ज्वाइनिंग में देरी के कारण 1800 से अधिक फ्रेशर्स की नौकरी अधर में लटकी: रिपोर्ट

ज्वाइनिंग में देरी के कारण 1800 से अधिक फ्रेशर्स की नौकरी अधर में लटकी: रिपोर्ट

ज्वाइनिंग में देरी के कारण 1800 से अधिक फ्रेशर्स की नौकरी अधर में लटकी: रिपोर्ट

Friday March 31, 2023,

3 min Read

हालिया सर्वे से पता चला है कि कैंपस प्लेसमेंट के दौरान टॉप मल्टी-नेशनल कंपनियों द्वारा भर्ती किए गए 1,800 से अधिक फ्रेशर्स लगभग एक साल से ज्वाइनिंग लेने का इंतजार कर रहे हैं.

फोरम फॉर आईटी एम्प्लॉइज (FITE) के एक सर्वे से पता चला है कि 1,000 भर्तीकर्ता अकेले तेलंगाना से हैं. टाइम्स ऑफ इंडिया ने बताया कि कुछ कंपनियां पिछले साल के बैच के छात्रों को ज्वाइनिंग दिए बिना इस साल भी कैंपस के चक्कर लगा रही हैं.

इसके अलावा, सर्वे में नौकरी से संबंधित मुद्दों पर प्रकाश डाला गया है, जैसे कि ऑफर मिलने के बाद ऑनबोर्डिंग में देरी और ऑफर लेटर को रद्द करना. कुल 2,000 प्रतिक्रियाओं में से, लगभग 90% उम्मीदवार ऑनबोर्डिंग में देरी से प्रभावित हुए.

सी विनोद कुमार, तेलंगाना के FITE संयोजक ने समाचार एजेंसी एएनआई को बताया कि हजारों फ्रेशर्स का करियर प्रभावित हो रहा है क्योंकि कंपनियां ऑफर लेटर का सम्मान नहीं कर रही हैं. कुमार ने कहा कि यह लगभग दो साल से हो रहा है और उन्होंने तेलंगाना सरकार से हस्तक्षेप करने को कहा है.

पिछले महीने लाइवमिंट ने खबर दी थी कि 2022 बैच के कई इंजीनियरिंग छात्रों को स्टार्टअप्स में नौकरी की तलाश में भी ऑनबोर्डिंग में देरी का सामना करना पड़ा.

वैश्विक मंदी के रूप में, आईटी सर्विस कंपनियां ऑनबोर्डिंग में देरी कर रही हैं और कार्यक्रम की पेशकश में बदलाव कर रही हैं, जिससे इंजीनियरिंग स्नातक अनिश्चितता की स्थिति में हैं. रोजगार के तंग बाजार ने स्नातकों के सामने आने वाली चुनौतियों को और बढ़ा दिया है.

बड़ी आईटी सर्विस कंपनियां - टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज, विप्रो, एचसीएल टेक, इंफोसिस और टेक महिंद्रा - ने वित्त वर्ष 23 की शुरुआत में वर्ष के लिए 180,000 फ्रेशर्स की संयुक्त भर्ती का अनुमान लगाया.

विप्रो में शामिल होने वाले फ्रेशर्स को भी देरी का सामना करना पड़ रहा है. विप्रो ने एलीट प्रोग्राम (₹3.5 लाख की सैलरी) के तहत छात्रों को हायर किया, और उनमें से कुछ को जावा और फुल स्टैक टेक्नोलॉजी में प्रशिक्षित किया गया, और टर्बो प्रोग्राम (₹6.5 लाख की सैलरी) में हायर किया. अब, कंपनी ने बाद वाले को एलीट प्रोग्राम के तहत भूमिका निभाने के लिए कहा है, जिसका अर्थ है सैलरी में कटौती. एलीट प्रोग्राम के तहत आने वाले विप्रो के साथ अपने भविष्य पर सवाल उठा रहे हैं.

विप्रो ने जवाब दिया, "मार्केट का बदलते हालात और इसके परिणामस्वरूप, हमारी व्यावसायिक ज़रूरतों को देखते हुए, हमें अपनी ऑनबोर्डिंग योजनाओं को समायोजित करना पड़ा."

यह भी पढ़ें
Layoffs: Unacademy ने 12% और Virgin Orbit ने 85% कर्मचारियों को नौकरी से निकाला


Edited by रविकांत पारीक