इस बैंक की FD पर 1 सितंबर से बढ़ने वाला है ब्याज, रेपो रेट बढ़ने का मिलेगा फायदा

एक बैंक ऐसा है, जिसने रेपो रेट पर बेस्ड ब्याज दर वाला FD प्रॉडक्ट लॉन्च किया हुआ है. यह बैंक है निजी क्षेत्र का Yes Bank.
8 CLAPS
0

RBI (Reserve Bank of India) की मौद्रिक नीति समिति (MPC) ने रेपो रेट (Repo Rate) में 0.50 प्रतिशत की वृद्धि की है. ऐसा खुदरा महंगाई (Retail Inflation) को काबू में लाने के लिए किया गया है. अब रेपो रेट बढ़कर 5.40 प्रतिशत हो गई है. इससे नए लोन महंगे हो जाएंगे और मौजूदा लोन्स की EMI बढ़ जाएगी. लेकिन रेपो रेट में इजाफे से फिक्स्ड डिपॉजिट (Fixed Deposits or FD) पर ब्याज बढ़ने की भी संभावना है. रेपो रेट वह रेट है जिस पर RBI, बैंकों को कर्ज देता है. इसलिए रेपो रेट बढ़ने पर बैंक भी अपना कर्ज महंगा करते हैं और ज्यादा लिक्विडिटी हासिल करने के उद्देश्य से जमा पर ब्याज दरों में बढ़ोतरी कर ग्राहकों को लुभाते हैं.

वहीं एक बैंक ऐसा है, जिसने रेपो रेट पर बेस्ड ब्याज दर वाला एफडी प्रॉडक्ट लॉन्च किया हुआ है. यह बैंक है निजी क्षेत्र का Yes Bank. RBI की ओर से रेपो में कमी या बढ़ोतरी किए जाने से इस एफडी प्रॉडक्ट की ब्याज दर भी गिरेगी-चढ़ेगी. यस बैंक के फ्लोटिंग दर वाले एफडी का लाभ, एक साल से लेकर तीन साल से कम अवधि के लिए प्राप्त किया जा सकता है. मौजूदा दर इस तरह है...

1 सितंबर से कैसे बढ़ सकता है ब्याज

यस बैंक की वेबसाइट पर फ्लोटिंग रेट फिक्स्ड डिपॉजिट से जुड़े FAQ में कहा गया है कि इस एफडी प्रॉडक्ट के लिए ब्याज दर लेटेस्ट रेपो रेट के अनुसार हर महीने की पहली तारीख को रीसेट होगी. लेटेस्ट रेपो रेट उसे माना जाएगा, जो पिछले महीने की आखिरी तारीख को रहेगी. यस बैंक के इस FAQ की मानें तो अब रेपो रेट बढ़कर 5.40 प्रतिशत हो चुकी है. यही रेपो रेट अगस्त माह की आखिरी तारीख यानी 30 अगस्त को एप्लीकेबल होगी. ऐसे में ताजा रेपो रेट वृद्धि के आधार पर यस बैंक के फ्लोटिंग रेट एफडी के लिए नई ब्याज दर 1 सितंबर 2022 से लागू होने की संभावना है. प्रभावी ब्याज दर के लिए ग्राहक के पास मंथली अलर्ट जाएगा.

प्रॉडक्ट पर ब्याज कैसे होता है कैलकुलेट

फ्लोटिंग रेट एफडी की ब्याज दर में दो पार्ट रहते हैं- बेंचमार्क रेट, जो कि रेपो रेट है और मार्क अप. फाइनल ब्याज दर, रेपो रेट और मार्क अप को जोड़कर निकलती है. जहां तक ब्याज पर टैक्स की बात है तो CBDT के नियमों के तहत स्टैंडर्ड TDS डिडक्ट होगा. वर्तमान में किसी भी एफडी से एक वित्त वर्ष में 40000 रुपये से ज्यादा ब्याज आय TDS के दायरे में आती है, लेकिन यह लिमिट 60 वर्ष से कम आयु के लोगों के लिए है. 60 वर्ष से ज्यादा आयु के लोगों के लिए एक वित्त वर्ष में 50000 रुपये तक की ब्याज आय टैक्स फ्री है.

मिनिमम और मैक्सिमम निवेश

एनआरआई को छोड़कर बाकी सभी लोग फ्लोटिंग रेट एफडी करा सकते हैं. बैंक के नए और मौजूदा, दोनों तरह के ग्राहक इस प्रॉडक्ट का फायदा ले सकते हैं. यस बैंक की फ्लोटिंग रेट एफडी में मिनिमम 10000 रुपये और मैक्सिमम 5 करोड़ रुपये तक लगाए जा सकते हैं. एफडी को सिंगल या जॉइंट में खुलवा सकते हैं. नॉमिनेशन फैसिलिटी उपलब्ध है.