जानें रेलवे कोचों को COVID-19 वार्डों में बदलने का आइडिया किसने दिया था?

By yourstory हिन्दी
July 15, 2020, Updated on : Wed Jul 15 2020 11:36:34 GMT+0000
जानें रेलवे कोचों को COVID-19 वार्डों में बदलने का आइडिया किसने दिया था?
वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से इंडिया फाउंडेशन डायलॉग 70 को संबोधित करते हुए, रेल मंत्री पियुष गोयल ने कहा कि 5,000 से अधिक कोचों को राष्ट्रीय ट्रांसपोर्टर द्वारा परिवर्तित किया गया है, जिसमें 80,000 आइसोलेशन बेड अब तैयार हैं।
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

केंद्रीय रेल मंत्री पीयूष गोयल का कहना है कि भारतीय रेलवे के डिब्बों को आइसोलेशन वार्ड में बदलने का विचार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दिया था।


k

फोटो साभार: theweek


रेल मंत्री के अनुसार, राष्ट्रव्यापी तालाबंदी लागू होने से पहले ही पीएम मोदी ने ही ये इनोवेटिव आइडिया दिया था। गोयल के अनुसार, पीएम मोदी ने उन्हें एक दिन यह पूछने के लिए बुलाया कि क्या रेलवे के डिब्बों को आइसोलेशन वार्ड में बदला जा सकता है?


एएनआई की एक रिपोर्ट में गोयल के हवाले से कहा गया था कि भारतीय रेलवे के कर्मचारियों ने कड़ी मेहनत की और स्वास्थ्य मंत्रालय के परामर्श से उन्होंने पूरा डिजाइन तैयार किया। वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से इंडिया फाउंडेशन डायलॉग 70 को संबोधित करते हुए, रेल मंत्री ने कहा कि 5,000 से अधिक कोचों को राष्ट्रीय ट्रांसपोर्टर द्वारा परिवर्तित किया गया है, जिसमें 80,000 आइसोलेशन बेड अब तैयार हैं।


रेल मंत्री के अनुसार, मार्च महीने के बाद से, राष्ट्रीय ट्रांसपोर्टर ने बहुत दूर-दराज के क्षेत्रों में दवाओं, खाद्यान्न, दूध, उर्वरक, कोयला पेट्रोलियम उत्पादों की पर्याप्त आपूर्ति सुनिश्चित करने के लिए लॉकडाउन अवधि में मालगाड़ियों को नॉन-स्टॉप संचालित किया है।


उन्होंने कहा कि लगभग 4,611 श्रमिक स्पेशल ट्रेन सेवाओं ने 63 लाख से अधिक फंसे प्रवासियों को उनके गंतव्य तक पहुँचाया। प्रवासी यात्रियों को यात्रा के दौरान भोजन और पानी उपलब्ध कराया गया था। गोयल ने कहा कि 18 जून 2020 तक, 1.85 करोड़ भोजन के साथ-साथ 3.12 करोड़ पीने के पानी के पैकेट प्रवासी यात्रियों को उनके रेलवे यात्रा के दौरान प्रदान किए गए थे।


गोयल के अनुसार, वर्तमान में प्रवासी ट्रेनों की कोई मांग नहीं है। उन्होंने कहा कि कल कोई श्रमिक ट्रेन सेवा नहीं चलाई गई थी। उन्होंने आगे कहा कि राष्ट्रीय ट्रांसपोर्टर किसी अन्य व्यक्ति पर निर्भर किए बिना अपनी जरूरतों के लिए व्यक्तिगत सुरक्षात्मक उपकरण जैसे फेस मास्क, हैंड सैनिटाइज़र बनाने में सक्षम था। वर्तमान में चल रहे नोवेल कोरोनावायरस महामारी के कारण रेलगाड़ियाँ अपनी क्षमता के अनुसार नहीं चल रही हैं क्योंकि रेल यात्री अभी भी सार्वजनिक परिवहन में यात्रा करने के लिए तैयार नहीं हैं।


भारतीय रेलवे के 167 साल के इतिहास में, यह पहली बार है जब यात्री ट्रेनें पूरी क्षमता से नहीं चल रही हैं। राष्ट्रीय ट्रांसपोर्टर ने देश भर में 125 जोड़ी ट्रेनों को विशेष ट्रेन सेवाओं के रूप में शुरू किया था, लेकिन भारतीय रेलवे अभी भी अपने यात्री यातायात की पूरी क्षमता तक नहीं पहुंच पाया है। वर्तमान में, यात्रियों की औसत अधिभोग लगभग 70% है। उन्होंने कहा कि कुछ ही ट्रेनें भरी जा रही हैं।



Edited by रविकांत पारीक

Clap Icon0 Shares
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Clap Icon0 Shares
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close