महिला ट्रैवलर के लिए पसंदीदा विकल्प बन गया है यह आयुर्वेदिक इंटीमेट हाइजीन ब्रांड, जानिए इसकी खासियत

महिला ट्रैवलर के लिए पसंदीदा विकल्प बन गया है यह आयुर्वेदिक इंटीमेट हाइजीन ब्रांड, जानिए इसकी खासियत

Friday August 16, 2019,

6 min Read

भारत में महिलाओं की जरूरतों की अगर बात की जाए तो सार्वजनिक स्वच्छता (Public hygiene) की हमेशा मांग रही है। कहीं भी ट्रैवल कर रही किसी महिला के लिए एक स्वच्छ टॉयलेट का पता लगाना काफी मुश्किल होता है। और यह समस्या तब और बढ़ जाती है जब महिलाएं अपने पीरियड्स में होती हैं। ऐसे देश में जहां मासिक धर्म (पीरियड्स) को लेकर स्वच्छता बहुत कम है वहां राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण (एनएफएचएस) की 2015-16 से संबंधित रिपोर्ट के आंकड़े चौंकाने वाले हैं। एनएफएचएस के मुताबिक देश में 62 प्रतिशत युवा महिलाएं अभी भी अपने पीरियड्स के दौरान कपड़े का उपयोग करती हैं। यह दर्शाता है कि देश में अंतरंग स्वच्छता अर्थात इंटीमेट हाइजीन को लेकर जागरूकता फैलाने की कितनी आवश्यकता है।


महिलाओं के बीच इंटीमेट हाइजीन के बारे में जागरूकता पैदा करने और उनकी जरूरतों के लिए सभी प्राकृतिक आयुर्वेदिक उत्पादों की पेशकश करने के उद्देश्य से, सैक राजेश (34), अनुप्रिया कपूर (38), शैलेंद्र रावत (36), और सायंतन भट्टाचार्जी (31) ने दिसंबर 2018 में इमब्यू (Imbue) की स्थापना की।



अनुप्रिया कपूर

अनुप्रिया कपूर



बाजार में लगभग 95 प्रतिशत इंटीमेट हाइजीन प्रोडक्ट केमिकल से भरे हैं। विश्व स्तर पर, लगभग 75 प्रतिशत महिलाएं अपने जीवनकाल में कम से कम एक बार योनि यीस्ट संक्रमण (vaginal yeast infection) से पीड़ित होती हैं। लेकिन इस समस्या का समाधान करने के लिए अभी तक कोई आयुर्वेदिक उत्पाद उपलब्ध नहीं है। Imbue की ब्रांडिंग व पीआर हेड अनुप्रिया कपूर और बिजनेस व स्ट्रेटजी हेड सायंतन भट्टाचार्जी ने SMBStory को बताया कि वे Imbue के साथ इन मुद्दों के बारे में जागरूकता पैदा करना चाहते हैं और महिलाओं को एक सर्व-प्राकृतिक ब्रांड के साथ सेवा देना चाहते हैं।” 


इंटरव्यू के संपादित अंश:


Imbue क्या है और आपने यह बिजनेस कैसे शुरू किया?

अनुप्रिया कपूर: इमब्यू एक सर्व-प्राकृतिक स्त्री इंटीमेट वॉश ब्रांड है जो पंच-वल्कल (पेड़ों की पांच छाल) से विकसित होता है, जिसमें औषधीय और उपचार गुण होते हैं। यह योनी (vulva) भाग में अच्छे बैक्टीरिया के विकास को बढ़ावा देता है। इसके अलावा यह योनि भाग में जलन और चकत्ते पर काबू पाने में भी मदद करता है।


Imbue की शुरुआत वहां से हुई थी जब हमारे प्रमुख शोधकर्ता और वैज्ञानिक आसिन ने यूक्रेन में एक अजीबोगरीब समाधान के लिए इस उत्पाद को विकसित किया था। दरअसल वहां इंटीमेट हाइजीन प्रोडक्ट्स की कमी और अधिक ठंड के मौसम के कारण महिलाओं में यीस्ट (खमीर) संक्रमण की समस्याएं बेहद अधिक थीं। संक्रमण के बैक्टीरिया ने एंटीबायोटिक दवाओं के असर को भी कम करना शुरू कर दिया था। तब एक ट्रेडिशनल फॉर्मुलेशन तैयार करने के लिए असिन ने आयुर्वेद के अपने पुराने सिद्धांतों को अपनाया, जो पूरी तरह से प्राकृतिक थे। उन्होंने एक ऐसा प्रोडक्ट तैयार किया कि जब तक महिला स्नान नहीं कर लेती तब तक वह संक्रमण को रोकने के लिए कारगर था। कुछ साल बाद, आसिन ने राजेश (SAK), जो अब Imbue के सह-संस्थापक हैं, के साथ एक मीटिंग की। राजेश ने भारत में एकमात्र गैप पाया कि यहां हाइजेनिक वॉशरूम की कमी है जिसके परिणामस्वरूप संक्रमण होते हैं। फिर उन्होंने अन्य सह-संस्थापकों के साथ मिलकर इस ब्रांड को 12 लाख रुपये की बूटस्ट्रैप्ड पूंजी के साथ लॉन्च किया।



k

Imbue के को-फाउंडर्स क्रमश:, शैलेंद्र रावत (बाएं) सैक राजेश (बीच में) सायंतन भट्टाचार्जी (दाएं)



Imbue प्रोडक्ट क्या हैं? ब्रांड अपने उत्पादों का निर्माण कहां करता है?

अनुप्रिया: वर्तमान में, हमारे पास दो स्टॉक कीपिंग युनिट हैं - इंटीमेट हाइजीन फोम और इंटीमेट हाइजीन वॉश। हमने इंटीमेट हाइजीन फोम को लॉन्च करके अपनी शुरूआत की। इस फोम में पानी की आवश्यकता नहीं होती है और यह योनी भाग को साफ करने में सबसे कारगर होता है। यह हमारा हाई-डिमांड वाला प्रोडक्ट है और उन महिला ट्रैवलर के बीच लोकप्रिय है, जिन्हें दूरदराज के स्थानों की यात्रा के दौरान उचित स्वच्छता और स्नान की सुविधा नहीं मिलती है।


हमने हाल ही में इंटीमेट हाइजीन वॉश लॉन्च किया है। यह धीरे-धीरे एक दूसरे के माध्यम से पहचान हासिल कर रहा है। हमारे उत्पादों का निर्माण देहरादून, उत्तराखंड में एक थर्ड-पार्टी निर्माता (डेल्टा फार्मास्यूटिकल्स) के माध्यम से किया जाता है और हम आसपास के क्षेत्रों से सभी सामग्रियों को इकट्ठा करते हैं।


उत्पादों के निर्माण के अलावा, हम अपने विभिन्न सोशल मीडिया चैनलों के माध्यम से और व्यापक रूप से इंस्टाग्राम पर महिलाओं के बीच इंटीमेट हाइजीन के बारे में जागरूकता पैदा करने के लिए पूरी तरह से समर्पित हैं। हम शरीर रचना विज्ञान को लेकर बात करते हैं और महिलाओं को पीसीओएस, पीएमएस, मास्टिटिस आदि जैसी मेडिकल कंडीशन्स के बारे में शिक्षित करते हैं। वर्तमान में, मात्र 8 महीने की अवधि के दौरान ब्रांड के पास 500 से अधिक का कस्टमर बेस है। इसमें 10 प्रतिशत ऐसे कस्टमर हैं जिन्होंने प्रोडक्ट को रिपीट किया है। 


कैसे आप अपने आप को VWash और क्लीन एंड ड्राई जैसे कंपटीटिव ब्रांडों से अलग कर रहे हैं?

अनुप्रिया: भले ही हम अन्य बड़े ब्रांडों की तरह समान कैटेगरी में आते हैं लेकिन, हम इस कैटेगरी में उपलब्ध एकमात्र पूरी तरह से प्राकृतिक फॉर्मुलेशन हैं और हम कैटेगरी में मौजूद बाकी ब्रांड्स को सहकर्मी मानते हैं, प्रतियोगिता नहीं।


कैटेगरी के बारे में जागरूकता इतनी कम है कि जितने अधिक ब्रांड इस बाजार में प्रवेश करते हैं उतना बेहतर है। इस सेगमेंट का बाजार बहुत बड़ा है। जिस चीज की हमें ज्यादा जरूरत है, उसके बारे में ज्यादा लोग बात कर रहे हैं।


क

Imbue के प्रोडक्ट्स


आपकी प्रमुख चुनौतियां क्या हैं?

अनुप्रिया: हमारे सामने सबसे बड़ी चुनौती प्रोडक्ट और इस कैटेगरी के प्रति जागरूकता की कमी है। हम एक छोटे ब्रांड हैं लेकिन हम देखते हैं कि पहले से मौजूद अधिकांश बड़े ब्रांड इस कैटेगरी में किसी भी जागरूकता को बढ़ाने के लिए कुछ खास नहीं कर रहे हैं। इसलिए, अब ये जिम्मेदारी हम जैसे छोटे व अन्य ब्रांडों पर छोड़ दी गई है।


आपके भविष्य की क्या संभावनाएं हैं?

अनुप्रिया: दिसंबर तक, हम एक महीने में 3,000 ग्राहकों को सेवा देने का लक्ष्य बना रहे हैं। हमने हाल ही में Imbue वॉश लॉन्च किया है और महिलाओं की खास जरूरतों को पूरा करने वाले इनोवेटिव उत्पादों की एक पूरी मेजबानी शुरू करने का इरादा रखते हैं। अक्टूबर तक, हम एक वजिनल स्टिमुलेट और लुब्रिकेंट लॉन्च करने की योजना बना रहे हैं, जिसकी अभी टेस्टिंग चल रही है। हम अपनी फर्स्ट राउंड की फंडिंग के लिए भी बातचीत कर रहे हैं।