 7.25 करोड़ डॉलर (₹60 करोड़) की राशि SVB के बाहर के बैंक खातों में ट्रांसफर कर दी गई है और 0.5 करोड़ डॉलर (₹4 करोड़) की शेष राशि कारोबारी उपयोग के लिए SVB खातों में जमा है," कंपनी ने अपनी स्टॉक फाइलिंग रिपोर्ट में बताया.

Kiddopia Inc - Paper Boat Apps की 100% सहायक कंपनी है, जिसकी 51.5 फीसदी हिस्सेदारी Nazara के पास है. जबकि Mediawrkz Inc - Datawrkz Business Solutions की 100% सहायक कंपनी है, जिसकी 33 फीसदी हिस्सेदारी Nazara के पास है.

वहीं, सिलिकॉन वैली बैंक के दिवालिया होने से भारतीय शेयर बाजारों में नजारा टेक के शेयरों में गिरावट देखी गई. भारतीय टेक कंपनी के शेयर 13 मार्च, 2023 को ₹483.05 के अपने 52-सप्ताह के निचले स्तर पर पहुंच गए. बुधवार को बीएसई के इंट्रा-डे ट्रेड में कंपनी के शेयर ₹505.10 पर 1.26% अधिक कारोबार कर रहे थे.

भारतीय गेमिंग और स्पोर्ट्स मीडिया प्लेटफॉर्म के महत्वपूर्ण शेयर दिवंगत राकेश झुनझुनवाला की पत्नी रेखा झुनझुनवाला के स्वामित्व में हैं. वह फर्म के सबसे बड़े सार्वजनिक शेयरधारकों में से हैं. नकदी की कमी और कैलिफोर्निया स्थित एसवीबी के पतन के बाद निवेशकों के बीच नजारा के बारे में भी डर पैदा हो गया.

हालांकि, टेक कंपनी ने निवेशकों को आश्वस्त किया कि उसके निवेश और एसवीबी में जमा नकद राशि पर कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा. कंपनी ने कहा, "हमें उम्मीद है कि एसवीबी के पतन के कारण हमारी सहायक कंपनियों के दिन-प्रतिदिन के संचालन, व्यापार प्रदर्शन और विकास योजनाओं पर कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा." टेक फर्म ने SVB प्रभावित फंडों को छोड़कर ₹600 करोड़ से अधिक के नकद और नकद समकक्षों के अपने भंडार के बारे में भी बताया.