सबकी निगाहें टिकी हैं अडानी पर, इधर मुकेश अंबानी हो गए टॉप-10 अमीरों की लिस्ट से बाहर, जानिए वजह

पिछले दिनों में लोग गौतम अडानी (Gautam Adani) के तमाम शेयरों को तो देखते रहे, लेकिन मुकेश अंबानी के बारे में लोगों ने बात करना जैसे बंद ही कर दिया. अभी अमीरों की लिस्ट में मुकेश अंबानी टॉप-10 से बाहर हो चुके हैं और काफी नीचे आ गए हैं.

सबकी निगाहें टिकी हैं अडानी पर, इधर मुकेश अंबानी हो गए टॉप-10 अमीरों की लिस्ट से बाहर, जानिए वजह

Friday March 17, 2023,

3 min Read

 पिछले कुछ दिनों में शेयर बाजार में भारी गिरावट (Share Market Falling) देखी गई है. इसकी सबसे बड़ी वजह रही अमेरिका के सिलिकॉन वैली बैंक (Silicon Valley Bank) का डूब जाना. हालांकि, इस गिरावट में लोग गौतम अडानी (Gautam Adani) के तमाम शेयरों को तो देखते रहे, लेकिन मुकेश अंबानी के बारे में लोगों ने बात करना जैसे बंद ही कर दिया. बता दें कि पिछले कुछ दिनों में मुकेश अंबानी की कंपनी रिलायंस (Reliance) के शेयरों में भी भारी गिरावट देखने को मिली है. इस गिरावट की वजह से फोर्ब्स की अमीरों की लिस्ट में मुकेश अंबानी टॉप-10 से बाहर हो चुके हैं और काफी नीचे आ गए हैं.

पहले जानिए किस पोजीशन पर हैं मुकेश अंबानी

फोर्ब्स की लिस्ट में मुकेश अंबानी 13वें नंबर पर पहुंच गए हैं. कुछ दिन पहले तक वह लंबे समय से 8वें नंबर पर थे. उनकी दौलत भी लगातार 85-86 अरब डॉलर के पास रहती थी. वहीं अब उनकी दौलत 80 अरब डॉलर से भी नीचे आ चुकी है. अभी मुकेश अंबानी की दौलत 79.8 अरब डॉलर हो गई है. अगर बात करें गौतम अडानी की तो वह 48.3 अरब डॉलर की दौलत के साथ 24वें नंबर पर हैं.

क्यों घटी है मुकेश अंबानी की दौलत?

मुकेश अंबानी की दौलत में गिरावट की वजह है उनकी कंपनी रिलायंस के शेयरों के दाम में भारी गिरावट आना. हाल ही में रिलायंस के शेयरों ने 52 हफ्तों यानी 1 साल का न्यूनतम स्तर छू लिया था. रिलायंस का शेयर 2202.20 रुपये के लेवल तक गिर गया था. देखा जाए तो सिर्फ इस साल में रिलायंस के शेयरों में 13 फीसदी तक की गिरावट देखने को मिली. इस गिरावट की वजह से कंपनी का मार्केट कैप 15 लाख करोड़ रुपये से भी नीचे पहुंच गया था. इसकी दो बड़ी वजहें हैं. पहली ये कि एफआईआई शेयर बेच रहे हैं और मुनाफा लेकर बाहर निकल रहे हैं. वहीं भारती एयरटेल से लड़ाई में जियो की तरफ से कई सस्ते प्लान लाए गए हैं, जिनके चलते कंपनी का प्रति यूजर रेवेन्यू काफी दबाव में है. इसके चलते भी कंपनी के शेयर दबाव झेल रहे हैं.

लंबे वक्त से मामूली रिटर्न दे रहा है रिलायंस का शेयर

भले ही रिलायंस इस वक्त मार्केट कैप के लिहाज से देश की सबसे बड़ी कंपनी है, लेकिन लंबे वक्त से इसका प्रदर्शन बहुत ही छोटे दायरे में सिमट कर रह गया है. करीब 2 सालों से कंपनी का शेयर 2300-2500 रुपये के लेवल के बीच घूम रहा है. कभी थोड़ा ऊपर निकल भी जाता है तो फिर से नीचे गिरने लगता है. ऐसे में यह शेयर लोगों के बहुत कम आकर्षक हो गया है. ना तो ट्रेडर्स इसकी ओर खिंच रहे हैं ना ही निवेशक.

आने वाले दिनों में फिर आ सकती है तेजी

अभी भले ही रिलायंस अपने साल भर के निचले स्तर के बेहद करीब है, लेकिन आने वाले दिनों में इसमें तेजी देखने को मिल सकती है. जेपी मॉर्गन ने भी कहा है कि अगले दो सालों में कंपनी का बिजनेस और ग्रोथ तेजी से बढ़ेंगे. इस ब्रोकरेज फर्म को तो उम्मीद है कि यह शेयर 2960 रुपये तक जा सकता है. यानी मौजूदा स्थिति से करीब 30 फीसदी तक की तेजी देखने को मिल सकती है. हालांकि, इस शेयर में आने वाले दिनों में तेजी आएगी या नहीं, ये देखना दिलचस्प होगा.