फूड वेस्ट और कीड़ों से प्रोटीन निकालकर जानवरों के लिए चारा बना रहा है यह बायोटेक स्टार्टअप

By Naina Sood
May 02, 2022, Updated on : Tue May 03 2022 05:07:15 GMT+0000
फूड वेस्ट और कीड़ों से प्रोटीन निकालकर जानवरों के लिए चारा बना रहा है यह बायोटेक स्टार्टअप
बेंगलुरु स्थित बायोटेक्नोलॉजी स्टार्टअप Loopworm ब्लैक सोल्जर फ्लाई (बीएसएफ) वॉर्म्स के लिए हाई क्वालिटी वाला चारा बनाने के लिए हर दिन 50 टन फूड वेस्ट यानी खाद्य अपशिष्ट को प्रोसेस कर रहा है। कीड़ों से निकाले गए प्रोटीन का इस्तेमाल पशुओं के चारे और पालतू जानवरों के भोजन के लिए किया जाता है।
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

आईआईटी-रुड़की में पढ़ाई करते समय अपने खाली टाइम में अंकित आलोक बगरिया और अभि गवरी यही सोचा करते थे कि आखिर भोजन की बर्बादी को कैसे सही जगह इस्तेमाल किया जाए। अपने फाइनल ईयर के एक प्रोजेक्ट के दोरान उन्हें 'अपसाइक्लिंग' के कॉन्सेप्ट के बारे में पता चला और तभी उनके अंदर इसके उत्साह से सामाजिक उद्यमिता में रुचि जागी।


उन्होंने कई रिपोर्टों को पढ़ा, लेकिन संयुक्त राष्ट्र (यूएन) की एक स्टडी थी जिसने उनका ध्यान अपनी ओर खींचा।


अंकित कहते हैं, “हमें एक कीट-आधारित प्रोडक्ट मार्केट के कॉन्सेप्ट के बारे में पता चला, जिसे पश्चिम में पहले ही काफी चर्चा मिल चुकी थी। बर्बाद भोजन को खाने के लिए कीड़े-मकोड़े बनाए जाते हैं, जिससे वे प्रोटीन, फैट और पोषक तत्वों में समृद्ध होते हैं। इसके बाद इन कीड़ों से ये सब निकाला जाता है और पशु चारा और पालतू जानवरों के भोजन, केंद्रित, एंजाइम आदि में वैकल्पिक प्रोटीन के रूप में इस्तेमाल किया जाता है।”


फूड वेस्ट को एक वैल्युएबल रिसोर्स में बदलने और इसे फूड चेन या 'फूड लूप' में वापस लाने के इस कॉन्सेप्ट के कारण 2019 में Loopworm की शुरुआत हुई।


बेंगलुरु स्थित इस बायोटेक्नोलॉजी स्टार्टअप ने टिकाऊ ब्लैक सोल्जर फ्लाई (बीएसएफ) लार्वा-बेस्ड प्रोटीन और फैट का प्रोडक्शन करने के लिए एक फ्लैगशिप वर्टिकल और इनडोर-बेस्ड स्मार्ट कीट प्रजनन, प्रोडक्शन और प्रोसेसिंग तकनीक विकसित की है। प्रोसेसिंग इंडस्ट्रीज या मैन्युफैक्चरर से प्राप्त फूड वेस्ट को पहले थर्मल, केमिकल और बायोलॉजिकल प्री-ट्रीटमेंट के माध्यम से हाई क्वालिटी वाले फीडस्टॉक में बदला जाता है, और फिर इसे इन कीड़ों को खिलाया जाता है। इसके बाद हेल्दी प्रोटीन और फैट को इन कीड़ों से निकाला जाता है और विभिन्न प्रोडक्ट्स में इस्तेमाल किया जाता है।


आज तक, लूपवॉर्म ने B2B प्रोडक्ट्स को ही अपनाया है, जिसमें पशु आहार और पालतू जानवरों के भोजन में कच्चे माल के रूप में इस्तेमाल किए जाने वाले प्रोटीन कंक्रीट, प्रोटीन पाउडर शामिल हैं जो जानवरों (मछली, कछुए, और क्रस्टेशियंस, और बेहतर विकास और मांस की क्वालिटी के लिए पोल्ट्री, फार्म मछली, और फार्म सुअर आहार में इस्तेमाल के लिए), कीट तेल या इन्सेक्ट ऑयल (पशु आहार में और कॉस्मेटिक उत्पादों में कच्चे माल के रूप में इस्तेमाल किया जाता है) और इन्सेक्ट फ्रैस (पौधे की प्रतिरक्षा-बढ़ाने वाली मिट्टी को जोड़ने वाला) के लिए प्राकृतिक आहार के रूप में कार्य करता है।

Loopworm

सही फॉर्मूले को भुनाना

लूपवॉर्म का आर एंड डी स्टेज कॉलेज के ठीक पास होने के बाद शुरू हो गया था। व्यापक रिसर्च के बाद, संस्थापक दिल्ली चले गए थे, जहां उन्हें अमेरिकी केंद्र में नेक्सस स्टार्टअप हब द्वारा प्री-इनक्यूबेट किया गया था। दिलचस्प बात यह है कि दोनों ने अपने किराए के अपार्टमेंट से कीड़ों और फूड वेस्ट के साथ अपने शुरुआती प्रयोग किए और बात को छिपाए रखा।


अंकित कहते हैं, “हम शहर के चारों ओर घूमते थे, खाने का कचरा इकट्ठा करते थे और इसे अपने अपार्टमेंट में वापस लाते थे। हमने जानबूझ कर बिना लिफ्ट वाली इमारत की सबसे ऊपरी मंजिल को चुना ताकि कोई बार-बार न आ सके, क्योंकि हमने अपनी जगह को लैब में बदल दिया था! कोई भी मकान मालिक अपनी संपत्ति पर कीड़ों को पालते हुए देखना पसंद नहीं करता।”


अंकित और अभि द्वारा सही समाधान के रूप में बीएसएफ लार्वा पर सफलता हासिल करने से पहले मीलवॉर्मस, झिंगुर, टिड्डे और कई अन्य "कीड़ों" का एक्सपेरिमेंट किया गया था। ब्लैक सोल्जर फ्लाई लार्वा (बीएसएफएल) को लोकप्रिय रूप से कचरे को खाद बनाने या कचरे को जानवरों के चारे में बदलने के लिए इस्तेमाल किया जाता है।


2019 के अंत तक, स्टार्टअप ने अपना आधार बेंगलुरु में शिफ्ट कर दिया, जहां उष्णकटिबंधीय कीट को ढूंढना और उनका पालन करना अधिक सुविधाजनक था।


लूपवॉर्म के लिए हिट एंड ट्रायल (प्रूफ ऑफ कॉन्सेप्ट) की अवधि लगभग 17-18 महीनों तक जारी रही। संस्थापकों ने एक छोटे से गौशाला को अपनी कीट खेती की फैसिलिटी में बदल दिया था, और एक बायोइनोवेशन सेंटर से प्रोडक्ट डेवलपमेंट और क्वालिटी मूल्यांकन किया था।


वे कहते हैं, "फीडस्टॉक की क्वालिटी से लेकर जलवायु नियंत्रण तक, उस बेहतर गुणवत्ता वाले प्रोटीन प्रोफाइल को प्राप्त करने के लिए बहुत सी चीजों को सही करने की आवश्यकता है। हमारे पास ऐसे कई विशेषज्ञ नहीं हैं जिन्होंने पहले बीएसएफ के साथ काम किया है, और इसलिए हमें अपना होमवर्क बड़े पैमाने पर करना था, यह समझना था कि ये कीड़े प्राकृतिक वातावरण में कैसे रहते हैं और कैसे बढ़ते हैं और फिर उसी के लिए एक औपचारिक औद्योगिक सेटअप बनाकर इसकी नकल करते हैं। यह सटीक खेती की तरह है।”

BSF लार्वा का प्रजनन और पालन

BSF लार्वा का प्रजनन और पालन

फंडिंग, बिजनेस मॉडल, यूज केस

टीम परिणाम स्थापित करने पर काम कर रही है, और अब पशु चारा और पालतू जानवरों के भोजन निर्माताओं के साथ साझेदारी करके अपने उत्पादों के व्यावसायीकरण की ओर देख रही है। कॉस्मेटिक इंडस्ट्री (पूर्वी एशियाई बाजार), बायो-मटेरियल, स्टीमुलेंट और एंजाइम में इसका एक और इस्तेमाल है, जिसे स्टार्टअप बाद में तलाशने की योजना बना रहा है।


Oricga जैसी थाई कंपनियों ने एंटोमोकोस्मेटिक प्रोडक्ट्स (कीड़ों के तेल और चिटोसन से बने इनोवेटिव स्किनकेयर प्रोडक्ट्स) की एक पूरी लाइन पेश की है जो विभिन्न स्किन केयर प्रोडक्ट्स में कृषि अपशिष्ट से भरे बीएसएफ लार्वा से प्रोटीन तेल का उपयोग करते हैं। यूएस स्थित प्वाइंट इन्सेक्ट ब्यूटी एक और उदाहरण है। प्रोटीन तेल को आवश्यक ओमेगा फैटी एसिड में स्वाभाविक रूप से समृद्ध माना जाता है जिसमें रोगाणुरोधी, जीवाणुरोधी और एंटीवायरल यौगिकों के साथ 3, 6 और 9 शामिल हैं।


लूपवॉर्म ने अपने पायलट प्रोजेक्ट का समर्थन करने के लिए केंद्र और कर्नाटक सरकारों से कुल मिलाकर 1 करोड़ रुपये का अनुदान प्राप्त किया है। इसे सोशल अल्फा (साइंस और टेक्नोलॉजी स्टार्टअप के लिए एक वेंटर डेवलपमेंट प्लेटफॉर्म) से भी समर्थन मिला है।


वर्तमान में, पशु चारा निर्माता प्रोटीन के विभिन्न स्रोतों का इस्तेमाल कच्चे माल के रूप में करते हैं, जिसमें जंगली समुद्री मछलियाँ, सार्डिन (मछली का भोजन केंद्रित), सोयामील (पोल्ट्री) आदि शामिल हैं। लूपवर्म के पक्ष में जो काम करेगा वह है एक वैकल्पिक टिकाऊ और उच्च गुणवत्ता वाले प्रोटीन स्रोत/कच्चे माल की पेशकश जिसके माध्यम से ग्राहकों के पास कच्चे माल की सामान्य लाइन के अलावा एक अतिरिक्त विकल्प हो सकता है। 


अंकित कहते हैं, “लगभग 350 पशु चारा और 30 पालतू जानवरों के भोजन निर्माता हैं जो कुछ इसी तरह के कच्चे माल की सोर्सिंग कर रहे हैं। वे हमेशा अपने उत्पादों को उन्नत करने के लिए प्रोटीन के कुछ नए या वैकल्पिक और अच्छी गुणवत्ता वाले स्रोतों की तलाश में रहते हैं। हम फूड वेस्ट और कीड़ों के साथ चारा निर्माण में इनोवेशन पर खेल रहे हैं।”


स्टार्टअप अपने उत्पादों की आपूर्ति के लिए सात पालतू जानलरों के भोजन और पांच पशु चारा निर्माताओं के साथ बातचीत कर रहा है और कॉमर्शियल परीक्षणों से गुजर रहा है।


भविष्य में, लूपवॉर्म प्रोटीन प्रोडक्शन का एक विकेन्द्रीकृत व्यवसाय मॉडल बनाना चाहता है, जहां उत्पादन के चार चरण- प्रजनन और पालन, फीडस्टॉक तैयार करना, पॉली हाउस और प्रोडक्ट डेवलपमेंट (बायो लैब), को प्रगतिशील किसानों और सूक्ष्म उद्यमियों को आउटसोर्स किया जाएगा। अंकित का कहना है कि उन्हें लूपवॉर्म द्वारा संचालित मिनी प्रोटीन फैक्ट्रियों द्वारा इनपुट और फार्म मॉनिटरिंग और उपज की बायबैक गारंटी के साथ सुविधा प्रदान की जाएगी।


उन्होंने कहा, "हम वित्त वर्ष 23 के अंत तक राजस्व में $1.5 मिलियन की रन रेट को टारगेट कर रहे हैं, और अमेरिका और यूरोप सहित निर्यात बाजारों का पता लगाने का भी लक्ष्य है।" लूपवर्म ने अब तक 60 टन से अधिक फूड वेस्ट / बाई-प्रोडक्ट्स को लैंडफिल से हटाने में मदद की है।

बाजार विश्लेषण और प्रतिस्पर्धा

व्यावसायिक दृष्टिकोण से, प्रोडक्टिविटी और क्वालिटी सबसे महत्वपूर्ण घटक हैं जो लूपवॉर्म को बाजार में उपलब्ध अन्य प्रोटीनों से आगे बढ़ने में मदद करेंगे। हालांकि वर्तमान में भारत में कीट-आधारित उत्पादों का बाजार बेहद सीमित है, निर्माता बेहतर उत्पादों के निर्माण के लिए वैकल्पिक प्रोटीन की अवधारणा को हवा दे रहे हैं।


इसके अलावा, विकल्पों की भी तत्काल आवश्यकता है, विशेष रूप से स्थायी विकल्पों की। विश्व बैंक के अनुसार, लगभग 90 प्रतिशत वैश्विक समुद्री मछली स्टॉक अब पूरी तरह से दोहन की गई मछली है, जबकि 85 प्रतिशत भूमि का भी पहले ही इस्तेमाल किया जा चुका है। मछली और सोयामील की कीमतें उनकी आक्रामक मांग को देखते हुए तेजी से बढ़ रही हैं।


गोदरेज एग्रोवेट, कारगिल इंडिया, केएसई लिमिटेड, अवंती फीड्स और अनमोल फीड देश में कुछ प्रमुख फीड निर्माता हैं। ResearchAndMarkets की एक रिपोर्ट के अनुसार, भारतीय पशु चारा बाजार दुनिया के सबसे बड़े और सबसे तेजी से बढ़ते खाद्य बाजारों में से एक है। पशु प्रोटीन की बढ़ती मांग, संगठित डेयरी उत्पादन की वृद्धि, बड़ी पशुधन आबादी और समुद्री भोजन की उच्च मांग के कारण मांग में तेजी आ रही है।


वे कहते हैं, "कीट प्रोटीन बाजार जल्द ही मुख्यधारा बन जाएगा, यह 40 प्रतिशत की सीएजीआर से बढ़ रहा है। यह वर्तमान में $1.5 बिलियन का बाजार है, और यूज-केस/बाजार कुछ पश्चिमी देशों में पहले से ही स्थापित है।”


प्रोऑन (पुणे) और इंसेक्टिफी (बैंगलोर) जैसे स्टार्टअप पहले से ही इस स्पेस में काम कर रहे हैं और इसी तरह की तकनीकों और उत्पादों को विकसित कर रहे हैं।

भविष्य की योजनाएं / लक्ष्य

स्टार्टअप इक्विटी फंडिंग और सहयोग की तलाश में है, और जल्द ही निवेशकों को इसमें शामिल किया जा सकता है। जहां इसकी पेशकश वर्तमान में B2B के आसपास है, वहीं यह लंबे समय में B2C सेगमेंट (पालतू जानवरों के प्रोटीन पाउडर, भोजन की खुराक) का पता लगा सकता है। यह R&D कर रहा है। इसके अलावा यह पालतू जानवरों के भोजन बाजार में आवश्यक मात्रा स्थापित करने का प्रबंधन कर रहा है।


अंकित ने अंत में बताया, “हमारा लक्ष्य एक वर्ष में प्रतिदिन 20 टन फूड वेस्ट को प्रोसेस करना है। लंबे समय में, हम भारत और विश्व स्तर पर सबसे बड़ी वैकल्पिक प्रोटीन कंपनियों में से एक बनने की कल्पना करते हैं, और 7000 टन खाद्य बाई-प्रोडक्ट्स का इस्तेमाल करते हुए 2023 तक 300 टन प्रोटीन का उत्पादन करना चाहते हैं। हम एक ऐसे भविष्य की उम्मीद करते हैं जहां कीट-आधारित भोजन को मनुष्यों और जानवरों द्वारा बड़े पैमाने पर उपभोग के लिए 'सुपरफूड' के रूप में माना जाएगा।" 


Edited by Ranjana Tripathi

Clap Icon0 Shares
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Clap Icon0 Shares
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

हमारे दैनिक समाचार पत्र के लिए साइन अप करें