बीते एक दशक में भारत में इतना कम हुआ कुपोषण, UN ने जारी की रिपोर्ट

By yourstory हिन्दी
July 16, 2020, Updated on : Thu Jul 16 2020 09:31:31 GMT+0000
बीते एक दशक में भारत में इतना कम हुआ कुपोषण, UN ने जारी की रिपोर्ट
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

रिपोर्ट के अनुसार आने वाले कुछ सालों में अफ्रीका भुखमरी से सबसे अधिक प्रभावित होने वाला क्षेत्र बन जाएगा।

(सांकेतिक चित्र)

(सांकेतिक चित्र)



संयुक्त राष्ट्र की एक रिपोर्ट की मानें तो भारत में पिछले एक दशक के दौरान कुपोषित लोगों की संख्या में 6 करोड़ की कमी दर्ज़ की गई है। इस अल्पपोषित लोगों में अविकसित और कमजोर बच्चे भी शामिल हैं।


यूएन ने यह रिपोर्ट मंगलवार को जारी की थी जिसमें यह कहा गया है कि 2019 में वैश्विक स्तर पर 69 करोड़ से अधिक लोग अल्पपोषित या भूखे थे, यह संख्या साल 2018 की तुलना में एक करोड़ अधिक है।


भारत की बात करें तो आंकड़ों के अनुसार 2004-2006 में देश में अल्पपोषित लोगों की संख्या 24.94 करोड़ थी, जो 2017-2019 में घटकर 18.92 करोड़ रह गई है। रिपोर्ट में यह भी दर्शाया गया है कि 2012 से 2016 के बीच देश में वयस्कों में मोटापा बढ़ा है।


साल 2012 में 2.52 करोड़ लोग मोटापे से पीड़ित थे, जबकि साल 2016 में यह संख्या बढ़कर 3.43 करोड़ तक पहुँच गई है।


यह रिपोर्ट संयुक्त राष्ट्र के खाद्य और कृषि संगठन (एफएओ), कृषि विकास के लिए अंतर्राष्ट्रीय कोष (आईएफएडी), संयुक्त राष्ट्र बाल कोष (यूनिसेफ), संयुक्त राष्ट्र विश्व खाद्य कार्यक्रम (डब्ल्यूएफपी) और विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) द्वारा संयुक्त रूप से तैयार की गई है।


रिपोर्ट का पूर्वानुमान है कि COVID-19 महामारी 2020 के अंत तक 130 मिलियन से अधिक लोगों को फिर से भूख की ओर धकेल सकती है। रिपोर्ट के अनुसार साल 2030 तक अफ्रीका भुखमरी से सबसे अधिक प्रभावित होगा।