राकेश झुनझुनवाला की Akasa Air का आ गया पहला एयरक्राफ्ट, जुलाई से शुरू हो सकती हैं उड़ानें

Akasa Air की ओर से ऑर्डर किए गए 72 Boeing 737 MAX एयरप्लेन्स में CFM का LEAP-1B इंजन होगा. कंपनी के पहले एयरक्राफ्ट की डिलीवरी ने इसे एयर ऑपरेटर परमिट हासिल करने के और करीब ला दिया है.
1 CLAP
0

दिग्गज निवेशक राकेश झुनझुनवाला (Rakesh Jhunjhunwala) समर्थित Akasa Air का पहला विमान आ गया है. मंगलवार को नई दिल्ली के इंदिरा गांधी इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर यह लैंड हुआ. यह Boeing 737 MAX एयरक्राफ्ट है, जो कंपनी द्वारा मंगाए गए 72 Boeing 737 MAX में से एक है. Akasa Air को 15 जून 2022 को सिएटल, अमेरिका में एयरक्राफ्ट की चाबियां मिली थीं. आकासा एयर ब्रांड नाम से SNV Aviation Pvt. Ltd. भारतीय विमानन सेक्टर में उतर रही है. अक्टूबर 2021 में इसे नागरिक उड्डयन मंत्रालय से हवाई परिचालन के लिए अनापत्ति प्रमाण-पत्र मिला था.

Akasa Air की ओर से ऑर्डर किए गए 72 Boeing 737 MAX एयरप्लेन्स में CFM का LEAP-1B इंजन होगा. कंपनी के पहले एयरक्राफ्ट की डिलीवरी ने इसे एयर ऑपरेटर परमिट हासिल करने के और करीब ला दिया है. भारत में किसी भी विमानन कंपनी के कमर्शियल परिचालन शुरू करने के लिए यह परमिट जरूरी होता है. आकासा एयर के फाउंडर, एमडी व सीईओ विनय दुबे का कहना है कि कंपनी भारत की ग्रीनेस्ट, मोस्ट डिपेंडेबल और मोस्ट अफोर्डेबल एयरलाइन लाना चाहती है.

जुलाई आखिर से शुरू हो सकता है कमर्शियल परिचालन

आकासा एयर की योजना जुलाई के आखिर से अपना कमर्शियल परिचालन शुरू करने की है. ​हवाई टिकटों की बुकिंग जुलाई की शुरुआत से शुरू हो सकती है. आकासा एयर को उम्मीद है कि उसके बेड़े में अगले साल गर्मियों तक 20 B737 MAX विमान होंगे और 2023 की दूसरी छमाही से कंपनी अंतरराष्ट्रीय उड़ानें शुरू करेगी. कंपनी को मार्च 2022 तक 18 B737 MAX मिल जाएंगे और बाकी के 54 प्लेन, अगले 4 सालों में मिलेंगे. 72 विमानों में से 19 विमान 189 सीट वाले MAX-8 होंगे, जबकि 53 विमान हाई कैपेसिटी Boeing 737 MAX-8-200 होंगे.

अभी 250 कर्मचारी

शुरुआती दौर में आकासा एयर की उड़ानें मेट्रो महानगरों से टियर-2 एवं टियर-3 शहरों के लिए ही होंगी. इसके अलावा महानगरों के बीच भी उड़ानें संचालित की जाएंगी. CNBC TV18 की रिपोर्ट के मुताबिक, आकासा एयर के साथ अभी लगभग 250 कर्मचारी जुड़ चुके हैं. दुबे का कहना है कि मार्च 2023 तक यह संख्या 2000 होगी. मौजूदा कर्मचारियों में से लगभग 40-50 पायलट हैं. 

लो कॉस्ट कैरियर होगी आकासा

Akasa एयर के फाउंडर्स में जेट एयरवेज के पूर्व चीफ एग्जीक्यूटिव विनय दुबे और इंडिगो एयरलाइन के पूर्व प्रेसिडेंट आदित्य घोष शामिल हैं. आकासा अल्ट्रा लो कॉस्ट कैरियर नहीं बल्कि लो कॉस्ट कैरियर होने वाली है, यानी यह एक बजट एयरलाइन होगी. आकासा की फ्लाइट्स में गर्म खाने के लिए ओवन नहीं होंगे. यात्रियों को पैक्ड उपमा/नूडल्स/पोहा/बिरयानी खाने से कुछ मिनट पहले गर्म पानी में रखने की जरूरत होगी. आकासा एयर के प्लेन्स में सीटों की एक ही श्रेणी होगी, बिजनेस क्लास नहीं होगा और न ही प्रीमियम अर्थव्यवस्था होगी. 

Latest

Updates from around the world