Brands
YSTV
Discover
Events
Newsletter
More

Follow Us

twitterfacebookinstagramyoutube
Yourstory

Brands

Resources

Stories

General

In-Depth

Announcement

Reports

News

Funding

Startup Sectors

Women in tech

Sportstech

Agritech

E-Commerce

Education

Lifestyle

Entertainment

Art & Culture

Travel & Leisure

Curtain Raiser

Wine and Food

Videos

ys-analytics
ADVERTISEMENT
Advertise with us

कभी स्कूटर से चलने वाले गौतम अडानी कैसे हुए दुनिया के अरबपतियों में शामिल

एक सफल बिजनेसमैन गौतम अडानी...

कभी स्कूटर से चलने वाले गौतम अडानी कैसे हुए दुनिया के अरबपतियों में शामिल

Saturday March 17, 2018 , 5 min Read

फर्श पर पड़ा कोई असफल व्यक्ति कभी नजर नहीं आता, हर कोई उगते सूरज को सलाम करता है। और कहीं वह दोपहर के सूरज की तरह तप रहा हो, सबकी आंखें चौंधिया देता है। ऐसी ही एक कामयाब शख्सियत का नाम है गौतम अडानी, जिनका जन्म निम्न मध्यम वर्गीय परिवार में हुआ, कभी घर की माली हालत खराब होने से बीच ही में पढ़ाई छोड़नी पड़ी, आज गिनती विश्व के चुनिंदा सौ अरबपतियों में है।

गौतम अडानी (फोटो साभार- सोशल मीडिया)

गौतम अडानी (फोटो साभार- सोशल मीडिया)


एक सबसे सफल बिजनेसमैन के इस सफर में गौतम अडानी को यह सफलता कोई आसानी से हासिल नहीं हुई है। खास तौर से नरेंद्र मोदी के देश का प्रधानमंत्री बनने के बाद से उनको तरह-तरह के उलाहनों और आरोपों का भी सामना करना पड़ रहा है।

गौतम अडानी का जन्म 24 जून 1962 को अहमदाबाद के गुजराती जैन परिवार में हुआ था। अपने सात भाई-बहनों में एक अडानी के पिता कभी आजीविका के लिए थराड़ कस्बे से गुजरात के इस उत्तरी हिस्से में आ बसे थे। अडानी कहते हैं, 'आज हमारे पास चार हेलिकॉप्‍टर हैं। गुजरात सरकार के मुख्यमंत्री भी उनके चॉपर का इस्‍तेमाल करते हैं। इसके लिए वह भुगतान करते हैं। जहां तक भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का सवाल है, वह भी उनका हेलिकॉप्‍टर कोई फ्री में नहीं, शुल्क अदा कर इस्‍तेमाल करते हैं।'

बात सन् 1980 के दशक की है। उस वक्त अडानी अपने अहमदाबाद शहर में बचपन के साथी मलय महादेविया के स्कूटर पर पीछे बैठे लोगों को दिख जाया करते थे। इस दोस्ती की एक खास वजह अडानी को कमजोर लेकिन महादेविया की अच्छी इंग्लिश भी रही। बाद में महादेविया उनके बिजनेस पार्टनर हो गए। अडानी भारत के उन गिने-चुने कामयाब उद्योगपतियों में एक हैं, जिन्होंने फर्श से उठकर अर्श पर पहुंचने की 'अरबपति कामयाबी' हासिल की है। माली हालत खराब होने से ही उनके पिता अहमदाबाद के पोल इलाके की शेठ चॉल में रहते थे। आज उनका कारोबार पूरी दुनिया के कोयला व्यापार, खनन, तेल एवं गैस वितरण, बंदरगाह, मल्टी मॉडल लॉजिस्टिक, बिजली उत्पादन-पारेषण तक फैला हुआ है।

इस वक्त वह लगभग दस अरब डॉलर की संपत्ति के स्वामी हैं। उनके पास देश की सबसे बड़ी एक्सपोर्ट कंपनी है। उन्होंने खुद का बीचक्रॉफ्ट जेट 2005 में और हॉकर जेट 2008 में खरीदा था। उनको यह सब महज साढ़े तीन दशक में हासिल हुआ है। अडानी ने हाल ही में उत्तर प्रदेश में 35 हजार करोड़ के निवेश का एलान किया है। उनकी पत्नी प्रीति पेशे से डेंटिस्ट हैं और अडानी फाउंडेशन की हेड भी। उनके दो पुत्र करण और जीत हैं।

पढ़ें: इस प्लेटफ़ॉर्म की मदद से आप भी मिनटों में बना सकते हैं ख़ुद का ऑनलाइन ऐप

हमारे देश में शीर्ष अंबानी साम्राज्य के जनक आज के उद्योगपति मुकेश अंबानी और अनिल अंबानी नहीं, बल्कि उनके पिता धीरू भाई अंबानी रहे हैं। इसी तरह टाटा-बिड़ला का साम्राज्य भी उनके पुरखों का बनाया हुआ है लेकिन गौतम अडानी खुद के बूते इस मोकाम पर पहुंचे हैं। जिस समय वह गुजरात यूनिवर्सिटी में बीकॉम की पढ़ाई के लिए दाखिल हुए, उन्हीं दिनो घर के सामने रोजी-रोटी का संकट आ खड़ा हुआ। चिंताजनक स्थितियों में पढ़ाई छूट गई। वह कॉलेज से मुंह मोड़कर पैसा कमाने के चुनौतीपूर्ण सफर पर निकल पड़े। अपना शहर छोड़कर मुंबई चले गए और वहां एक डॉयमंड कंपनी में बड़ी मामूली सी पगार पर नौकरी करने लगे।

वह शुरू से ही मेहनती और प्रतिभा संपन्न थे, बमुश्किल उस कंपनी डायमंड सॉर्ट महिंद्रा ब्रॉस में साल-दो-साल ही उनके पांव थमे, नौकरी छोड़कर झावेरी बाजार में उन्होंने खुद का डायमंड ब्रोकरेज आउटफिट खोल लिया। वर्ष 1981 में मनसुखभाई ने प्लाटिक की एक यूनिट अहमदाबाद में लगाई तो गौतम अडानी को कंपनी चलाने के लिए कहा। इसके बाद उन्होंने बड़े भाई की पीवीसी यूनिट संभाली और धीरे-धीरे कारोबार आगे बढ़ाया। वर्ष 1988 में उन्होंने एक्सपोर्ट-इम्पोर्ट कंपनी अडानी इंटरप्राइजेज की स्थापना की। ऐसा भी कहा जाता है कि जिस अडानी ने मारुति-800 से अपना व्यावसायिक सफर शुरू किया था और आज उनके पास बीएमडब्ल्यू गाड़ियों का झुंड है, फरारी है, कुल तीन हेलिकॉप्टर, तीन बोम्बार्डियर, बीचक्राफ्ट विमान हैं।

एक सबसे सफल बिजनेसमैन के इस सफर में गौतम अडानी को यह सफलता कोई आसानी से हासिल नहीं हुई है। खास तौर से नरेंद्र मोदी के देश का प्रधानमंत्री बनने के बाद से उनको तरह-तरह के उलाहनों और आरोपों का भी सामना करना पड़ रहा है। कहा जाता है कि नरेंद्र मोदी ने अप्रैल, 2014 में जब प्रधानमंत्री का पद संभाला था, अडानी की पर्सनल वेल्थ लगभग पांच अरब डॉलर थी, जो आज ब्लूमबर्ग बिलेनायर इंडेक्स के मुताबिक 63 हजार करोड़ रुपए हो चुकी है।

देश के बाहर भी कई मोरचों पर उनके सामने कठिन हालात आज भी बने हुए हैं। उनको ऑस्ट्रेलिया के क्वींसलैंड में सबसे बड़ी करीब 16.6 अरब डॉलर की लागत वाली कोयला खदान से खनन का अवसर मिला, जिसके लिए उन्हें ऑस्ट्रेलिया सरकार ने लगभग एक अरब डॉलर का कर्ज भी दिया लेकिन प्रोजेक्ट विवादों में आ गया। ऑस्ट्रेलिया के पर्यावरणवादी कहने लगे कि ये प्रोजेक्ट पर्यावरण के लिए नुकसानदायक है। इस प्रोजेक्ट पर केंद्रित विवाद आज भी थमा नहीं है। इसी तरह मध्य प्रदेश में उनका एक हीरा खदान का प्रोजेक्ट भी आजकल मीडिया की सुर्खियों में है। बताया जा रहा है कि अडानी ग्रुप और अरबपति अनिल अग्रवाल के नियंत्रण वाले वेदांता रिसोर्सेज ग्रुप मिलकर 59 हजार करोड़ के डायमंड प्रोजेक्ट के लिए बिड लगाने वाले हैं।

आगामी नवंबर में इसके लिए बिड्स आमंत्रित किए जा सकते हैं। इस खदान में 3.2 करोड़ कैरेट डायमंड होने का अनुमान है। सचाई तो यह बताई जाती है कि अडानी पर नरेंद्र मोदी से नजदीकियों का भले आरोप लगे लेकिन ओडिशा, हरियाणा, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश, राजस्थान में अपने उद्योग-धंधों का विस्तार करने के दौरान कांग्रेस नीत सरकारों में उनके कई दोस्त रहे हैं। शरद पवार और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कमलनाथ से भी उनकी नजदीकियां बताई जाती रही हैं।

यह भी पढ़ें: मिलिए एमबीबीएस करने के बाद 24 साल की उम्र में गांव की सरपंच बनने वाली शहनाज खान से