अपने विकलांग कुत्ते की मदद के लिए इस शख्स ने बनाया खास रोबोट

रोबोट विकलांग कुत्ते को भोजन परोसता है, उसकी दिनचर्या का ख्याल रखता है और उसके स्वास्थ्य पर भी नज़र रखता है।

अपने विकलांग कुत्ते की मदद के लिए इस शख्स ने बनाया खास रोबोट

Thursday February 25, 2021,

3 min Read

COVID-19 लॉकडाउन कई लोगों के लिए एक मुश्किल समय था। प्रवासी मजदूर जो घबराकर वापस अपने गाँवों की तरफ लौट रहे थे, जो अचानक राहगीरों से मिलने वाले पैसे, और भोजन की सीमित उपलब्धता पर निर्भर होते थे। एक बात जो यह भी थी कि पालतू जानवरों को कैसे छोड़ दिया जाता है क्योंकि लोगों को डर था कि वे वायरस और उन लोगों के वाहक हो सकते हैं जिन्होंने मनुष्यों के हाथों अत्याचार और दुर्व्यवहार का सामना किया।


ऐसी ही एक कहानी जोजो की है, जिसे इतनी बुरी तरह पीटा गया कि वह अंधा हो गया और उसकी चोटों के कारण बहरा हो गया। एक अच्छे स्मार्ट शख्स ने जोजो को देखा, उसने उसे गोद लेने का फैसला किया और उसे पूरी तरह स्वास्थ्य करने का जिम्मा लिया। एक रोबोट उत्साही मिलिंद राज ने दयनीय हालत में लॉकडाउन के दौरान लखनऊ की सड़कों पर जोजो को पाया।

मिलिंद राज ने एक घायल कुत्ते को गोद लिया और एक ऐसा रोबोट बनाया जो घर में न होने पर उसकी ज़रूरतों की देखभाल करेगा। (फोटो साभार: ANI)

मिलिंद राज ने एक घायल कुत्ते को गोद लिया और एक ऐसा रोबोट बनाया जो घर में न होने पर उसकी ज़रूरतों की देखभाल करेगा। (फोटो साभार: ANI)

द लॉजिकल इंडियन के अनुसार, कुत्ते को अन्य लोगों के हाथों से हुई पिटाई से इतना आघात लगा कि वह किसी भी इंसान के करीब आने से डरता था। राज ने तुरंत जोजो को पशु चिकित्सक के पास ले जाने का फैसला किया, जिसने पुष्टि की कि कुत्ते को अपनी चोटों से उबरने के लिए बहुत अधिक ध्यान देने की आवश्यकता होगी।


जब राज ने एक रोबोट बनाया जो कि उनकी अनुपस्थिति में समय पर और नियमित अंतराल पर जोजो को खिलाएगा। एएनआई से बात करते हुए, राज ने कहा, "मुझे यह कुत्ता कोविड-19 महामारी के चरम समय के दौरान मिला। मैं उसे पशु चिकित्सक के पास ले गया, जिसने मुझे उसकी दर्दनाक स्थिति के बारे में बताया। इसलिए मैंने एक रोबोट बनाया, जो मेरी अनुपस्थिति में उसे खिलाता है और उसकी निगरानी करता है।"


राज का कहना है कि उन्होंने जोजो के लिए रोबोट बनाने की आवश्यकता महसूस की क्योंकि उसे अन्य मनुष्यों के साथ बातचीत करने में डर था। उन्होंने आगे कहा कि रोबोट भोजन परोसता हैं, जोजो की दैनिक दिनचर्या का ध्यान रखता हैं, और उसके स्वास्थ्य पर भी नज़र रखता हैं।


सात महीने बाद, जोजो अपनी अधिकांश चोटों से उबर चुका है और अपनी कुछ दृष्टि को फिर से हासिल कर रहा है।


यह पहली बार नहीं है जब राज ने मानवीय उपयोग के लिए अपने तकनीकी ज्ञान का इस्तेमाल किया है। भारत के "ड्रोन मैन" के रूप में जाने जाने वाले, उन्हें भारत के पूर्व राष्ट्रपति डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम से पुरस्कार मिला है।


कोविड-19 के चलते लगाए गए लॉकडाउन के दौरान, राज ने एक 'एंटी-कोरोना ड्रोन' प्रोटोटाइप भी विकसित किया, जिसे 'सैनिटाइटर ड्रोन' के रूप में भी जाना जाता है। इस ड्रोन में व्यापक स्वच्छता प्रक्रिया को अंजाम देने की क्षमता थी। राज ने लखनऊ में एक सड़क के बीच में 20 फीट के नाले से एक फंसे हुए पिल्ले को बचाने के लिए 2018 में एक ड्रोन भी बनाया था और अपने अनोखे नवाचार के लिए दिल जीत लिया था।