छह दोस्तों ने 5 लाख की लागत से की शुरूआत, आज है 5 करोड़ का टर्नओवर, सूरत के अल्पिनो पीनट बटर ब्रांड की कहानी

222 CLAPS
0

ये कहानी है मॉम-एंड-पॉप व्यावसायिक पृष्ठभूमि और बड़ी आकांक्षाओं के साथ सूरत के छह बचपन के दोस्तों के अपने समय में सही व्यवसायी बनने की। सभी छह दोस्तों ने मिलकर महज 5 लाख रुपए का निवेश किया और आज उनकी कंपनी अल्पिनो (Alpino) का सालाना टर्नओवर 5 करोड़ रुपए है। तो चलिये आपको बताते हैं अपने आइडिया के साथ उन्होंने ऐसा कैसे कर दिखाया...


अल्पिनो हेल्थ फूड्स भारत का पहला ब्रांड है जो पीनट बटर पाउडर प्रोडक्ट्स का उत्पादन करता है


दुर्भाग्यपूर्ण पोषण की स्थिति के साथ, भारत में आबादी के एक बड़े हिस्से में उचित पोषण की कमी है, परिणामस्वरूप कुपोषण अपने पैर लगातार पसारे जा रहा है।

2016 में शुरू हुआ अल्पिनो हेल्थ फूड्स भारत का पहला ब्रांड है जो पीनट बटर पाउडर प्रोडक्ट्स का उत्पादन करता है।

यह साल 2012 की बात है जब उन सभी ने हाई स्कूल की अपनी पढ़ाई पूरी कर ली। प्रियांक वोरा, मिलन गोपानी, हिरेन शेटा, महतवा शेटा, उमेश गजेरा और चेतन कनानी भले ही अलग तरीके से चले लेकिन हमेशा एक-दुसरे के संपर्क में रहे।

हालांकि यह एक आम अमेरिकी नाश्ता आइटम है और दुनिया भर में सबसे ज्यादा पसंद किया जाता है, फिर भी यह भारत में बहुत लोकप्रिय नहीं था। छोटी पूंजी के साथ शुरुआत करना हमारे लिए आसान काम नहीं था।

चेतन कनानी, अल्पिनो के कॉ-फाउंडर कहते हैं,

"हमने लगातार कई विचारों पर चर्चा की, ट्रेड-फेयर (व्यापार मेलों) की यात्रा की, और रिसर्च और स्टडी भी की।"

2015 में, उन्होंने कॉलेज से स्नातक किया और भारत में प्रोटीन्स के पूरक और स्वस्थ रहने की जगह को देखना शुरू किया। जल्द ही, उन्हें पता चला कि छाछ (मट्ठा) प्रोटीन का सबस्टिस्यूट है, और पीनट बटर (मूंगफली का मक्खन) जैसे स्वस्थ वसा भारत में लोकप्रिय नहीं थे।

चेतन आगे कहते हैं,

"भारत के 90 प्रतिशत पीनट बटर का एक्सपोर्ट होता है। हम सोच रहे थे कि अगर यहां मूंगफली उगाई जाती है, तो यहां मूंगफली का मक्खन क्यों नहीं बनाया जाता है? कॉम्पीटिशन एनालिसिस से पता चला कि हमें कैटेगरी मार्केटिंग के लिए बेहद मेहनत करनी पड़ी थी।"

अल्पिनो हेल्थ फूड्स के फाउंडर्स

लेकिन, मार्केट रिसर्च के अलावा, उन्होंने शुरुआत में ही तेजी का सामना करना शुरू कर दिया जब उन्होंने एक मैन्यूफैक्चरर को मूंगफली के मक्खन के कुछ पैकेट को बेचने के लिए कहा, जिसे वे अपने नाम पर बेचेंगे। मैन्यूफैक्चरर ने उनसे कहा कि उन्हें कम से कम 500 पैकेट खरीदने होंगे। हमने अपनी जगह बनाई और उसके साथ सौदेबाजी शुरू कर दी। उत्तर न देने के लिए हमारे सरासर तप ने हमें अच्छी स्थिति में रखा। शाम तक, हमने उसे 100 पैकेट देने के लिए मना लिया था, चेतन ने याद करते हुए बताया।



छोटी शुरुआत

अल्पिनो नाम पहले से ही तय करके रजिस्टर कर लिया गया था, और टीम ने पीनट बटर का लेबल लगाया और उन्हें अमेज़न और स्नैपडील पर बेचना शुरू कर दिया। लेकिन 100 पैकेट्स को बेचने में उन्हें तीन महीने का समय लगा। अगली बार, उन्होंने मैन्यूफैक्चरर से पूछा कि वह किस प्रकार का पीनट बटर एक्सपोर्ट कर रहा था। उन्होंने क्रंची पीनट बटर का ऑर्डर दिया और अमेज़न पर इसकी मार्केटिंग शुरू की। इसके जरिये उन्होंने वर्ष 2016-17 में 25 लाख रुपये का रेवेन्यू कमाया। तब टीम ने महसूस किया कि लोग क्रंची किस्म का ऑर्डर दे रहे थे।

अपने ग्राहकों के पिनकोड को ध्यान में रखते हुए, उन्होंने देखा कि उनके हर प्रोडक्ट को हरियाणा, पंजाब या दिल्ली में खरीदा गया था। उन्होंने महसूस किया कि बड़े पैमाने पर, उन्हें वितरण का निर्माण करना होगा। जल्द ही, उन्होंने उत्तर में 15 वितरकों की स्थापना की जो विशेष समझौतों के माध्यम से पीनट बटर बेचेंगे। 2017 में एक महीने में 50 पैकेट क्रंची पीनट बटर बिकने के साथ ही उनकी गाड़ी चल पड़ी।

चेतन कहते हैं,

“हमने बॉडीबिल्डर्स से मुलाकात की और उन्हें पीनट बटर के लाभ बताए, यहां तक कि एक अंतरराष्ट्रीय स्वास्थ्य और फिटनेस फाउंडेशन को भी हमने इसकी पेशकश की। लोगों ने प्रोडक्ट के सैंपल लेना शुरू कर दिया।”

तीन वर्षों में, हमने बिजनेस से 5 करोड़ रुपए का रेवेन्यू हासिल किया है और यह अमेज़न पर सबसे अधिक बिकने वाले ब्रांडों में से एक है। अब कंपनी अधिक प्रोडक्ट जोड़ रही है। वे साल के अंत तक मट्ठा और जैतून का तेल लाना चाहते हैं। वर्तमान में, वे भारत में सभी ई-कॉमर्स प्लेटफार्म्स पर पीनट बटर की सप्लाई करते हैं, और इसे राष्ट्रीय स्तर पर ले जाने के बारे में सोच रहे हैं। इनका लक्ष्य है कि भारतीय लोग अधिक से अधिक पीनट बटर का लुत्फ उठाएं।



पीनट बटर का मार्केट

भारत में मूंगफली के मक्खन (पीनट बटर) की खपत के लिए बाजार का आकार $ 100 मिलियन से कम है। लेकिन, अमेरिका में, यह बड़ा व्यवसाय है। IMARC ग्रुप के अनुसार, वैश्विक मूंगफली का मक्खन बाजार में वर्तमान में $ 3.3 बिलियन का है, इसकी मांग 2010-2017 के दौरान लगभग छह प्रतिशत की सीएजीआर से बढ़ रही है। विभिन्न प्रकार के स्वाद, नए मिश्रण, उपभोक्ताओं की बढ़ती डिस्पोजेबल आय और पौष्टिक उत्पादों की बढ़ती प्राथमिकताएं इस वृद्धि को चलाने वाले प्रमुख कारक हैं।

भविष्य की संभावनाएं

अल्पिनो ने उपभोक्ताओं का विश्वास हासिल किया है और धीरे-धीरे बहुत ही मजबूत ऑनलाइन कंज्यूमर बेस बनाया है, यह सब हमारी सख्त गुणवत्ता जांच और बिक्री सेवाओं का नतीजा है। अब तक के प्रोडक्ट्स के बारे में बहुत कम अप्रिय समीक्षा हुई हैं। वर्ड ऑफ माउथ ने हमारे ब्रांड के विकास में महत्वपूर्ण योगदान दिया है।

अभी हमने अपने सभी नेचुरल अल्पिनो पीनट बटर के लिए एक मजबूत कंज्यूमर बेस विकसित किया है। हम यह देखकर खुश हैं कि ब्रांड फिटनेस इंडस्ट्री में फल-फूल रहा है और आगे विस्तार करने के लिए इंतजार नहीं कर सकता। हमारी भविष्य की योजनाएँ वैश्विक हैं और स्वास्थ्य खाद्य क्षेत्र में अधिक उत्पादों को पेश करके हमारी उत्पाद श्रृंखला का विस्तार करना है।

अल्पिनो की योजना अगले कुछ वर्षों में 50 करोड़ रुपये का कारोबार करने की है, और वे 200 वितरकों के साथ काम करके ऐसा करना चाहते हैं। भारत एक फिटनेस क्रांति से गुजर रहा है और कंपनी उस पर अपना कब्जा जमाना चाहती है। डेलॉइट इंडिया की रिपोर्ट के अनुसार, भारत में फिटनेस इंडस्ट्री की कीमत 1.1 बिलियन है।


Edited by रविकांत पारीक