घर बैठे हर मुश्किल आसान करे रिजॉल्वर इंडिया

By जय प्रकाश जय
May 07, 2019, Updated on : Thu Sep 05 2019 07:32:07 GMT+0000
घर बैठे हर मुश्किल आसान करे रिजॉल्वर इंडिया
जो मुश्किल निपटाने में वर्षों गुजर जाते हैं, उसे निपटाने, साथ ही आगे की राह सुझाने में भी रिजॉल्वर इंडिया को अदभुत महारत है। यह पोर्टल ग्रुप पहले यूके में लाखों लोगों का सबसे पसंदीदा विकल्प बना हुआ था, अब इंडिया में भी लांच हो चुका है।
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

आज जबकि मोबाइल, इंटरनेट आदि ऑनलाइन सुविधाओं ने लोगों की जिंदगी आसान कर दी है, फिर भी तमाम काम ऐसे हैं, जिनसे निपटने के लिए तरह-तरह की मुश्किलों का सामना करना पड़ता है, खासकर व्यावसायिक क्षेत्रों में। लोगों की दिक्कत है कि ऑनलाइन सुविधाओं ने उन्हें आलसी बनाने में भी कोई कोर कसर बाकी नहीं रखी है। ऐसे बाकी दिक्कतों पर भी पार पाने के लिए खासकर, उपभोक्ताओं को नि: शुल्क ऑनलाइन इकट्ठे बड़ी सहूलियत मुहैया कराने जा रहा है रिजॉल्वर इंडिया। यह ऑनलाइन मंच वेबसाइट उपभोक्ताओं को व्यवस्थित तरीके से कंपनियों से जुड़ने में सक्षम बनाता है, साथ ही व्यवसायों को ग्राहकों की शिकायतों को बेहतर ढंग से समझने में मदद करता है। यूके में तो यह तीन मिलियन से अधिक केस फाइलों के निपटाते हुए 98 प्रतिशत से अधिक ग्राहकों का सबसे पसंदीदा विकल्प बन चुका है।


उल्लेखनीय है कि भारत दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा उपभोक्ता बाजार है और इसी वजह से यहां का उपभोक्ता शिकायत समाधान बाजार यूके की तुलना में कई गुना बड़ा है। भारतीय स्टार्ट-अप रिज़ॉल्वर इंडिया को पहले एक्सपर्टली के नाम से जाना जाता था। इसे यूके के रिज़ॉल्वर समूह से आर्थिक मदद मिलने लगी। इसके बाद इसमें जीम्स के अध्यक्ष मनीष गुप्ता ने भी आर्थिक निवेश किया। इससे पहले से ही रिज़ॉल्वर यूके की वेबसाइट को हर महीने पंद्रह हजार भारतीय जुड़ चुके थे। पिछले साल यूके की इस वेबसाइट को ढाई लाख से अधिक भारतीयों ने देखा था। यह पोर्टल उपभोक्ताओं और संस्थानों को बताता है कि उन्हें क्या करना चाहिए, उनका अगला कदम क्या हो, किसी मसले पर उनके क्या अधिकार हैं, इसके लिए ईमेल कैसे लिखा जाए, इसमें किन बातों को शामिल किया जाए?


आज, जब कोई व्यक्ति रिजॉल्वर इंडिया पर अपनी समस्या दर्ज करता है, सबसे पहले उसे उपभोक्ता अधिकारों के बारे में बताया जाता है, शिकायत तैयार करने एवं ईमेल / चैट के माध्यम से किए गए संचार को रिकॉर्ड करने में उसकी सहायता की जाती है, साथ ही उसकी शिकायत की एक केस फाइल बनाने और इसके समाधान की प्रक्रिया में अगले चरण में भी मदद की जाती है। रिज़ॉल्वर आज पूरे भारत में सभी व्यवसायों एवं उपभोक्ताओं, दोनों का मददगार बन गया है। सेवाओं और उत्पादों से जुड़ी शिकायतें निपटने में जबकि सालों गुजर जाते हैं, रिजॉल्वर इंडिया हर प्रकार की शिकायतों का अधिक प्रभावी ढंग से समाधान उपलब्ध कराने लगा है।


रिज़ॉल्वर इंडिया के सीईओ प्रत्युष सिंह का कहना है कि रिज़ॉल्वर एक स्वतंत्र और निष्पक्ष शिकायत निवारण मंच है, जो उपभोक्ताओं और व्यवसायों के बीच के गतिरोधों को तोड़ता है। रिजॉल्वर इंडिया का मिशन है कि वह तत्काल उपभोक्ताओं एवं व्यवसायियों को उनकी मुश्किलों, निरर्थक वाद-विवाद से मुक्ति दिलाए। , तरीकों के जरिए समाधान केमाध्यम से विश्वास और समझ विकसित करना चाहते हैं। मशीन लर्निंग और आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस से संचालित रिज़ॉल्वर ग्रुप यूके के सीईओ एवं संस्थापक जेम्स वॉकर का कहना है कि ‘हम भारत से प्यार करते हैं – और हमने अपने देश के लोगों को उनकी ज़रूरत के मुताबिक परिणाम उपलब्ध कराने में जो कुछ भी सीखा है, उसे साझा करने के लिए इंतजार नहीं कर सकते हैं।'


पोर्टल ने शुरू में तीन हजार से अधिक कंपनियों को चार श्रेणियों में जोड़ा है- टेलीकॉम, रिटेल, फाइनेंस और ट्रैवल। रिटेल कैटेगरी मैन्यूफैक्चरिंग कंपनियों से जड़ी शिकायतों का भी समाधान करती है। अगले महीने से 'यूटिलिटी' सेक्शन को भी जोड़ने की तैयारी है, जो इलेक्ट्रिसिटी और गैस के बिल से जुड़ी शिकायतें सुलझाने में लोगों की मदद करने लगेगा।


यह भी पढ़ें: कॉलेज में पढ़ने वाले ये स्टूडेंट्स गांव वालों को उपलब्ध करा रहे साफ पीने का पानी

हमारे दैनिक समाचार पत्र के लिए साइन अप करें