कैसे इस जामुन वाइन ब्रांड ने अपने पहले ही साल में कमाया 4.5 करोड़ रुपये का रेवेन्यू

महाराष्ट्र के नासिक में रहने वाली कोमल सोमानी ने जामुन वाइन के अनुसंधान और विकास में पांच साल और 50 लाख रुपये का निवेश किया। उनका वेंचर Resvera Wines अब 4.5 करोड़ रुपये सालाना रेवेन्यू कमाता है।
1 CLAP
0

सात साल पहले लोकप्रिय हिल स्टेशन महाबलेश्वर की यात्रा ने कोमल सोमानी को जीवन और आंत्रप्रेन्योरशिप के विचारों पर सोचने के लिए मजबूर कर दिया। इंजीनियरिंग की डिग्री हासिल कर चुकी, वह अपने वेंचर Resvera Wines के साथ वाइन इंडस्ट्री में प्रवेश करने से पहले एक आईटी कंपनी के लिए HR को लीड कर रही थी।

वह YourStory को बताती है, “यात्रा के दौरान, हमारे एक मित्र ने हमें जामुन से बना कॉकटेल परोसा। इसने फल और इसके लाभों के बारे में चर्चा शुरू कर दी।”

हालांकि एक स्वस्थ फल जो भारत में बहुतायत से उगाया जाता है, कोमल ने सीखा कि जामुन एक बेहद नाजुक फल है जिसकी खेती साल में केवल 15 दिनों के लिए की जाती है। वह कहती हैं कि हालांकि यह बहुतायत से उगता है, लेकिन इसका 90 प्रतिशत हिस्सा वन क्षेत्रों में सड़ जाता है और खपत नहीं होता है।

वाइन के रूप में जामुन के लाभों को संरक्षित करने के लिए, कोमल ने 2015 में Resvera की स्थापना की। वह बताती हैं कि नाम, Resvaratrol से लिया गया है, जो एक एंटी-एजिंग एजेंट है जो जामुन में प्रचुर मात्रा में पाया जाता है।

रिसर्च के लिए पांच साल समर्पित करने के बाद, महामारी के दौरान लॉन्च किया गया उनका D2C वाइन ब्रांड अब भारत के वाइन मार्केट का दोहन कर रहा है, जिसकी वैल्यू 150 मिलियन डॉलर है और इसके 20 से 25 प्रतिशत CAGR से बढ़ने की उम्मीद है।

जामुन वाइन बनाना

वाइन बनाने का कोई प्रत्यक्ष ज्ञान नहीं होने के कारण, कोमल ने अपना रिसर्च सही करने के लिए अपना समय लिया। जामुन के साथ काम करने के इच्छुक वाइन बनाने वालों को ढूंढने में भी काफी वक्त लगा।

वह आगे कहती हैं, "ज्यादातर वाइनमेकर अंगूर के साथ काम करने के आदी हैं और वाइन के साथ प्रयोग करने की प्रक्रिया में समय लगता है क्योंकि इसे वक्त की आवश्यकता होती है। इसके अतिरिक्त, जामुन एक मौसमी फल है।”

कई असफल प्रयासों के बाद, कोमल के सहयोगियों में से एक ने एक पुरस्कार विजेता कनाडाई वाइनमेकर के पास पहुंचने का सुझाव दिया, जो इन फलों की वाइन तैयार करने के लिए जाना जाता है, जिन्होंने इसे जामुन से वाइन बनाने की चुनौती के रूप में स्वीकार किया, प्रोडक्ट तैयार करने के लिए कई बार भारत के लिए उड़ान भरी, और Resvera टीम को भी प्रशिक्षित किया।

हालाँकि, वाइन को स्टोर करना भी एक चुनौती साबित हुई, लेकिन कोमल ने इस क्षेत्र में पेशेवर लोगों को हायर किया। वह कहती हैं कि अनुसंधान और विकास में सभी प्रयास समय और धन के लायक हैं, क्योंकि लक्ष्य एक क्वालिटी वाले प्रोडक्ट की पेशकश करना था। वह आगे कहती हैं, "आज, सब कुछ अनुभव के बारे में है, इसलिए हम यह सुनिश्चित करना चाहते थे कि वाइन का स्वाद भी अच्छा हो, और यह केवल इसके स्वास्थ्य लाभों के योग्य नहीं है।"

एक वाइनयार्ड किराए पर लेने के बाद, Resvera स्वयं सहायता समूहों के माध्यम से आदिवासी लोगों - ज्यादातर महिलाओं से - जैविक जामुन प्राप्त करता है।

कोविड-19 प्रभाव

मई 2020 तक, Resvera wine अपने प्रारंभिक चरण में महामारी के प्रकोप और देश में सख्त लॉकडाउन के बावजूद बाजार में प्रवेश करने के लिए तैयार था। सीएमओ और फाउंडर के रूप में, कोमल को इस अवसर का एहसास हुआ, और उन्होंने फलों के लाभों को उजागर करने का फैसला किया जब स्वास्थ्य और प्रतिरक्षा पर ध्यान अपने उच्चतम स्तर पर था।

“यह बाजार का सही समय था; हमने अपने सोशल मीडिया चैनलों के माध्यम से पूरी तरह से डिजिटल मार्ग अपनाया और प्रतिक्रिया अद्भुत थी। यह, अधिकांश लोगों द्वारा पेय पदार्थों से परहेज करने के बावजूद, COVID-19 से लड़ने के लिए सामान्य सलाह में से एक चाय और उबला हुआ पानी जैसे गर्म पेय का सेवन करने जैसा था।

कोमल के अनुसार, पिछले एक साल में Resvera ने 12,000 से अधिक वाइन केसेस की बिक्री की है और 4.5 करोड़ रुपये का सालाना रेवेन्यू हासिल किया है। नासिक में स्थित, वह लगभग 50 लाख रुपये का निवेश करने के बाद मुनाफा कमा रही है, जो उन्होंने अपने पति से उधार लिए थे, जो खुद एक आंत्रप्रेन्योर है।

अब लगभग 60 लोगों की एक कोर टीम के साथ काम करते हुए, कोमल कहती हैं कि टीम बनाना कोई बड़ी चुनौती नहीं है क्योंकि उनके पास एचआर का अनुभव है। लेकिन, वह कहती हैं, वास्तव में इससे फर्क पड़ता है कि उनके लोग भी प्रोडक्ट में विश्वास करते थे।

आगे बढ़ते हुए, वह Resvera को भारत से बाहर ले जाना चाहती है, और लगभग 160 देशों को देख रही है। वह ज्यादा डिटेल्स बताए बगैर कहती है, "योजना पर काम चल रहा है।"


YourStory की फ्लैगशिप स्टार्टअप-टेक और लीडरशिप कॉन्फ्रेंस 25-30 अक्टूबर, 2021 को अपने 13वें संस्करण के साथ शुरू होने जा रही है। TechSparks के बारे में अधिक अपडेट्स पाने के लिए साइन अप करें या पार्टनरशिप और स्पीकर के अवसरों में अपनी रुचि व्यक्त करने के लिए यहां साइन अप करें।

TechSparks 2021 के बारे में अधिक जानकारी पाने के लिए यहां क्लिक करें।