राष्ट्रीय टीकाकरण दिवस: जानिए क्या है इस दिन का इतिहास और महत्व

भारत में, राष्ट्रीय टीकाकरण दिवस पहली बार 16 मार्च, 1995 को मनाया गया था। इस दिन भारत में ओरल पोलियो वैक्सीन की पहली खुराक दी गई थी।
108 CLAPS
0

हर साल 16 मार्च को राष्ट्रीय टीकाकरण दिवस (National Vaccination Day) या National Immunization Day के रूप में मनाया जाता है। यह पहली बार उस समय मनाया गया था जब 1995 में राष्ट्रीय पल्स पोलियो टीकाकरण अभियान शुरू किया गया था।

वहीं, इस साल चल रहे कोविड-19 टीकाकरण अभियान के कारण, इस दिन का महत्व अधिक है। जैसा कि भारत में 3 करोड़ से अधिक टीके लगाए जा चुके हैं, वर्तमान में, टीकाकरण अभियान अपने दूसरे चरण में है जिसमें 45 से 60 वर्ष और उससे अधिक आयु के नागरिक शामिल हैं।

16 मार्च 1995 को देश में पहली बार राष्ट्रीय टीकाकरण दिवस मनाया गया था (प्रतीकात्मक चित्र)

टीकाकरण क्या है

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के अनुसार, टीकाकरण (Vaccination / immunization) एक स्वास्थ्य और विकास की सफलता की कहानी है। यह एक ऐसी प्रक्रिया है जिसके माध्यम से किसी व्यक्ति की प्रतिरक्षा प्रणाली विदेशी नुकसान पहुंचाने वाले एजेंट के खिलाफ दृढ़ हो जाती है।

टीके एंटीबॉडी बनाने के लिए एक व्यक्ति की प्रतिरक्षा प्रणाली को प्रशिक्षित करते हैं। टीके, वायरस या बैक्टीरिया जैसे कीटाणुओं को कमजोर या तो खत्म कर देते हैं या कमजोर कर देते हैं जो बीमारी का कारण नहीं बन सकते हैं, लेकिन एंटीबॉडी बनाते हैं जो शरीर की रक्षा करते हैं जब रोग का एक सक्रिय और मजबूत रूप शरीर पर हमला करता है।

राष्ट्रीय टीकाकरण दिवस का इतिहास

भारत में, राष्ट्रीय टीकाकरण दिवस पहली बार 16 मार्च, 1995 को मनाया गया था। इस दिन भारत में ओरल पोलियो वैक्सीन की पहली खुराक दी गई थी। भारत से पोलियो को खत्म करने के लिए सरकार द्वारा पल्स पोलियो अभियान (Pulse Polio Campaign) शुरू किया गया था।

इस अभियान के तहत, 5 वर्ष की आयु से कम आयु के सभी बच्चों को ओरल पोलियो वैक्सीन की 2 बूंदें दी गई थीं। 2014 में, भारत को पोलियो मुक्त घोषित किया गया था। पिछले कुछ दशकों में, टीटनस, पोलियो, टीबी जैसी खतरनाक और अत्यधिक घातक बीमारियों से लड़ने के लिए टीके एक अभिन्न उपकरण बन गए हैं और लाखों लोगों को बचाया है।

राष्ट्रीय टीकाकरण दिवस का महत्व

आज की दुनिया में टीकाकरण के महत्व को कम नहीं किया जा सकता है। मनुष्य को ज्ञात घातक और खतरनाक बीमारियों को रोकने के लिए टीके सबसे प्रभावी उपाय हैं। दुनिया भर में व्यापक टीकाकरण अभियानों के परिणामस्वरूप दुनिया के प्रमुख हिस्सों से चेचक, खसरा, टिटनस जैसे अत्यधिक संक्रामक और खतरनाक बीमारियों का खात्मा हुआ है।