महाशिवरात्रि: 101 साल बाद होगा अद्भुत संयोग, जानिए तिथि, पूजा का समय, इतिहास और व्रत का महत्व

By रविकांत पारीक
March 11, 2021, Updated on : Thu Mar 11 2021 06:03:12 GMT+0000
महाशिवरात्रि: 101 साल बाद होगा अद्भुत संयोग, जानिए तिथि, पूजा का समय, इतिहास और व्रत का महत्व
इस साल महाशिवरात्रि 11 मार्च को मनाई जाएगी, जो कि गुरुवार है। चतुर्दशी तिथि 11 मार्च को दोपहर 02.39 बजे से शुरू होकर 12 मार्च को दोपहर 03.02 बजे तक रहेगी।
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

दुनिया भर के हिंदू समुदाय के लिए सबसे महान और सबसे पवित्र दिनों में से एक है महाशिवरात्रि। जैसा कि नाम से पता चलता है, यह दिन भगवान शिव, विनाश के देवता को समर्पित है।


इसी तिथि पर भगवान शिव और माता पार्वती का विवाह हुआ था। महाशिवरात्रि पर भोले बाबा के भक्त उपवास (व्रत) रखते हैं। इस दिन लोग शिव मंदिरों में भगवान शिव और माता पार्वती की विशेष पूजा आराधना करते हुए शिवलिंग का जलाभिषेक करते हैं।

महाशिवरात्रि

फोटो साभार: AmarUjala

न्यूज़ चैनल आजतक की एक रिपोर्ट के मुताबिक, ज्योतिषविदों के मुताबिक, 101 साल बाद इस त्योहार पर एक विशेष संयोग बनने जा रहा है। ज्योतिषियों का कहना है कि महाशिवरात्रि के दिन शिवयोग, सिद्धियोग और घनिष्ठा नक्षत्र का संयोग आने से त्योहार का महत्व और ज्यादा बढ़ गया है। इन शुभ संयोगों के बीच महाशिवरात्रि पर पूजा बेहद कल्याणकारी मानी जा रही है।


शिवरात्रि, शिव और शक्ति का अभिसरण है - जिसका अर्थ है दुनिया को संतुलित करने वाली मर्दाना और स्त्री ऊर्जा। द्रिक पंचांग के अनुसार, दक्षिण में, माघ माह में कृष्ण पक्ष के दौरान चतुर्दशी तिथि, महाशिवरात्रि के रूप में जानी जाती है, उत्तर भारतीय कैलेंडर के अनुसार, फाल्गुन महीने में मासिक शिवरात्रि को महाशिवरात्रि के रूप में जाना जाता है। यह त्योहार एक ही दिन मनाया जाता है।


इस साल महा शिवरात्रि 11 मार्च को मनाई जाएगी, जो कि गुरुवार है। चतुर्दशी तिथि 11 मार्च को दोपहर 02.39 बजे से शुरू होकर 12 मार्च को दोपहर 03.02 बजे तक रहेगी।


द्रिक पंचांग में उल्लेख है कि पूजा से एक दिन पहले, भक्त केवल एक समय भोजन करते हैं। और शिवरात्रि के दिन - सुबह की रस्में खत्म करने के बाद - वे पूरे दिन के उपवास का पालन करने की प्रतिज्ञा करते हैं, जिसका अर्थ है कि वे अगले दिन तक कुछ भी नहीं खा सकते हैं। उपवास न केवल प्रभु का आशीर्वाद लेने के लिए किया जाता है, बल्कि आत्मनिर्णय के लिए भी किया जाता है।


शिवरात्रि के दिन, भक्तों को पूजा करने से पहले शाम को दूसरा स्नान करना चाहिए। शिव पूजा रात में की जानी चाहिए, और भक्त स्नान के बाद अगले दिन उपवास तोड़ सकते हैं। इसके अलावा, उन्हें इसे सूर्योदय के बीच और चर्तुदशी तिथि के अंत से पहले, पर्क पंचांग के अनुसार तोड़ना चाहिए।