केरल के पुलिस अधिकारी जब्त किए गए वाहनों में उगाते हैं जैविक सब्जियां

By yourstory हिन्दी
September 15, 2020, Updated on : Tue Sep 15 2020 05:31:23 GMT+0000
केरल के पुलिस अधिकारी जब्त किए गए वाहनों में उगाते हैं जैविक सब्जियां
अपने तरीके से स्थिरता को बढ़ावा देने के उद्देश्य से, त्रिशूर जिले के पुलिस अधिकारियों ने जब्त किए गए वाहनों में सब्जियां उगाकर उन्हें खूबसूरत बगीचे में तब्दील कर दिया है।
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

केरल पुलिस ने अपने पुलिस स्टेशन के परिसर के आसपास जब्त किए गए वाहनों का उपयोग करने के लिए एक इनोवेटिव तरीका खोजा है। अपने तरीके से स्थिरता को बढ़ावा देने की दृष्टि से, त्रिशूर जिले में चेरुथुथेरी के अधिकारियों ने कारों और भारी ऑटोमोबाइल में जैविक सब्जियां उगाना शुरू कर दिया।


द न्यूज मिनट के अनुसार, एक नागरिक पुलिस अधिकारी, रंगराज, जो एक किसान भी है, ने फसलों की खेती करने का जिम्मा उठाया। अन्य अधिकारियों - सिम्पसन, सुधाकरन, बेबी, रंजीत, रघु और अनिल ने भी इस प्रक्रिया में उनकी मदद की।

प

फोटो साभार: English Mathrubhumi

स्टेशन के एक नागरिक पुलिस अधिकारी सिम्पसन पीटी कहते हैं, “हमारे पास कुछ मिनी लॉरी थीं जिन्हें हमने रेत और मिट्टी की तस्करी के कारण जब्त कर लिया था। तीन महीने पहले, हमने उनमें सब्जियों की खेती करने का फैसला किया। यह एक सफल प्रयास था - हमने पिछले सप्ताह अपनी पहली फसल प्राप्त की। हमने अपनी पुलिस कैंटीन को सब्जियां दीं।”

चूँकि उनकी मेहनत फलदायी साबित हुई, इसलिए पुलिस अधिकारियों ने उनके काम का दायरा बढ़ाया और अन्य वाहनों में भी बीज बोना शुरू किया। अब तक, उन्होंने भिंडी, पालक और बीन्स उगाई हैं।


पुलिस थानों में बेकार पड़े वाहन आज के समय में एक आम घटना बन गए हैं। हालांकि पुलिस विभाग के पास जब्त किए गए वाहनों को नीलाम करने की मंजूरी है, लेकिन लेन-देन में कई तरह की कानूनी अड़चनें हैं।

उत्तर केरल के एक स्टेशन हाउस ऑफिसर (SHO) का कहना है, “अगर कोई वाहन किसी अवैध गतिविधि के लिए जब्त किया जाता है, तो उसके मालिक कभी भी यह दावा नहीं करना चाहेंगे कि आमतौर पर केवल चालक ही पकड़ा जाएगा। दुर्घटनाग्रस्त वाहनों के मामले में, कई बार वे अदालत के आदेश के बाद भी मालिकों द्वारा वापस नहीं लिए जाते हैं क्योंकि वे दुर्घटना में अपने प्रियजनों को खो चुके होते हैं और इसके बारे में सोचना नहीं चाहते हैं। अन्य मामलों में, फैसला आने में कुछ साल लग सकते हैं। तब तक, वाहन में जंग लग जाता है और बेकार हो जाता है, इसलिए कोई भी इसे वापस नहीं लेना चाहता है।”