एकजुटता की मिसाल: जब एयर इंडिया विमान दुर्घटना के पीड़ितों को बचाने के लिए कोझीकोड के स्थानीय लोग एकजुट हुए

By yourstory हिन्दी
August 12, 2020, Updated on : Wed Aug 12 2020 11:31:30 GMT+0000
एकजुटता की मिसाल: जब एयर इंडिया विमान दुर्घटना के पीड़ितों को बचाने के लिए कोझीकोड के स्थानीय लोग एकजुट हुए
करिप्पुर में एयर इंडिया एक्सप्रेस के विमान के दुर्घटनाग्रस्त होने के बाद पीड़ितों को बचाने के लिए कोझीकोड के स्थानीय लोग कोविड-19 महामारी के बावजूद मदद के लिये आगे आए।
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

8 अगस्त की रात, जब एक एयर इंडिया एक्सप्रेस का विमान AI-IX1344 करिप्पुर, कोझीकोड में हवाई अड्डे के रनवे से 35 फीट की दूरी पर फिसल गया, तब भारी बारिश की गर्जना एक भीषण गड़गड़ाहट से टूट गई थी। दुर्घटना में पायलट दीपक साठे और सह-पायलट अखिलेश कुमार सहित 18 लोगों की मौत हो गई और सैकड़ों लोग घायल हो गए।


बचाव दल को सलामी देते हुए पुलिस अधिकारी (फोटो साभार: Twitter)

बचाव दल को सलामी देते हुए पुलिस अधिकारी (फोटो साभार: Twitter)


हालांकि, आसपास के निवासी जल्दी ही घटनास्थल पर पहुँच गए और राहतकार्यों में जुट गए।


फजल पुटियाकथ, बचावकर्ताओं में से एक, ने द इंडियन एक्सप्रेस को बताया,

“मैंने दो बार जोर की आवाजें सुनी और सोचा कि यह गर्जना थी। हालांकि, चीख और मदद के लिए पुकार की आवाजें आने के बाद हम दस्ताने या मास्क पहने बिना बाहर भागे।”

बचावकर्ता लबीब पुकुट्टूर ने कहा, अधिकांश यात्रियों के पैर सीटों के बीच में फंसे हुए थे और हवाई अड्डे के कुछ अधिकारियों ने अपने अनुभव से स्थानीय लोगों को उन्हें बाहर निकालने के लिए निर्देशित किया।


लबीब, जो कोविड ​​फर्स्ट-लाइन ट्रीटमेंट सेंटर (सीएफएलटीसी) में कोर्डिनेटर भी हैं, ने कहा कि सभी यात्रियों को ढाई घंटे में बचाया गया।


क्षेत्र के एक अन्य निवासी पी अफ़ज़ल ने हिंदुस्तान टाइम्स को बताया,

उनमें से कई ने उन अधिकारियों की मदद की जो बचाव कार्यों के प्रभारी थे। शुरुआत में, हमने एम्बुलेंस की प्रतीक्षा नहीं की और निजी वाहनों और टैक्सियों में यात्रियों को निकाला। हमने एम्बुलेंस के लिए रास्ता बनाने में ट्रैफिक को नियंत्रित करने में पुलिस की मदद की।”

हवाई दुर्घटना में बच गए छह बच्चों को कोझिकोड के बेबी मेमोरियल अस्पताल में भर्ती कराया गया था, और स्थानीय लोगों ने अस्पताल के कर्मचारियों के अनुसार उनके माता-पिता और परिवार के सदस्यों की पहचान करने में मदद की।


बाल रोग विशेषज्ञ डॉ. अजय, जो बेबी मेमोरियल अस्पताल में काम करते हैं, ने NDTV को बताया,

स्थानीय लोगों को सलाम ... उन्होंने इन सभी बच्चों को संभाला। कोई भी बच्चा यह बताने में सक्षम नहीं था कि उनका नाम या उनके माता-पिता का नाम क्या है ... उनके पास पासपोर्ट नहीं था।

इसके अलावा, कोझिकोड के निवासियों ने इन लोगों की मदद करने के लिए कोविड-19 महामारी के बावजूद अपने आसपास के ब्लड बैंक के बाहर लाइन लगाई। कुछ नेटिज़न्स इसके बारे में ट्वीट भी किए हैं।

केरल के मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन ने भी हवाई दुर्घटना के पीड़ितों की मदद के लिए स्थानीय लोगों की त्वरित प्रतिक्रिया की सराहना करते हुए प्रयासों के बारे में ट्वीट किया। उन्होंने लिखा,

“कल, स्थानीय लोगों और अधिकारियों की तेजी से प्रतिक्रिया ने सभी अंतर मिटा दिए। उन्होंने खराब मौसम और कोविड-19 महामारी की परवाह किए बगैर लोगों को मदद की। रक्तदान करने की इच्छा रखने वाले लोगों की लंबी कतार सिर्फ एक उदाहरण था।”

राज्य की स्वास्थ्य मंत्री केके शैलजा ने कहा कि बचाव अभियानों में शामिल लोगों को चल रही महामारी पर अंकुश लगाने के लिए अलग-अलग क्षेत्रों में रखा गया है और विभिन्न संगरोध केंद्रों में रखा गया है।

एक अकेला पुलिस अधिकारी बचावदल को धन्यवाद देने और सलामी देने के लिए संगरोध केंद्रों पर गया। नेटिज़ेंस ने वायरल तस्वीर को साझा किया और उनकी सक्रिय और समयबद्ध भागीदारी के लिए उन्हें धन्यवाद दिया।


हमारे दैनिक समाचार पत्र के लिए साइन अप करें