केरल के इस दंपति ने अपने बेटे के साथ पास की 12वीं की परीक्षा

केरल के इस दंपति ने अपने बेटे के साथ पास की 12वीं की परीक्षा

Thursday August 06, 2020,

3 min Read

केरल के मलप्पुरम के रहने वाले मुस्तफा और नुसैबा ने अपने बेटे शम्मा के साथ 19 मार्च को 12 वीं कक्षा की परीक्षा पास की है।


क

फोटो साभार: TheLogicalIndian


शिक्षा के लिए उम्र कोई बाधा नहीं है, और इसी बात का सटीक उदाहरण पेश किया है केरल के मलप्पुरम के एक दंपति ने, जिन्होंने इस वर्ष अपने बेटे के साथ कक्षा 12 की परीक्षा दी।


बोर्ड परीक्षा परिणामों की हालिया घोषणा के साथ, मुहम्मद मुस्तफा और उनकी पत्नी नुसैबा ने कक्षा 12 की परीक्षा 19 मार्च को अपने बेटे शम्मा के साथ अच्छे अंको से पास की है।


मुस्तफा एक बिजनेसमैन है और नौकरी की तलाश में 10वीं की पढ़ाई के बाद नौकरी के लिए गल्फ चले गए थे। उन्होंने अबू धाबी में एक पशु चिकित्सा क्लिनिक में लगभग चार साल तक काम किया। अपने होमटाउन में शादी करने के बाद, दंपति फिर से गल्फ चले गए।


लगभग पांच साल पहले केरल लौटने के बाद, दंपति ने कक्षा 12 की परीक्षाओं के बारे में विभिन्न परीक्षा केंद्रों पर पूछताछ शुरू की। इसके तुरंत बाद, उन्होंने केरल साक्षरता मिशन के समकक्ष परीक्षा के बारे में जाना और रविवार की कक्षाओं के लिए दाखिला लिया।


“हम दोनों एक साथ व्यवसाय में काम करते हैं, ताकि हम पढ़ाई के लिए समय निकाल सकें। हमारा बेटा हमारे नामांकन के बारे में जानने के लिए उत्साहित था। चूँकि वह भी 12वीं में था इसलिए वह हमारी शंकाओं को दूर करने में हमारी मदद करता और सवाल भी पूछता। वह हमेशा पढ़ाई में अच्छा रहा है। 10वीं और 11वीं की दोनों ही परीक्षाओं में सभी विषयों में उसने A+ ग्रेड प्राप्त किया है।” मुस्तफा ने द न्यूज मिनट को बताया।

नुसैबा ने परीक्षा में 80 प्रतिशत से अधिक अंक हासिल किए, जबकि मुस्तफा ने अपनी कई व्यावसायिक यात्राओं के कारण कई कक्षाएं मिस कर दी जिससे उन्हें प्रथम श्रेणी में स्थान मिला।


द लॉजिकल इंडियन के अनुसार, मुस्तफा ने कहा,

"हम शुरू में इसे परिवार के भीतर रखने की कोशिश कर रहे थे, मेरी पत्नी और मेरे परीक्षा लिखने की कहानी के बारे में। चूंकि हम इतने सालों बाद परीक्षा दे रहे हैं, हम इसके बारे में थोड़ा शर्मिंदा थे।"

उन्होंने आगे कहा, "लेकिन हम समझ गए कि जब सभी लोग बधाई दे रहे हैं तो शर्मिंदा होने का कोई कारण नहीं था। हम कुछ लोगों को प्रेरित करने में भी कामयाब रहे, जिन्होंने महसूस किया कि आगे का अध्ययन जारी रखने में कभी देर नहीं होती है।"


तीनों ने अपनी हायर स्टडीज के लिए कॉमर्स स्ट्रीम चुना है। शम्मा ने चार्टर्ड अकाउंटेंसी के लिए आवेदन किया है, और उनके माता-पिता ने कॉमर्स में स्नातक की पढ़ाई करने की योजना बनाई है।


इसी तरह, इस साल जुलाई महीने की शुरूआत में, मेघालय निवासी 50 वर्षीय लैकेंटिउ सीइमलीह, चार बच्चों की मां और दो बच्चों की दादी, ने कक्षा 12 की बोर्ड परीक्षाओं को पास किया था।