[फंडिंग अलर्ट] Vahan ने Khosla Ventures की अगुआई में सीरीज A फंडिंग राउंड में जुटाए 8 मिलियन डॉलर

Khosla Ventures ने कुछ समय पहले Vahan के सीड राउंड में एक अज्ञात राशि का निवेश किया था। ताजा निवेश किए गए धन का उपयोग टीम को विकसित करने, व्यवसाय को बढ़ाने और नए प्रोडक्ट बनाने में किया जाएगा। Vahan हर महीने 200 शहरों में 7000+ लोगों को रिक्रूट करता है।
0 CLAPS
0

ब्लू-कॉलर श्रमिकों के लिए रोजगार एवं आजीविका की व्यवस्था करने वाले बेंगलुरु स्थित प्लेटफॉर्म वाहन (Vahan) ने सिलिकॉन वैली के दिग्गज निवेशक खोसला वेंचर्स (Khosla Ventures) की अगुआई में अपनी सीरीज A राउंड ऑफ फंडिंग में 8 मिलियन अमेरिकी डॉलर जुटाए हैं।

इस राउंड में एयरटेल, शक्ति वीसी (एरिक श्मित और माइकल डेल के साथ एलपी के रूप में पूर्व गूगल के एक्जीक्यूटिव केवल देसाई की अगुआई में), पायनियर फंड (वाई कॉम्बिनेटर एलुमनी फंड), स्पाइक वेंचर्स (स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी एलुमनी फंड), विजय शेखर शर्मा (सीईओ, पेटीएम), गुरु गौरप्पन (ग्रुप सीईओ, वेराइजन मीडिया और पूर्व ग्लोबल एमडी, अलीबाबा), केविन शैनन (पूर्व सीएफओ, हार्वर्ड मैनेजमेंट कंपनी) और अन्य ने हिस्सा लिया।

इस फंडिंग से वाहन को अपने रिक्रूटमेंट बिजनेस को आगे बढ़ाने और अपने तेजी से बढ़ते ग्राहक आधार के लिए नए प्रोडक्ट पेश करने का मौका मिलेगा। इसके कस्टमर बेस में प्रमुख गिग-इकोनॉमी कंपनियां और ब्लू-कॉलर कर्मचारी शामिल हैं।

वाहन को इससे पहले वाई कॉम्बिनेटर, खोसला वेंचर्स, फाउंडर्स फंड, एयरटेल के साथ-साथ गूगल व फ्लिपकार्ट के कई पूर्व व मौजूदा एक्जीक्यूटिव्स का साथ मिल चुका है। कंपनी का लक्ष्य आगे चलकर अगले एक अरब इंटरनेट यूजर्स के लिए बेहतर आजीविका को सक्षम बनाना है।

वर्तमान समय में वाहन एक प्रौद्योगिकी-संचालित प्लेटफॉर्म है जो नियोक्ताओं को सही कीमत पर, सही जगह पर और सही समय पर सही उम्मीदवार खोजने में मदद करते हुए ब्लू-कॉलर श्रमिकों को नौकरी पाने में मदद करता है। इस स्टार्टअप ने व्हाट्सएप पर एआई-संचालित बोट सहित कई टूल्स बनाए हैं, जिनका उपयोग बड़े पैमाने पर और तेजी से श्रमिकों की भर्ती के लिए किया जाता है। इसकी मदद से ब्लू-कॉलर श्रमिक बिचौलियों के शोषण से बचते हैं।

माधव कृष्णा, को-फाउंडर और सीईओ, Vahan

सफल फंडरेजर पर Vahan के को-फाउंडर और सीईओ माधव कृष्णा ने कहा,

“हम खोसला वेंचर्स के साथ अपनी साझेदारी को बढ़ाने के लिए उत्साहित हैं। हमारे बिजनेस को दोगुना करने का उनका निर्णय हमारे सामने मौजूद मल्टी-बिलियन डॉलर के अवसरों को रेखांकित करता है। हम टेक्नोलॉजी के इस्तेमाल से बड़े कारोबार विकसित करने के मामले में अपनी विशेषज्ञता का प्रयोग करते हुए कंपनी को विकास की नई ऊंचाई पर ले जाएंगे। हमारा लक्ष्य यह सुनिश्चित करना है कि पहले से कम अवसर प्राप्त ब्लू-कॉलर श्रमिकों को नौकरियों, वित्तीय सेवाओं और कौशल विकास के अवसर मिलें। हम अगले 10 साल में एक अरब प्लेसमेंट का लक्ष्य लेकर चल रहे हैं।"

Vahan में अपने सतत निवेश पर Khosla Ventures के फाउंडर विनोद खोसला ने कहा,

“हम वाहन में मजबूत, मिशन-संचालित टीम का समर्थन जारी रखने के लिए उत्साहित हैं। भारत में ब्लू-कॉलर श्रमिकों के रिक्रूटमेंट का बड़ा अवसर है और यह लगातार बढ़ रहा है। कर्मचारियों और नियोक्ताओं दोनों के लिए लाभकारी स्थिति बनाने की दिशा में प्रौद्योगिकी के इस्तेमाल की वाहन की क्षमता उत्साहजनक है। वाहन भारत और उसके बाहर इस अवसर को भुनाने के लिए पूरी तरह से तैयार है।”

भारत में 250 मिलियन से अधिक ब्लू-कॉलर कर्मचारी हैं। अब, महामारी के बाद से बदले हालात में लॉजिस्टिक्स और ई-कॉमर्स सेक्टर से ब्लू-कॉलर श्रमिकों की सबसे अधिक मांग निकलने की उम्मीद है क्योंकि कुशल डिस्ट्रीब्यूशन चैनल बनाना इंटरनेट कंपनियों के लिए अहम है। इस सेग्मेंट में नियोक्ता फ्लेक्सी-वर्क या "गिग" मॉडल के तहत ब्लू-कॉलर श्रमिकों को काम पर रखते हैं। एसोचैम की एक रिपोर्ट के अनुसार, भारत के गिग सेक्टर के 2024 तक 17% की सीएजीआर से बढ़कर 455 बिलियन अमेरिकी डॉलर होने की उम्मीद है और इसमें महामारी से पूर्व के अनुमानों की तुलना में कम से कम दोगुना बढ़ने की क्षमता है। वाहन के क्लाइंट्स में जोमैटो, उबर, फ्लिपकार्ट, स्विगी, रैपिडो, ग्रोफर्स, डंज़ो और शैडोफैक्स जैसी प्रमुख गिग-इकोनॉमी कंपनियां शामिल हैं।

Vahan को बधाई देते हुए श्रवनी जैन, हेड ऑफ सप्लाई ग्रोथ, इंडिया एंड साउथ एशिया, Uber ने कहा, “चुनौतीपूर्ण कारोबारी माहौल के बावजूद वाहन ने प्रमुख बाजारों में उबर के लिए ड्राइवर ऑनबोर्डिंग को बढ़ाया है। यह मैनवापर और टेक्नोलाजी दोनों को लेकर वाहन की अनूठी समझ के कारण संभव हुआ है। मेरा मानना है कि अपने एंड टु एंड वर्कर मैनेजमेंट में विस्तार के साथ वे उबर के संचालन में और वैल्यू एड कर रहे हैं।"

भारत की अग्रणी थर्ड पार्टी लॉजिस्टिक्स (3पीएल) कंपनियों में से एक शैडोफैक्स के चीफ ऑपरेटिंग ऑफिसर प्रहर्ष चंद्रा ने Vahan को बधाई देते हुए कहा, "हम आगामी महीनों में डिलीवरी सेवाओं की मांग 3 से 5 गुना होने की उम्मीद कर रहे हैं। वाहन ने अब तक शैडोफैक्स के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है और हम अपने विकास लक्ष्यों को पूरा करने व उससे आगे बढ़ने के लिए आने वाले महीनों में साझेदारी के विस्तार की आशा करते हैं।”

वाहन वर्तमान में हर महीने 200 शहरों में 7000+ ब्लू-कॉलर वर्कर्स को गिग-इकोनॉमी रोजगार में रिक्रूट कराता है और अगले साल तक भारत का सबसे बड़ा ब्लू-कॉलर रिक्रूटमेंट प्लेटफॉर्म बनने की राह पर है। रिक्रूटमेंट बिजनेस के रूप में शुरुआत करने के बाद से अब वाहन ने अब एंड-टू-एंड वर्कफोर्स मैनेजमेंट या स्टाफिंग से जुड़ी क्षमताओं का निर्माण किया है, जिससे नियोक्ताओं को एक व्यापक सॉल्यूशन मिल रहा है। अपनी मशीन लर्निंग आधारित तकनीक के माध्यम से वाहन श्रमिकों की कमी दूर करने में सक्षम है। यह एक ऐसी समस्या जो ब्लू-कॉलर श्रमिकों को काम पर रखने वाले अधिकांश नियोक्ताओं को परेशान करती है। वाहन ओवरऑल वर्कर प्रोडक्टिविटी भी बढ़ाता है।

माधव ने आगे कहा, "जेफ बेजोस के शब्दों में कहा जाए तो हम अभी भी शून्य पर हैं क्योंकि लोगों को नौकरी खोजने में मदद करना हमारे लिए एक शुरुआती बिंदु है। हम ब्लू-कॉलर श्रमिकों के दुनिया के सबसे बड़े और सबसे व्यापक डिजिटल प्रोफाइल डाटाबेस का निर्माण कर रहे हैं और बड़े पैमाने पर मौके को भुनाने के लिए डाटा एसेट व अपने टार्गेट ऑडियंस की गहरी समझ का लाभ उठाएंगे। आगे चलकर हम ब्लू-कॉलर श्रमिकों को वित्तीय सेवाओं और यहां तक कि उनके कौशल विकास में मदद करेंगे, ताकि वे अपने करियर और अपने जीवन में आगे बढ़ सकें।”

आपको बता दें कि Vahan टेक्नोलॉजी की ताकत का इस्तेमाल करते हुए ब्लू कॉलर वर्कर्स को उनकी योग्यता के अनुरूप रोजगार पाने में मदद करता है और नियोक्ताओं को सही कीमत, सही स्थान एवं सही समय पर सही उम्मीदवार खोजने में मदद करता है। स्टार्टअप ने वाट्सएप पर एआई संचालित बोट समेत कई टूल्स बनाए हैं, जिससे बड़े पैमाने पर व तेजी से कर्मचारियों को नियुक्त करने में मदद मिलती है, जिससे ब्लू कॉलर कर्मचारी बिचौलियों के हाथों शोषण से बचते हैं।

वाहन के क्लाइंट्स में जोमैटो, उबर, फ्लिपकार्ट, स्विगी, रैपिडो, ग्रोफर्स, डंज़ो और शैडोफैक्स शामिल हैं। वे हर महीने 200 शहरों में 7000 से ज्यादा ब्लू कॉलर वर्कर्स को रिक्रूट करते हैं। वाई कॉम्बिनेटर, खोसला वेंचर्स, फाउंडर्स फंड, एयरटेल और गूगल व फ्लिपकार्ट के कई पूर्व व मौजूदा एक्जीक्यूटिव्स ने वाहन की फंडिंग की है। कंपनी अगले साल तक भारत का सबसे बड़ा ब्लू कॉलर रिक्रूटमेंट प्लेटफॉर्म बनने के लिए तैयार है।


YourStory की फ्लैगशिप स्टार्टअप-टेक और लीडरशिप कॉन्फ्रेंस 25-30 अक्टूबर, 2021 को अपने 13वें संस्करण के साथ शुरू होने जा रही है। TechSparks के बारे में अधिक अपडेट्स पाने के लिए साइन अप करें या पार्टनरशिप और स्पीकर के अवसरों में अपनी रुचि व्यक्त करने के लिए यहां साइन अप करें।

TechSparks 2021 के बारे में अधिक जानकारी पाने के लिए यहां क्लिक करें।

Edited by Ranjana Tripathi

Latest

Updates from around the world