अब जेट ईंधन उगेगा पेड़ पर

ऑस्ट्रेलिया के गोंद के पेड़ों का इस्तेमाल कम कार्बन उत्सर्जन वाले अक्षय ईंधन के उत्पादन के लिए किया जा सकता है, जिससे विश्व विमान उद्योग के पांच फीसदी जेट विमानों के लिए ईंधन की व्यवस्था हो सकती है।

अब जेट ईंधन उगेगा पेड़ पर

Monday September 19, 2016,

1 min Read

वाणिज्यिक विमानों को उर्जा प्रदान करने वाले अक्षय ईंधन की उपलब्धता सीमित है लेकिन जल्द ही एक खास किस्म के पेड़ों के जरिये इसका समाधान निकल सकता है और हवा में उड़ने वाले विमान के लिए ईंधन का उत्पादन भी हवा में पेड़ों की डालियों पर किया जा सकता है।

दरअसल, एक नये अध्ययन में दावा किया गया है कि ऑस्ट्रेलिया के गोंद के पेड़ों का इस्तेमाल कम कार्बन उत्सर्जन वाले अक्षय ईंधन के उत्पादन के लिए किया जा सकता है। इससे विश्व विमान उद्योग के पांच फीसदी जेट विमानों के लिए ईंधन की व्यवस्था हो सकती है।

image


द ऑस्ट्रेलियन नेशनल यूनिवर्सिटी 'एएनयू' के प्रमुख अनुसंधानकर्ता कार्स्टन कुलहेम ने कहा, ‘‘अगर हम लोग विश्व भर में दो करोड़ हेक्टेयर में युक्लिप्टस लगाये, जितना वर्तमान में पल्प और कागज के लिए लगाया जाता है तो हम लोग विमान उद्योग के पांच फीसदी के लिए पर्याप्त जेट ईंधन का उत्पादन कर सकेंगे।’’ इस अध्ययन का प्रकाशन ‘ट्रेंड्स इन बायोटेक्नोलॉजी’ में किया गया है।

Share on
close