'मन की बात' में बोले पीएम मोदी, स्टार्टअप्स के जरिये भारतीय युवा वैश्विक समस्याओं के समाधान में दे रहे हैं अपना योगदान

प्रधानमंत्री मोदी ने स्टार्टअप इकोसिस्टम, निवेशकों और यूनिकॉर्न्स को लेकर बात की। पीएम मोदी ने कहा कि स्टार्टअप्स के जरिये भारतीय युवा ग्लोबल प्रॉब्लम्स के समाधान में भी अपना योगदान दे रहे हैं।
0 CLAPS
0

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आकाशवाणी से मन की बात कार्यक्रम के 83वें एपिसोड में देश की जनता को संबोधित किया। पीएम मोदी ने कहा कि साथियों, अमृत महोत्सव, सीखने के साथ ही हमें देश के लिए कुछ करने की भी प्रेरणा देता है। और अब तो देश-भर में आम लोग हों या सरकारें, पंचायत से लेकर पार्लियामेंट तक, अमृत महोत्सव की गूंज है और लगातार इस महोत्सव से जुड़े कार्यक्रमों का सिलसिला चल रहा है।

प्रधानमंत्री मोदी ने स्टार्टअप इकोसिस्टम, निवेशकों और यूनिकॉर्न्स को लेकर बात की। पीएम मोदी ने कहा कि स्टार्टअप्स के जरिये भारतीय युवा ग्लोबल प्रॉब्लम्स के समाधान में भी अपना योगदान दे रहे हैं। स्टार्टअप की सफलता के कारण हर किसी का उस पर ध्यान गया है और जिस प्रकार से देश से, विदेश से, निवेशकों से उसे समर्थन मिल रहा है। प्रधानमंत्री ने कहा कि शायद कुछ साल पहले उसकी कोई कल्पना भी नहीं कर सकता था। पीएम मोदी ने कहा कि आज भारत में 70 से अधिक Unicorns हो चुके हैं। उन्होंने कहा कि 70 से अधिक स्टार्ट-अप ऐसे हैं जो एक अरब से ज्यादा के वैल्यूएशन को पार कर गए हैं।

युवाओं से समृद्ध हर देश में तीन चीजें बहुत मायने रखती हैं। अब वही तो कभी-कभी युवा की सच्ची पहचान बन जाती है। पहली चीज है – Ideas और Innovation। दूसरी है – जोखिम लेने का जज्बा और तीसरी है – Can Do Spirit यानी किसी भी काम को पूरा करने की जिद्द, चाहे परिस्थितियाँ कितनी भी विपरीत क्यों न हों - जब ये तीनों चीजें आपस में मिलती हैं तो अभूतपूर्व परिणाम मिलते हैं। चमत्कार हो जाते हैं। आज कल हम चारों तरफ सुनते हैं Start-Up, Start-Up, Start-Up। सही बात है, ये Start-Up का युग है, और ये भी सही है कि Start-Up की दुनिया में आज भारत विश्व में एक प्रकार से नेतृत्व कर रहा है। साल-दर-साल Start-Up को record निवेश मिल रहा है। ये क्षेत्र बहुत तेज रफ़्तार से आगे बढ़ रहा है। यहाँ तक कि देश के छोटे-छोटे शहरों में भी Start-Up की पहुँच बढ़ी है। आज कल ‘Unicorn’ शब्द खूब चर्चा में है। आप सबने इसके बारे में सुना होगा। ‘Unicorn’ एक ऐसा Start-Up होता है जिसका valuation कम से कम 1 Billion Dollar होता है यानी करीब-करीब सात हज़ार करोड़ रूपए से ज्यादा।

उन्होंने आगे कहा, साल 2015 तक देश में बमुश्किल नौ या दस Unicorns हुआ करते थे। आपको ये जानकार बेहद ख़ुशी होगी कि अब Unicorns की दुनिया में भी भारत तेज उड़ान भर रहा है। एक रिपोर्ट के मुताबिक इसी साल एक बड़ा बदलाव आया है। सिर्फ 10 महीनों में ही भारत में हर 10 दिन में एक Unicorn बना है। ये इसलिए भी बड़ी बात है क्योंकि हमारे युवाओं ने ये सफलता कोरोना महामारी के बीच हासिल की है। आज भारत में 70 से अधिक Unicorns हो चुके हैं। यानि 70 से अधिक Start-Up ऐसे हैं जो 1 Billion से ज्यादा के valuation को पार कर गए हैं। Start-Up की सफलता के कारण हर किसी का उस पर ध्यान गया है और जिस प्रकार से देश से, विदेश से, निवेशकों से उसे समर्थन मिल रहा है। शायद कुछ साल पहले उसकी कोई कल्पना भी नहीं कर सकता था।

 Start-Ups के जरिये भारतीय युवा Global Problems के समाधान में भी अपना योगदान दे रहे हैं। कुछ सालों पहले यदि कोई कहता था कि वो business करना चाहता है या एक कोई नई कंपनी शुरू करना चाहता है, तब, परिवार के बड़े-बुजुर्ग का जवाब होता था कि – “तुम नौकरी क्यों नहीं करना चाहते, नौकरी करो ना भाई। अरे नौकरी में security होती है salary होती है। झंझट भी कम होती है। लेकिन, आज यदि कोई अपनी कंपनी शुरू करना चाहता है तो उसके आस-पास के सभी लोग बहुत उत्साहित होते हैं और इसमें उसका पूरा support भी करते हैं। भारत की growth story का यह turning point है, जहाँ अब लोग सिर्फ Job seekers बनने का सपना नहीं देख रहे बल्कि job creators भी बन रहे हैं। इससे विश्व मंच पर भारत की स्थिति और मज़बूत बनेगी।

उन्होंने अंत में कहा, "ये कभी मत भूलना कोरोना अभी गया नहीं है। सावधानी बरतना हम सब की जिम्मेवारी है।"

Latest

Updates from around the world