बहिष्कार के बावजूद नहीं रुक रही बिक्री

By PTI Bhasha
October 18, 2016, Updated on : Thu Sep 05 2019 07:17:15 GMT+0000
बहिष्कार के बावजूद नहीं रुक रही बिक्री
भारत में कई दिनों से चल रहे बहिष्कार अभियान के बावजूद चीनी उत्पादों की बिक्री घटने की बजाय बढ़ रही है।
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

जैश-ए-मोहम्मद के प्रमुख मसूद अजहर पर प्रतिबंध का चीन द्वारा संयुक्त राष्ट्र में विरोध करने के बाद भारत में चीनी सामानों के बहिष्कार का अभियान जारी है, लेकिन इसके बावजूद त्योहारी मौसम में भारत में चीनी माल की रिकॉर्ड बिक्री हुई है। यह जानकारी सरकारी अखबार ग्लोबल टाइम्स के लेख में दी गई है।

image


लेख के अनुसार, ‘भारत में दीवाली सबसे बड़ा खरीदारी मौसम है और हिंदुओं का सबसे प्रमुख त्योहार भी है। लेकिन पिछले कुछ दिनोें से भारतीय सोशल मीडिया पर चीनी सामान के बहिष्कार के लिए अभियान चलाया जा रहा है और कुछ राजनेता भी तथ्यों को बढ़ा-चढ़ा कर पेश कर रहे हैं।' 

साथ ही लेख में यह भी कहा गया है, कि हालांकि भारत में चीनी सामानों के लिए बिना परवाह के बहिष्कार अभियान चलाने और भारतीय मीडिया द्वारा चीनी सामानों का ‘बुरा दिन’ आने की रपटें दिखाने के बावजूद भारत सरकार ने कभी भी चीनी उत्पादों की आलोचना नहीं की है और वह पूरे देश में काफी लोकप्रिय हैं।' 

लेख के अनुसार बहिष्कार का यह अभियान सफल नहीं हुआ है। देश के तीन प्रमुख ई-वाणिज्य खुदरा बिक्री मंचों पर चीनी उत्पादों की अक्तूबर के पहले हफ्ते में रिकॉर्ड बिक्री हुई है। चीन की हैंडसेट कंपनी शियोमी ने फ्लिपकार्ट, आमेजन इंडिया, स्नैपडील और टाटा क्लिक जैसे मंचों पर मात्र तीन दिन में पांच लाख फोनों की बिक्री की है।

लेख में कहा गया है कि जब भी भारत में क्षेत्रीय मुद्दों पर तनाव बढ़ता है तो अक्सर चीनी उत्पाद उसका शिकार बनते हैं और यह धारणा पिछले कुछ सालों से देखने को मिल रही है।

भारत-चीन संबंधों में द्विपक्षीय व्यापार मजबूत स्तंभों में से एक है। दोनों देशों के बीच 2015 में 70 अरब डॉलर का व्यापार हुआ था और चीन ने भारत में करीब 87 करोड़ डॉलर का निवेश किया। यह 2014 के मुकाबले छह गुना अधिक था।

Clap Icon0 Shares
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Clap Icon0 Shares
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close