राम मंदिर के लिए राष्ट्रव्यापी फंड कलेक्शन अभियान आज से शुरू राष्ट्रपति ने दान किए 5 लाख 100 रुपए

राम मंदिर निर्माण के लिए जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ने आज से ही धन एकत्र करने का अभियान शुरू किया है, जो 27 फरवरी तक पूरे देश भर में चलेगा

राम मंदिर के लिए राष्ट्रव्यापी फंड कलेक्शन अभियान आज से शुरू राष्ट्रपति ने दान किए 5 लाख 100 रुपए

Friday January 15, 2021,

3 min Read

"चेक के जरिए राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने राम मंदिर निर्माण के लिए 5,00,100 रुपये की निधि मंदिर ट्रस्ट को सौंपी है, साथ ही झारखंड की राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू ने भी दी सहयोग राशि।"

k

रामनाथ कोविंद, साभार : सोशल मीडिया

अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए धन जुटाने के लिए श्री राम जन्मभूमि तीर्थक्षेत्र द्वारा आज से एक जन संपर्क और योगदान अभियान शुरु किया जा चुका है। ट्रस्ट ने पहले ट्वीट किया था कि मंदिर करोड़ों राम भक्तों के स्वैच्छिक योगदान से बनाया जाएगा। इस राष्ट्रव्यापी अभियान के तहत, रामभक्तों से स्वैच्छिक दान स्वीकार किया जाएगा। धन जुटाने के लिए 10 रुपये, 100 रुपये और 1,000 रुपये मूल्यवर्ग के कूपन मुद्रित किए गए हैं , जिनका उपयोग धन एकत्र करने के लिए किया जाएगा। डोर-टू-डोर अभियान मकर संक्रांति के शुभ अवसर पर शुरू हुआ है और 27 फरवरी को माघ पूर्णिमा पर समाप्त होगा।


अयोध्या में बन रहे राम मंदिर के लिए 15 जनवरी से श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र निधि संग्रह अभियान शुरू किया गया है। शुक्रवार को श्रीरामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र का प्रतिनिधिमंडल राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से मिले, जहां राष्ट्रपति ने राम मंदिर निर्माण के लिए पांच लाख 100 रूपए का दान दिया है।


श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट और वीएचपी मिलकर देश भर में राम मंदिर के निर्माण के लिए धन जुटाने का अभियान चला रहे हैं। यह अभियान करीब डेढ़ महीने तक चलेगा, जिसके माध्यम से देश भर में करीब पांच लाख से ज्यादा गांवों में 12 करोड़ से ज्यादा परिवारों से संपर्क साधा जाएगा और उनसे चंदा मांगा जाएगा


विश्व हिंदू परिषद (वीएचपी) के अनुसार, इसके कैडर देश भर में चार लाख गांवों में 10 करोड़ लोगों से धन इकट्ठा करने के लिए प्रशंसक होंगे। वीएचपी के प्रवक्ता विनोद बंसल ने कहा कि स्वयंसेवक प्रत्येक घर में भगवान राम के पोस्टर और कैलेंडर वितरित करेंगे। 


श्री राम जन्मभूमि तीर्थक्षेत्र ने ट्वीट किया था,

"यह अभियान पूरे देश में चलाया जाएगा। श्री रामजन्मभूमि मंदिर के प्रस्तावित नए मॉडल की तस्वीर भी इस अभियान के माध्यम से करोड़ों घरों तक पहुंचेगी। रामभक्तों से स्वैच्छिक दान स्वीकार किया जाएगा, जिसके लिए 10, 100 और 1,000 रुपये के कूपन उपलब्ध होंगे।"


गौरतलब है, कि मुख्य संरचना सहित अयोध्या में राम मंदिर परिसर के निर्माण पर लगभग 1,100 करोड़ रुपये खर्च होने का अनुमान है। मुख्य राम मंदिर के निर्माण की लागत 300 करोड़ रुपये से 400 करोड़ रुपये आंकी गई है। स्वामी राम गोविंद देव गिरिजी महाराज, कोषाध्यक्ष, श्री राम जन्मभूमि तीर्थक्षेत्र ट्रस्ट, ने कहा कि संरचनात्मक विशेषज्ञ और इंजीनियर मंदिर की नींव के लिए एक योजना तैयार कर रहे हैं। मुख्य मंदिर का क्षेत्रफल 2.7 एकड़ होगा। यह उम्मीद है कि 2024 तक श्री राम लला प्रतिष्ठा मंदिर के गर्भगृह में पूरा हो जाएगा।


राष्ट्रपति कोविंद के अलावा शुक्रवार को मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भी दान दिया है। उन्होंने विश्व हिंदु परिषद के राष्ट्रीय संगठन मंत्री विनायक राव देशमुख जी को 1 लाख रुपए का चेक दिया, साथ ही झारखंड की राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू ने श्रीराम जन्मभूमि मंदिर निर्माण के लिए 51 हजार एक रुपये की सहयोग राशि प्रदान की है।