विजय दिवस: जानिए 1971 के भारत-पाक युद्ध और बांग्लादेश के जन्म की कहानी

By रविकांत पारीक
December 16, 2021, Updated on : Thu Dec 16 2021 06:56:27 GMT+0000
विजय दिवस: जानिए 1971 के भारत-पाक युद्ध और बांग्लादेश के जन्म की कहानी
1971 का भारत-पाक युद्ध लगभग 13 दिनों तक चला था और 16 दिसंबर को समाप्त हुआ था। इस दिन, भारत 'भारत और बांग्लादेश' के बहादुर सैनिकों को श्रद्धांजलि देता है, जिन्होंने अपना जीवन कर्तव्य के लिए समर्पित कर दिया था।
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

1971 के युद्ध में पाकिस्तान पर जीत के प्रतीक के रूप में हर साल 16 दिसंबर को विजय दिवस मनाया जाता है। इसी युद्ध के बाद से बांग्लादेश एक देश के रूप में अस्तित्वव में आया था।


आज प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 50वें विजय दिवस के अवसर मुक्तिजोद्धाओं, बीरांगनाओं और भारतीय सशस्त्र बलों के जांबाजों के अदम्य शौर्य तथा बलिदान को याद किया। पीएम मोदी ने कहा कि इस अवसर पर राष्ट्रपति की ढाका में उपस्थिति हर भारतीय के लिये विशेष महत्त्व रखती है।


एक ट्वीट में प्रधानमंत्री ने कहा हैः

“50वें विजय दिवस के अवसर पर मैं मुक्तिजोद्धाओं, बीरांगनाओं और भारतीय सशस्त्र बलों के जांबाजों के अदम्य शौर्य तथा बलिदान को याद करता हूं। हमने मिलकर दमनकारी ताकतों का मुकाबला किया और उन्हें पराजित किया। राष्ट्रपति जी की ढाका में उपस्थिति हर भारतीय के लिये विशेष महत्त्व रखती है।”

विजय दिवस का इतिहास

1971 का भारत-पाक युद्ध लगभग 13 दिनों तक चला और 16 दिसंबर को समाप्त हो गया। पाकिस्तान के सेनाध्यक्ष आमिर अब्दुल्ला खान नियाज़ी ने भारतीय सेना और मुक्ति-बाहिनी के सामने आत्मसमर्पण कर दिया, जो भारत के पूर्व में बांग्लादेश नामक एक नए देश के निर्माण में अग्रणी था। जनरल नियाज़ी ने अपने 93,000 पाकिस्तानी सैनिकों के साथ भारत के लेफ्टिनेंट जनरल जगजीत सिंह अरोड़ा के समक्ष आत्मसमर्पण पत्र पर हस्ताक्षर किए थे। बांग्लादेश भी 16 दिसंबर को अपना स्वतंत्रता दिवस (बिजॉय दिवस) मनाता है। तब से, इस दिन को विजय दिवस के रूप में मनाया जाता है।

vijay diwas

फोटो साभार: India.com

विजय दिवस का महत्व

इस दिन, देश भारत और बांग्लादेश के बहादुर सैनिकों को श्रद्धांजलि अर्पित करता है, जिन्होंने अपना जीवन कर्तव्य की सीमा में लगाया और जिन्होंने मुक्ति संग्राम में भाग लिया।


तत्कालीन पूर्वी पाकिस्तान में 'मुक्ति युद्ध' पाकिस्तान द्वारा बंगाली भाषी आबादी के साथ दुर्व्यवहार किए जाने और क्षेत्र में चुनाव परिणाम को कम करने के बाद शुरू किया गया था। तत्कालीन भारतीय प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने बांग्लादेश में मुक्ति युद्ध के लिए भारत का पूर्ण समर्थन व्यक्त किया था।

हमारे दैनिक समाचार पत्र के लिए साइन अप करें