होम डिलीवरी के जरिए पुरुष वर्चस्ववादी क्षेत्र में झंडे गाड़कर पूरे भारत में बदलाव ला रहीं हैं ये महिलाएं

By Athira Nair
February 22, 2019, Updated on : Thu Sep 05 2019 07:31:24 GMT+0000
होम डिलीवरी के जरिए पुरुष वर्चस्ववादी क्षेत्र में झंडे गाड़कर पूरे भारत में बदलाव ला रहीं हैं ये महिलाएं
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

एमजॉन डिलिवरी कने वाली महिलाएं

बेंगलुरु की रहने वाली 24 वर्षीय पूजा पी जैन जैन यूनिवर्सिटी से कॉमर्स ग्रेजुएट हैं। उन्होंने EY के साथ छह महीने तक एश्योरेंस एसोसिएट के रूप में काम किया, और फिर डेढ़ साल के लिए AI स्टार्टअप Haptik के साथ काम किया। डिजाइनिंग में रुचि रखने वाली पूजा ने 2017 में वह नौकरी छोड़ दी और एनीमेशन में मास्टर डिग्री के लिए पार्ट टाइम कोर्स शुरू कर दिया। पार्ट टाइम पढ़ाई जारी रखते हुए पूजा तीन महीने पहले, फूड डिलीवरी स्टार्टअप स्विगी की डिलीवरी टीम में शामिल हुईं और रोजाना लगभग 15 डिलीवरी की। आज, वह बतौर फ्लीट मैनेजर डिलीवरी गर्ल्स की टीम की प्रभारी हैं।


52 साल की मारिया टोनी तेलंगाना के सूर्यापेट जिले के तिरुमलगिरी गांव में एक किराने की दुकान चलाती हैं। 12वीं कक्षा पूरी करने और टाइपिंग सीखने के बाद, उन्होंने कुछ वर्षों तक एक निजी कंपनी में काम किया। जब उनके बच्चे हो गए, तो उन्होंने और उनके पति ने 2005 में एक किराने की दुकान शुरू की। आठ महीने पहले, मारिया ऑनलाइन फैशन मार्केटप्लेस Myntra के "किराना डिलीवरी नेटवर्क" में शामिल हुईं, जिसके जरिए वह Myntra के पार्सल को अपने स्टोर के 5 किमी के दायरे में पहुँचाती हैं। Myntra Extended Network for Service Augmentation नामक पहल के तहत, मारिया 15 रुपये प्रति डिलीवरी का कमीशन हासिल करती हैं और अक्सर 25-30 डिलीवरी पांच घंटे से भी कम समय में पूरी करती है। पूजा और मारिया एक ऐसे वर्कफोर्स का हिस्सा हैं जिसे कहा जाता है कि यहां पुरुषों का वर्चस्व रहता है। 


महिलाओं को प्रोत्साहित करना

भारत में लॉजिस्टिक्स स्पेस में अनेकों स्टार्टअप्स हैं, मुंबई स्थित HeyDeeDee पहला ऐसा स्टार्टअप था जहां सभी महिलाएं ही तत्काल पार्सल डिलीवरी सर्विस देती थीं। 2016 में स्थापित, यह स्टार्टअप ज्यादातर ई-कॉमर्स कंपनियों और सुपरमार्केट में कार्य करता है। HeyDeeDee के पास 300-400 लड़कियां हैं जो समुदायों और गैर-सरकारी संगठनों से हैं। यह स्टार्टअप उन्हें 45 से 90 दिनों के लिए प्रशिक्षित करता है (यदि वे बाइक चलाना जानती हैं तो 45 दिन और नहीं तो 90 दिन), और अक्सर उन्हें वाहन भी प्रदान करता है। लॉजिस्टिक में नई पीढ़ी के इंटरप्राइजेज एक्टिव रूप से महिलाओं को न केवल एक नई नौकरी प्रोफाइल बनाने में मदद कर रहे हैं बल्कि उन्हें अपने खाली समय में अतिरिक्त इनकम हासिल करने के लिए भी प्रोत्साहित कर रहे हैं।


उदाहरण के लिए, स्विगी, जिसके पास एक लाख से अधिक डिलीवरी कर्मियों का अपना प्लीट है, वह अब सक्रिय रूप से महिलाओं को अपने साथ जोड़ रहा है। 2016 में पुणे में उनकी पहली महिला डिलीवरी स्टाफ को काम पर रखा गया था; अब उनके पास 13 शहरों में 200 महिला डिलीवरी स्टाफ हैं। ईकॉमर्स प्रमुख अमेजॉन इंडिया के पास देश में तीन ऐसे डिलीवरी स्टेशन हैं जहां सभी महिला ही हैं। इन स्टेशनों - चेन्नई, चंडीगढ़ और धुले - पर महिलाएं डिलीवरी स्टेशन के 2-3 किमी के दायरे में दोपहिया वाहनों से पैकेज डिलीवर करती हैं। अपने सर्विस पार्टनर्स के माध्यम से, अमेजॉन के पास करीब 50 महिलाएं हैं जो शहरों में अपने ग्राहकों को पैकेज डिलीवर करती हैं। अमेजॉन का आई-हैव-स्पेस प्रोग्राम अमेजॉन की ओर से डिलीवरी करने के लिए स्थानीय स्टोर-मालिकों के साथ काम करता है; उनमें से 150 से अधिक महिलाएं हैं।


Myntra ने 2017 में अपना 'किराना नेटवर्क प्रोग्राम' लॉन्च किया और अब तक, अपने ऑर्डर के लास्ट-मील डिलीवरी के लिए 50 शहरों में 9,000 से अधिक स्टोर्स (दर्जी और ब्यूटी पार्लरों सहित) के साथ करार किया है। आज, Myntra की लगभग 60 प्रतिशत डिलीवरी और पिक-अप इसी नेटवर्क के माध्यम से होता है।


पुरुषों की दुनिया में महिलाएं

किसी भी डिलीवरी कर्मियों के लिए, पार्किंग समस्या, कैश कलेक्शन, रिटर्निंग चेंज, और ग्राहकों के गुस्से से निपटना, आदि रोजमर्रा की बातें हो गई हैं। इसलिए कंपनियां अपनी महिला कर्मियों की सुरक्षा के लिए एक कदम आगे जा रही हैं। महिला राइडर ज्यादातर सुबह 9 बजे से शाम 7 बजे के बीच “सुरक्षित” जोन्स में व्यावसायिक जिलों और व्यवसाय-उन्मुख उपनगरों में ही काम करती हैं। बेंगलुरु में, ये इंदिरानगर, एमजी रोड और कोरमंगला जैसे क्षेत्र हैं जहां महिला राइडर डिलिवरी करती हैं। चेन्नई में यह अलवरपेट, अन्ना सलाई या नुंगमबक्कम है।


हालांकि इसके कुछ अपवाद भी हैं। बेंगलुरू में कंसीयज सर्विस डेंजो की डिलीवरी टीम का हिस्सा कलाइवानी जे याद करती हैं कि उन्हें एक बार रात 10.45 बजे सेनेटरी पैड डिलीवर करने का काम मिला था। वह याद करते हुए कहती हैं, "मुझे पता था कि उसे शायद इसकी बहुत ज्यादा जरूरत थी, और मुझे उसका पैकेज मिल गया। मैंने उन्हें उनका पैकेज डिलीवर कर दिया। जिसके बाद मैं उसके चेहरे पर राहत के अलावा आश्चर्य भी देख सकती थी कि एक महिला रात में सेनेटरी पैड डिलीवर कर रही है।"


आपातकालीन स्थिति में ज्यादातर महिला डिलीवरी स्टाफ अपने साथ पेपर स्प्रे की कैन रखती हैं। लेकिन YourStory ने जिन महिला डिलीवरी स्टाफ से बात की है उन सभी ने बताया कि उनके साथ कोई अप्रिय घटना नहीं हुई है। चेन्नई में अमेजॉन डिलीवरी की सहयोगी 36 वर्षीय जयसुधा बालाजी का कहना है कि वह शुरू में इस नौकरी से घबराई हुई थीं, लेकिन उन्हें कभी भी किसी टकराव का सामना नहीं करना पड़ा। वे कहती हैं, “घरों में, ज्यादातर महिलाएँ दिन के समय ही डिलीवरी लेती हैं। अब, ग्राहक भी हमें देखने के लिए अभ्यस्त हो रहे हैं।”


पूजा कहती है, “एक बार मैं खो गई और डिलीवरी में देरी हो गई। मैं ग्राहक के नाराज होने की उम्मीद कर रही थी, लेकिन वे काफी धैर्यवान थे और उन्होंने कहा कि वे एक लड़की को डिलीवरी करते हुए देखकर खुश हैं।" वह कहती हैं कि उनका परिवार उन्हें कुछ अलग करने के लिए या कुछ अलग चुनने के लिए कहता था, क्योंकि उन्हें पहले से सुरक्षा की चिंता थी। लेकिन वे अब खुश हैं और हमारे रिश्तेदारों को भी उन्होंने बता दिया है।


'टाइम-पास' के लिए नहीं

हालांकि डिलीवरी कई लोगों के लिए एक पार्ट-टाइम जॉब है, HeyDeeDee की सह-संस्थापक रेवती रॉय का कहना है कि महिलाएं प्रति माह 10,000 रुपये से 20,000 रुपये के बीच कमाती हैं। ये उनकी डिलीवरी नंबर्स पर निर्भर करती है। उनके अनुसार, ज्यादातर डिलीवरी स्टाफ अब फुल-टाइम काम कर रही हैं। एट्रिशन रेट को कंट्रोल करने के लिए, जो अब 20-25 प्रतिशत है, HeyDeeDee इन महिलाओं को ईएसओपी और एक फिक्स्ड डिपॉजिट प्रदान करता है जिसे एक वर्ष के बाद कैश किया जा सकता है। डिलीवरी करने वाली महिलाएं अपने काम को बहुत गंभीरता से लेती हैं। मारिया गर्व से कहती हैं कि उन्हें Myntra डिलीवरी के लिए 8-10 के बीच रेटिंग मिली हुई है। वे कहती हैं, "मैं इस कार्यक्रम में शामिल हुई क्योंकि मुझे कॉलेज में अपने दोनों बेटों के साथ और अधिक पैसों की आवश्यकता थी। मैंने इस कार्यक्रम में अपने तीन दोस्तों को भी जोड़ा है।” 


सपने बड़े होते जाते हैं क्योंकि वे आपकी नौकरी में बसते हैं। पूजा एक दिन स्विगी में एक ऑपरेशन मैनेजर बनना चाहती हैं, जबकि जयसुधा, एक ग्रेजुएट, एक अमेजॉन पार्टनर के रूप में ऑफिस की जॉब के लिए अपना टार्गेट बना रही हैं। दरअसल, जयसुधा, चेन्नई में अमेजॉन की डिलीवरी पार्टनर जमुना रानी की 15 महिला सहयोगियों में शामिल हैं।


योरस्टोरी से बात करते हुए, जमुना ने बताया कि कैसे उन्होंने 2016 में अपना डिलीवरी गोदाम एक बेडरूम अपार्टमेंट तीन लड़कियों के साथ शुरू किया था। उन्होंने 10 साल के बाद दो बच्चे होने पर बतौर सॉफ्टवेयर इंजीनियर के रूप में अपनी नौकरी छोड़ दी थी, क्योंकि वह रात की शिफ्ट नहीं चाहती थीं। जब उन्होंने एक दोस्त से अमेजॉन के अवसर के बारे में सुना, तो उन्होंने साइन अप किया, जिसके बाद उन्हें ट्रेनिंग मिली और एक नया सपना मिला। जमुना कहती हैं, “यह अन्य महिलाओं को सशक्त बनाने के लिए हमें प्रेरित करता है। हम पैकेज देते हैं और रिटर्न उठाते हैं। हमारे पास एक ऑफिस वैन है और लड़कियां बाइक से भी पहुंचाती हैं।" उनके डिलीवरी सहयोगी 25 वर्ष से अधिक आयु के हैं, और उनकी टीम चेन्नई के रामापुरम क्षेत्र में और उसके आसपास डिलीवरी करती है।


अमेजॉन का दावा है कि अंडमान और निकोबार द्वीप समूह में उनके एक सर्विस पार्टनर साहिबा ने 2015 में लगभग 25 पैकेज रोज देने शुरू किए, और वर्तमान में पोर्ट ब्लेयर में और उसके आसपास एक दिन में 60 गुना से अधिक की डिलीवरी करती हैं। 2015 में, उसके दो डिलीवरी पार्टनर थे; अब उनके पास अपने स्टेशन पर काम करने वाले 25 से अधिक डिलीवरी पार्टनर हैं। इसी तरह, चेन्नई स्थित राधा एक डिलीवरी स्टेशन और एक छोटी डिलीवरी टीम के साथ 2014 के अंत में अमेजॉन में एक सर्विस पार्टनर के रूप में शामिल हुईं। आज उन्होंने अपना व्यवसाय चेन्नई के उपनगरीय इलाके में चार डिलीवरी स्टेशनों तक बढ़ा दिया है, और 70 से अधिक डिलीवरी पार्टनर्स को नियुक्त किया है जो शहर में 35 पिन कोड पर डिलीवरी करते हैं। 


साइलेंट रेवुलेशन

हो सकता है कि यही महिला सशक्तीकरण हो या होगा या, और काम करना चाहिए: लेकिन महिलाओं को आर्थिक सीढ़ी पर चढ़ने में मदद करने वाली महिलाएं, जरूरी शोर के बिना सामाजिक मानदंडों को बदलते हुए, खुद को एक सामाजिक ताने-बाने में बुनती हैं जो अब तक "महिलाओं के लिए नहीं" था। आगे की सोच रखने वाली संस्थाएँ उन्हें समर्थन कर रही हैं, यहाँ तक कि डिलीवरी के लिए गोदामों में 'केवल महिलाओं' के लिए शौचालय उपलब्ध कराने जैसे विवरण भी शामिल किए जा रहे हैं। तमाम महिला डिलीवरी स्टाफ ने जो योरस्टोरी से बात की, उन्होंने कहा कि उन्हें ग्राहकों से सराहना और अपने परिवार से भरपूर समर्थन मिला है। इसे जमीनी स्तर पर फेमिनिज्म कह सकते हैं क्योंकि कलाइवानी कहती हैं कि हर क्षेत्र में महिलाओं का होना जरूरी है। जैसा कि पूजा कहती हैं, “जब पुरुष ऐसा कर सकते हैं, तो महिला क्यों नहीं? मैं इस नौकरी के जरिए बदलाव ला सकती हूं।”


यह भी पढ़ें: सरकार का बड़ा फैसला: अब अर्धसैनिक बलों के सभी जवान कर सकेंगे हवाई सफर

Clap Icon0 Shares
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Clap Icon0 Shares
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close