[विश्व स्वास्थ्य दिवस] मिलें देश के उन डॉक्टर्स से, जो 'सेवा-भाव' से इलाज कर रहे हैं

By Ravi Pareek|7th Apr 2021
विश्व स्वास्थ्य दिवस के मौके पर YourStory आपको उन डॉक्टर्स से मिलवाने जा रहा है, जो सिर्फ 'सेवा-भाव' से मरीजों का इलाज करते हैं।
Clap Icon0 claps
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Clap Icon0 claps
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

हर साल 7 अप्रैल को विश्व स्वास्थ्य दिवस (World Health Day) मनाया जाता है। पहली बार विश्व स्वास्थ्य दिवस साल 1950 में मनाया गया था। WHO ने 1948 में प्रथम विश्व स्वास्थ्य सभा का आयोजन किया और हर साल 7 अप्रैल को दिवस मनाने का निर्णय लिया।


7 अप्रैल को विश्व स्वास्थ्य दिवस घोषित करने का एजेंडा वैश्विक स्वास्थ्य के महत्व की ओर दुनिया का ध्यान आकर्षित करना था। इसने WHO की स्थापना को भी चिन्हित किया। जबकि यह 1948 में तय किया गया था, लेकिन इसे 1950 में लागू किया गया।

प

सांकेतिक चित्र

विश्व स्वास्थ्य दिवस यूनिवर्सल हेल्थ कवरेज (UHC) की ओर बढ़ने में देशों के समर्थन को चलाने में एक उत्प्रेरक के रूप में काम करता है। इसका मतलब है कि यह सुनिश्चित करना कि हर कोई, हर जगह वित्तीय कठिनाई का सामना किए बिना आवश्यक गुणवत्ता स्वास्थ्य सेवाओं तक पहुंच सकता है।


इस वर्ष, विश्व स्वास्थ्य संगठन वैश्विक स्वास्थ्य के महत्व पर ध्यान आकर्षित कर रहा है। इस वर्ष, इसकी थीम "सभी के लिए एक उचित और स्वस्थ विश्व का निर्माण (Building a Fairer and Healthier World for Everyone)" है।


विश्व स्वास्थ्य दिवस के मौके पर YourStory आपको उन डॉक्टर्स से मिलवाने जा रहा है, जो सिर्फ 'सेवा-भाव' से मरीजों का इलाज करते हैं।

बच्ची के जन्म पर फीस नहीं लेते हैं ये डॉक्टर

महाराष्ट्र के पुणे के रहने वाले डॉ. गणेश राख कई भारतीय डॉक्टरों में से एक हैं जिन्होंने माता-पिता, रिश्तेदारों और यहां तक ​​कि पति के चेहरे से मुस्कुराहट गायब होते देखी है, जब उन्होंने उन्हें बताया कि परिवार में एक लड़की का जन्म हुआ है।

स्टार प्लस चैनल के टीवी शो 'आज की रात है ज़िंदगी' में बॉलीवुड के महानायक अमिताभ बच्चन ने सम्मानित करते हुए उन्हें 'रियल होरो' बताया

स्टार प्लस चैनल के टीवी शो 'आज की रात है ज़िंदगी' में बॉलीवुड के महानायक अमिताभ बच्चन ने सम्मानित करते हुए उन्हें 'रियल होरो' बताया

3 जनवरी 2012 में, डॉ. गणेश राख ने भारत में अपना 'मुल्गी वचवा अभियान' / 'बेटी बचाओ जन आंदोलन' / 'सेव द गर्ल चाइल्ड' अभियान शुरू किया।


डॉ. गणेश राख के अस्पताल (मेडिकेयर हॉस्पिटल, पुणे) में जब भी किसी बच्ची का जन्म होता है, तो सारी फीस माफ कर दी जाती है।


YourStory को पहले दिए एक इंटरव्यू में बात करते हुए डॉ. राख ने बताया, "मैंने फैसला किया कि अगर बेटी का जन्म हुआ तो मैं कोई शुल्क नहीं लूंगा। इसके अलावा हमने तय किया कि हम अस्पताल में बेटी के जन्म का जश्न मनाएंगे।"


जिस तरह परिवारों ने एक बच्चे के जन्म का जश्न मनाया, डॉ. गणेश राख सुनिश्चित करते हैं कि उनका अस्पताल खुद मिठाई, केक, फूल और मोमबत्तियों के साथ हर लड़की के जन्म का जश्न मनाए।


बीते आठ सालों में उनकी इस नेक मुहिम 'बेटी बचाओ जन आंदोलन' से देश-विदेश से करीब 2 लाख से अधिक निजी डॉक्टर, 12 हजार एनजीओ और 1.75 मिलियन स्वयंसेवक जुड़ चुके हैं और लड़कियों को बचाने के उनके प्रयासों में योगदान दिया है।


साल 2016 में डॉ. गणेश राख के 'बेटी बचाओ जन आंदोलन' के पाँच साल होने पर उन्हें बीबीसी ने अपने शो "अनसंग हीरोज़" में फीचर किया। इसके अलावा उन्हें स्टार प्लस चैनल के टीवी शो 'आज की रात है ज़िंदगी' में बॉलीवुड के महानायक अमिताभ बच्चन ने सम्मानित करते हुए उन्हें 'रियल होरो' बताया।

10 रुपये में इलाज करने वाली डॉक्टर

आंध्र प्रदेश की एक युवा डॉक्टर मानवता की सेवा करने का एक बेहद शानदार उदाहरण बनकर सामने आई हैं।

डॉ. नूरी परवीन

डॉ. नूरी परवीन


डॉ. नूरी परवीन, जिन्होंने आंध्र प्रदेश के कडप्पा जिले में एक निजी मेडिकल कॉलेज से मेडिकल ग्रेजुएशन (MBBS) कोर्स पूरा किया था, आर्थिक रूप से कमजोर परिवारों को चिकित्सा सहायता से वंचित नहीं रहना सुनिश्चित करने के लिए प्रति मरीज केवल 10 रुपये की फीस लेती है।


आंध्र प्रदेश के विजयवाड़ा के एक मध्यम वर्गीय परिवार से आने वाली डॉ. नूरी परवीन ने योग्यता के आधार पर प्रतियोगी परीक्षा के माध्यम से अपनी मेडिकल सीट हासिल की। जब उन्होंने अच्छा स्कोर हासिल किया और मेडिकल कॉलेज से पास हुई, तो उन्होंने जरूरतमंदों की सेवा के लिए खुद को समर्पित करने का फैसला किया।


28 वर्षीय डॉ. नूरी परवीन कहती हैं कि मानवता की सेवा करने और जरूरतमंदों की मदद करने की प्रेरणा उनके माता-पिता से मिली। उन्होंने बताया, “मेरी परवरिश ऐसी ही थी। मेरे माता-पिता ने मुझे समाज सेवा की भावना से प्रेरित किया। उन्होंने तीन अनाथ बच्चों को गोद लेकर और उनकी शिक्षा की व्यवस्था करके हमारे लिए एक मिसाल कायम की।“


मरीजों को देखने के लिए 10 रुपये चार्ज करने के अलावा, युवा डॉक्टर रोगियों के लिए प्रति बेड केवल 50 रुपये चार्ज करती है। कडप्पा जैसे शहर में, जहां आम तौर पर निजी डॉक्टर 150-200 रुपये प्रति यात्रा लेते हैं, "10 रुपये लेने वाली ये डॉक्टर" गरीबों और निराश्रितों के लिए आशा की एक किरण बन गई हैं।

1 रुपये में इलाज करने वाले डॉक्टर

ओडिशा के संबलपुर जिले में वीर सुरेन्द्र साईं इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज एंड रिसर्च (VIMSAR), बुर्ला में चिकित्सा विभाग में एक सहायक प्रोफेसर शंकर रामचंदानी ने बुर्ला शहर में क्लिनिक खोला है जहाँ मरीजों को इलाज के लिए सिर्फ एक रुपया देना पड़ता है।

प

फोटो साभार: The New Indian Express

समाचार ऐजेंसी एएनआई से बात करते हुए रामचंदानी ने कहा कि अपने ड्यूटी के समय के बाद गरीबों और वंचितों को मुफ्त में इलाज करने का उनका सपना था जिसे उन्होंने 'One Rupee Clinic' की शुरूआत करके पूरा किया है।


यह पूछने पर कि वह एक रुपया क्यों चार्ज करते हैं, रामचंदानी ने कहा, "मैं गरीबों और वंचित लोगों से एक रुपया लेता हूं क्योंकि मैं नहीं चाहता कि वे महसूस करें कि वे मुफ्त में सेवा का लाभ उठा रहे हैं। उन्हें यह भी सोचना चाहिए कि उन्होंने उनके इलाज के लिए कुछ पैसे दिए हैं।”


बुर्ला शहर के कछा बाजार क्षेत्र में शुरू किया गया क्लिनिक सुबह 7 बजे से सुबह 8 बजे तक और शाम को 6 बजे से शाम 7 बजे तक खुला रहता है। "वन-रुपी" क्लिनिक ने उन्हें गरीब, बेसहारा, वंचित, बुजुर्ग व्यक्तियों, शारीरिक रूप से अक्षम लोगों और उन लोगों की सेवा करने का अवसर प्रदान किया है जिनके पास उचित चिकित्सा देखभाल तक नहीं है।


ख़बरों के अनुसार, रामचंदानी की पत्नी, सिखा रामचंदानी, एक दंत चिकित्सक, भी उनकी मदद कर रही हैं।

कोविड महामारी के दौरान मधुमेह रोगियों की सेवा करने वाले डॉक्टर

कोविड-19 महामारी और इसके चलते लगाए गए लॉकडाउन ने हम सभी को अपने घरों की सुरक्षा तक सीमित कर दिया। हालांकि, हर दिन, लाखों फ्रंटलाइन कार्यकर्ता, जिनमें डॉक्टर, नर्स और मेडिकल स्टाफ शामिल हैं, ने दूसरों की सेवा करने के लिए अपनी जान जोखिम में डाल दी। इनमें डॉ. एम वसीम घोरी भी थे।

डॉ. घोरी को महाराष्ट्र के राज्यपाल, भगत सिंह कोश्यारी द्वारा 'कोरोना योद्धा' के रूप में सम्मानित किया गया था।

डॉ. घोरी को महाराष्ट्र के राज्यपाल, भगत सिंह कोश्यारी द्वारा 'कोरोना योद्धा' के रूप में सम्मानित किया गया था।

डॉ. घोरी, जो मुंबई में विशेष हृदय और मधुमेह क्लीनिकों की सीरीज़ में मेडिकल डायरेक्टर और कंसल्टिंग डायबेटोलॉजिस्ट के रूप में काम करते हैं, टाइप 2 मधुमेह वाले लोगों की मदद करते हैं, उन्हें निर्देशित करते हैं कि दीर्घकालिक जटिलताओं से बचने के लिए अपने स्वास्थ्य को कैसे प्रबंधित करें। उन्होंने ‘Healthcare on Your Fingertips’ शुरू किया - जो कि एक मरीज की शिक्षा और जागरूकता के लिए व्हाट्सएप मैसेजिंग पहल है, जहां स्वास्थ्य की जानकारी हर सुबह लोगों को दी जाती है, जिसे वे कभी भी और कहीं भी एक्सेस कर सकते हैं।


जब महामारी फैल गई, तो उन्होंने मदद की पेशकश करने के लिए फ्रंटलाइन पर लौटने का फैसला किया जहां इसकी सबसे अधिक आवश्यकता थी। डॉ. घोरी ने डायलिसिस पर मरीजों की सेवा करने वाले फ्रंटलाइन पर भी काम किया और यह सुनिश्चित किया कि उन्हें सबसे अच्छा इलाज मिले।


डॉ. घोरी कहते हैं, "मैंने अपने व्यक्तिगत, पेशेवर और सामाजिक नेटवर्क का लाभ उठाया और अन्य हेल्थकेयर पेशेवरों के साथ काम किया और कोविड-19 द्वारा उत्पन्न चुनौतियों से निपटने के लिए नीतियों को तैयार करने में जनता और सरकार की मदद की।"


उन्होंने रेडियो वार्ता, अखबार के लेखों और ऑनलाइन सत्रों पर कोविड-19 के प्रसार को रोकने के लिए फिजिकल डिस्टेंसिंग, हाथ धोने, सैनिटाइजर के उपयोग और फेस मास्क के महत्व के बारे में जागरूकता पैदा की।


लॉकडाउन के दौरान समाज और देश के लिए कर्तव्यों के निर्वहन में अपने निरंतर प्रयासों के लिए, डॉ. घोरी को महाराष्ट्र के राज्यपाल, भगत सिंह कोश्यारी द्वारा 'कोरोना योद्धा' के रूप में सम्मानित किया गया था। कोविड-19 महामारी के दौरान समुदायों को सकारात्मक रूप से प्रभावित करने और रोगियों की मदद करने के लिए, उनके अल्मा मेटर, लंदन साउथ बैंक विश्वविद्यालय, यूके द्वारा कोविड-19 महामारी के दौरान 'भारत से सबसे प्रतिष्ठित पूर्व छात्र' शीर्षक से भी सम्मानित किया गया।


(दिया कोशी जॉर्ज के इनपुट्स के साथ)