भारत की कृषि योग्य भूमि को बंजर होने से बचाने में लगा है एग्रीटेक स्टार्टअप KhetiGaadi

पुणे स्थित एग्रीटेक स्टार्टअप KhetiGaadi ने किसानों को फसल और कृषि संबंधी मुद्दों के लिए तकनीकी और विज्ञान समर्थित सहायता प्रदान करने के लिए अप्रैल 2022 की शुरुआत में KhetiGuru की शुरुआत की।
3 CLAPS
0

भारत के कुछ सबसे बड़े कृषि उत्पादक राज्यों की ओर गौर करें तो कई तरह के सवाल उठते हैं। देश के अंदरूनी हिस्सों में कृषि योग्य भूमि के बड़े हिस्से बंजर पड़े हैं।

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के एक अध्ययन से पता चला है कि जलवायु परिवर्तन और खराब कृषि पद्धतियों के कारण आज भारत के 30 प्रतिशत खेत बंजर हो चुके हैं।

यहां तक ​​​​कि किसान भी करियर बदल रहे हैं, शहरों में हरियाली वाले चरागाहों की तलाश में जा रहे हैं, आंकड़े तो यही बता रहे हैं। 2011 की जनगणना के एक अध्ययन से पता चला है कि हर दिन 2,000 किसान खेती छोड़ रहे हैं।

ऐसे में, पुणे स्थित एग्रीटेक स्टार्टअप KhetiGaadiइस स्थिति को बदलने की उम्मीद करता है।

किसानों को ट्रैक्टर खरीदने, बेचने और किराए पर लेने में मदद करने वाले मार्केटप्लेस के रूप में 2016 में स्थापित, KhetiGaadi आज किसानों के लिए एक ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म के रूप में विकसित हो गया है। यह खेती के उपकरण, बीज, पोषक उर्वरक, और खेती से संबंधित दूसरे प्रोडक्ट्स की बिक्री करता है, साथ ही ट्रैक्टर के लिए लोन, फसल बीमा इत्यादि जैसी फिनटेक सेवाएं प्रदान करता है - किसानों को एक प्लेटफॉर्म पर सेवाओं की एक रेंज तक पहुंचने में मदद करता है।

स्टार्टअप पहले की तुलना में दो क्षेत्रों में अधिक सार्थक और गहराई से आगे बढ़ रहा है:

  1. किसानों को सलाहकार सेवाएं प्रदान करना
  2. किसानों को मिट्टी के सूक्ष्म पोषण को समझने में मदद करना और इसकी कमी को और अधिक बारीकी से संबोधित करना

स्टार्टअप का दावा है कि उसके ऐप पर 50 लाख से अधिक किसान हैं, साथ ही हजारों फार्म OEM और ट्रैक्टर डीलर हैं जो इसके नेटवर्क को सेवाएं प्रदान करते हैं।

सलाहकार सेवाएं

विष्णु धास और प्रवीण शिंदे द्वारा स्थापित, KhetiGaadi ने इस महीने की शुरुआत में किसानों के लिए एक मुफ्त सलाहकार मंच, KhetiGuru लॉन्च किया।

KhetiGuru के तहत, किसानों को दो प्रकार की बुनियादी सेवाएं मिलती हैं:

  • कृषि के औजारों की सिफारिशें: किसान की जमीन के कुल आकार, जिसमें वह फसल उगा रहा है, और अन्य कारकों को देखते हुए, KhetiGuru ऐसे उपकरण सुझाता है जो बेहतर खेती करने में किसान की मदद करेंगे।
  • कृषि इनपुट सिफारिशें: स्टार्टअप किसानों को उनकी भूमि के साथ किसी भी समस्या का निवारण करने में मदद करता है, जैसे कि मिट्टी के पोषण में गिरावट, बीज रोग, कीट, फसल की हानि, आदि। यह हस्तक्षेप, खासकर अगर यह समय पर किया जाता है, तो संभावित रूप से खेतों को बंजर होने से रोक सकता है, स्टार्टअप ने दावा किया है।

मुफ्त सलाहकार सेवा का लाभ उठाने के इच्छुक किसी भी व्यक्ति को एक नंबर (8007003377) पर कॉल करना होगा, और वे KhetiGaadi के पैनल के 50 कृषिविदों में से एक से जुड़ेंगे, जो किसान के साथ इस मुद्दे पर बात करेंगे, विष्णु ने YourStory से बात करते हुए बताया।

वह आगे कहते हैं, "KhetiGuru का उद्देश्य पूरे फसल चक्र में किसानों को संभालना है, और मिट्टी के सूक्ष्म पोषण पर ध्यान केंद्रित करके हानिकारक रसायनों जैसे कीटनाशकों के उपयोग को कम करने में उनकी मदद करना है, जो मिट्टी की क्षमता को कम करते हैं।"

फोटो साभार: KhetiGaadi

KhetiGaadi ने मिट्टी के पोषण की खुराक और अन्य प्राकृतिक उत्पादों की अपनी लाइन भी विकसित की है जो फसलों को बेहतर ढंग से विकसित करने में मदद कर सकती है, जो कि किसी भी मुद्दे से जूझ रहे किसानों को सलाह देती है। स्टार्टअप का दावा है कि उत्पादों - जिनमें से कुछ नैनो टेक्नोलॉजी का उपयोग करते हैं - को आकार लेने के लिए छह महीने के कठोर शोध और विकास का समय लगा। विष्णु कहते हैं कि दोनों फाउंडर व्यक्तिगत रूप से उनके निर्माण में शामिल थे।

कृषि उपकरण सलाहकार सेवा, जो मुफ़्त है, अक्सर स्टार्टअप के लिए बिक्री में तब्दील हो जाती है क्योंकि वे प्लेटफॉर्म पर ही आसानी से उपलब्ध हैं और किसानों को उनकी तलाश में बाहर नहीं जाना पड़ता है।

विष्णु कहते हैं, 2 अप्रैल से, जब इसे लॉन्च किया गया था, लगभग 3,000 किसानों ने KhetiGuru की सेवाओं का लाभ उठाया है। को-फाउंडर अब प्रोडक्ट्स को उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश और गुजरात जैसे कृषि राज्यों में ले जाने पर ध्यान केंद्रित कर रहे हैं।

शून्य से 1 तक

Khetigaad की बहुत सारी सफलता को दो फाउंडर्स के अपने बैकग्राउंड तक ही सीमित किया जा सकता है। विष्णु और प्रवीण दोनों महाराष्ट्र के किसान परिवारों से आते हैं, और उन्होंने अपने माता-पिता को दिन-रात मेहनत करते देखा था।

विष्णु के लिए, यह उनमें बहुत छोटी उम्र से, अपने दम पर कुछ बनाने की इच्छा पैदा करता था, और जब वह बड़े हो रहे थे तब भी वह एक मेहनती बच्चे थे। सात साल की उम्र में, उन्हें एक खेत में मूंगफली का बीज बोने का काम मिला, जिसके लिए उन्हें 50 पैसे प्रति किलो के हिसाब से भुगतान किया गया, जिससे उन्हें अपने माता-पिता पर निर्भर किए बिना स्नैक्स और चॉकलेट खरीदने की आजादी मिली, जो पहले से ही कड़ी मेहनत कर रहे थे।

लगभग 13 साल की उम्र में, विष्णु ने स्टील के छल्ले बनाने वाली एक मैन्युफैक्चरिंग युनिट में काम किया, और अपनी ट्यूशन और स्कूल के लिए भुगतान किया। और फिर, 16 साल की उम्र में वीडियो कैसेट लाइब्रेरी में, जिसने उनकी कॉलेज की शिक्षा के लिए भुगतान किया। कॉलेज के बाद, उन्होंने जनसंपर्क और कॉर्पोरेट संचार उद्योग में लगभग 20 साल बिताए।

साथ ही, महाराष्ट्र के सतारा जिले के एक किसान परिवार से ताल्लुक रखने वाले प्रवीण ने कृषि विज्ञान में स्नातक की डिग्री हासिल की, और बाद में, अपने भाई की कृषि रसायन और उर्वरक फर्म में काम करते हुए 10 साल से अधिक समय बिताया - एक ऐसा कार्यकाल जिसने उन्हें हजारों किसानों के करीब ला दिया, भारत के अग्रणी कृषि जिलों में से एक में।

यह 2015 के अंत में था जब दोनों एक जान-पहचान वाले की शादी में मिले और करीबी दोस्त बन गए। फिर, उन्होंने लगभग उसी समय भारत के गांवों के लिए अपना कुछ बनाने का फैसला किया।

KhetiGaadi ने एक साल के भीतर 50,000 किसानों को प्लेटफॉर्म पर साइन अप किया और यह संख्या केवल बढ़ी है। YourStory के साथ 2020 के एक इंटरव्यू में, फाउंडर्स ने दावा किया कि प्लेटफॉर्म पर लगभग चार मिलियन किसान थे।

को-फाउंडर्स कहते हैं, दो साल में यह संख्या बढ़कर पांच लाख हो गई है। 2020 में इसकी ग्रॉस मर्चेंडाइज वॉल्यूम (GMV) 50 करोड़ रुपये थी, जो वित्त वर्ष 2021-2022 में बढ़कर 1,500 करोड़ रुपये हो गई। और, पिछले पांच वर्षों में कुल GMV लगभग 2,000 करोड़ रुपये रहा है। इसके और बढ़ने की उम्मीद है।

बड़ा है कृषि बाजार

भारत एक बड़ा कृषि बाजार है - देश का सबसे बड़ा निर्यात कृषि आधारित है - और इस सेक्टर में इनोवेशन के लिए एक विशाल बाजार अवसर है। EY की एक रिपोर्ट के अनुसार, 2025 तक भारतीय एग्रीटेक बाजार की क्षमता लगभग 24 बिलियन डॉलर होने की उम्मीद है, और अब तक केवल एक प्रतिशत पर कब्जा किया जा सका है।

Ninjacart, Origo, DeHaat, CropIn, VilCart जैसे स्टार्टअप्स ने इस सेक्टर में काम करने वाले 1000 से अधिक लोगों में से लाखों किसानों को वित्त पोषण, लॉजिस्टिक्स, बाजार लिंकेज (ईकॉमर्स प्लेटफॉर्म, कृषि उपकरण और वाहन किराए पर लेने की सेवाएं, आदि), कृषि परामर्श और सेवाओं सहित सेवाएं प्रदान करके प्रभावित किया है।

इसके मूल में, KhetiGaadi किसानों, ट्रैक्टर निर्माताओं, ठेकेदारों, डीलरों, दलालों, सर्विस स्टेशनों और कृषि विशेषज्ञों को जोड़ता है। यह एक ऐसे प्लेटफॉर्म के रूप में भी कार्य करता है जो किसानों को कृषि-ऋणदाताओं और कृषि बीमा प्रदाताओं से मिलाता है।

लेकिन, स्टार्टअप का प्राथमिक उद्देश्य किसानों की आधुनिक उपकरणों तक पहुंच में सुधार करना और खरीदारी, बिक्री और किराए को परेशानी मुक्त और पारदर्शी बनाना है। यह आधुनिक कृषि पद्धतियों पर सही मार्गदर्शन के साथ कृषक समुदाय को शिक्षित और सशक्त भी करता है।

विष्णु कहते हैं, "भारत एक बहुत ही दार्शनिक रूप से विकसित कृषि राष्ट्र हुआ करता था - हम प्रकृति के उपचार के लिए सभी प्राकृतिक चीजों का उपयोग करते थे। यह धीमा था लेकिन हमेशा टिकाऊ था। पश्चिमी कृषि पद्धतियों ने भारत की कृषि भूमि को नष्ट कर दिया है, और अगर चीजें वैसी ही बनी रहीं, तो अगले 45-50 वर्षों में, हम कुछ भी उगा नहीं कर पाएंगे।”

अंत में वह कहते हैं, "हम बदलना चाहते हैं कि किसान अपनी फसलों से संबंधित समस्याओं के बारे में कैसे सोचते हैं। मिट्टी में अधिक से अधिक रसायन डालने के बजाय, हम इन समस्याओं से निपटने के सर्वोत्तम तरीके पर कृषिविदों जैसे विश्वसनीय स्रोतों से वैज्ञानिक मार्गदर्शन प्रदान करना चाहते हैं।"

Latest

Updates from around the world