असिस्टेड टेलीमेडिसिन स्पेस में मौजूद कमियों को बखूबी पूरा कर रहा है यह स्टार्टअप

By Ayshwaria Lakshmi
February 21, 2022, Updated on : Mon Feb 21 2022 05:29:28 GMT+0000
असिस्टेड टेलीमेडिसिन स्पेस में मौजूद कमियों को बखूबी पूरा कर रहा है यह स्टार्टअप
दिल्ली स्थित VDOC ने हाल ही में रॉयल एनफील्ड और अशोक लीलैंड के पूर्व सीईओ विनोद के दसारी से फंडिंग हासिल की है। यहाँ बताया गया है कि महामारी के बीच लॉन्च किया गया यह स्टार्टअप स्वास्थ्य देखभाल से जुड़ी समस्याओं को किस इस तरह हल कर रहा है।
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

पिछले महीने, दिल्ली स्थित हेल्थटेक स्टार्टअप VDOC को रॉयल एनफील्ड और अशोक लीलैंड के पूर्व सीईओ विनोद के दसारी के नेतृत्व में सीड फंडिंग राउंड में एक अज्ञात राशि मिली है। संजीव मल्होत्रा और सिद्धार्थ शर्मा द्वारा अप्रैल 2021 में स्थापित VDOCउन प्लेटफार्मों में से एक है जो प्राथमिक स्वास्थ्य सेवा में अंतराल को दूर करने के लिए महामारी के दौरान उभरे हैं।


तो क्या VDOC इस स्पेस में अन्य खिलाड़ियों से अलग क्या करता है? स्टार्टअप स्वास्थ्य सेवाओं के एक पहलू पर ध्यान केंद्रित कर रहा है जो प्राथमिक स्वास्थ्य सेवा है। सह-संस्थापक के अनुसार, यह इस क्षेत्र का 80 प्रतिशत हिस्सा है।


VDOC लाइफसाइंसेज के संस्थापक और सीईओ संजीव ने योरस्टोरी को बताया, “मुख्य रूप से हम प्राथमिक स्वास्थ्य देखभाल वितरण प्रणाली में दबाव की चुनौतियों को हल करने की कोशिश कर रहे हैं। इस आंदोलन में, हमारा लक्ष्य समय पर डॉक्टरों की उपलब्धता प्रदान करना है। यह मूल समस्या समाधान है जिसपर हम काम करना चाहते हैं और इसके आसपास व्यवसाय का निर्माण करना चाहते हैं।”


कोरोना महामारी ने दूरस्थ परामर्श की आवश्यकता को तेज कर दिया है। हालांकि, इस सेगमेंट में कुछ बाधाएं देखी जा रही हैं जैसे कि लोगों का तकनीक के प्रति जागरूक ना होना और लोगों के लिए अतिरिक्त लागत के साथ बाहरी जांच का बोझ।


VDOC का कहना है कि यह टेलीमेडिसिन उपकरण जैसे डिजिटल स्टेथोस्कोप, ओटोस्कोप, एग्जाम कैमरा और एक नर्स के साथ दूरस्थ परामर्श सॉफ़्टवेयर के साथ इन दर्द बिंदुओं को हल करता है। यह चेक-अप के साथ डॉक्टर की सहायता भी करता है।


नए मॉडल का लाभ उठाकर स्टार्टअप का लक्ष्य स्वास्थ्य सेवा क्षेत्र में अंतिम छोर तक की समस्याओं का समाधान करना है। VDOC का कहना है कि एक रिमोट कंसल्टेशन में एक एक डॉक्टर ही परामर्श प्रदान करता है, लेकिन इसमें टेलीमेडिसिन उपकरण और एक प्रशिक्षित नर्स को जोड़ने से यह पूर्ण सामान्य जांच बन जाती है।


स्टार्टअप का कहना है कि यह एकीकृत मॉडल इसे इस स्पेस में दूसरों से अलग करता है। संजीव कहते हैं, "ये दो प्रमुख समस्याएं हैं जिन्हें हम हल करना चाहते हैं और पूरी टेक्नालजी, ऑपरेशन और सोल्यूशंस उस समस्या को हल करने पर ही केंद्रित हैं।"


अगले 12-16 महीनों में, स्टार्टअप की योजना कॉरपोरेट्स, आवासीय समुदायों और स्कूलों के साथ साझेदारी करने की है ताकि वे अपने मेडिकल चेकअप रूम का उपयोग करके एक VDOC क्लिनिक स्थापित कर सकें। कंपनी का कहना है कि यह क्लिनिक यूजर्स को डॉक्टरों, डायग्नोस्टिक्स, दवा और प्राथमिक चिकित्सा तक पहुंच प्रदान करेगा।


VDOC के पास वर्तमान में गुरुग्राम में एक क्लिनिक है, जिसे पिछले साल सितंबर में लॉन्च किया गया था। इस महीने गुरुग्राम के बाहरी इलाके वाटिका नेक्स्ट सिटी सेक्टर 83 में इस तरह का एक और क्लिनिक शुरू करने की योजना है। स्टार्टअप का लक्ष्य 2022 के अंत तक कुल मिलाकर 20 क्लीनिक खोलना है।

vdoc

सांकेतिक चित्र

इसके सब्सक्रिप्शन प्लान बेसिक लेवल के लिए 10 रुपये प्रति दिन से शुरू होते हैं और 500 रुपये प्रति माह तक जाते हैं। वर्तमान में, पूर्व-राजस्व चरण में आगे बढ़ रहे इस स्टार्टअप की योजना दूसरे क्लिनिक से आय उत्पन्न करने की है। VDOC के संस्थापकों का कहना है कि उनके पहले क्लिनिक ने उन्हें कई महत्वपूर्ण सबक सिखाए हैं।


वे कहते हैं, "मूल रूप से यह बहुत उत्साहजनक रहा है क्योंकि हम डॉक्टरों को जिस तरह के सबूत पेश करने में सक्षम थे। हमने बाल रोग विशेषज्ञ, त्वचाविज्ञान और अन्य सेवाओं जैसी सुविधाओं को भी जोड़ा है।”


संजीव कहते हैं, "यह एक बहुत ही महत्वपूर्ण पहलू है क्योंकि यह केवल सामान्य परामर्श नहीं है जो हमारे द्वारा प्रदान की जाने वाली सेवाओं का हिस्सा हैं।"

स्टार्टअप की टीम

VDOC की 21 सदस्यीय टीम है, जिसमें संस्थापक, तीन-लोगों की टेक टीम और आठ डॉक्टर शामिल हैं। VDOC की संस्थापक टीम का नेतृत्व संजीव और सिद्धार्थ कर रहे हैं, जिन्हें स्वास्थ्य सेवा उद्योग का पूर्व अनुभव है। सिद्धार्थ ने पैनासोनिक में बिजनेस हेड हेल्थकेयर के रूप में काम किया, जबकि संजीव एक हेल्थकेयर एंटरप्रेन्योर रहे हैं, जिनकी VDOC से पहले निर्माया पैथलैब्स नाम की एक कंपनी थी।


उन्होंने निर्माया से मिले अनुभव का उपयोग करते हुए पैथोलॉजी पर प्रारंभिक ध्यान देने के साथ स्वास्थ्य सेवा इकोसिस्टम में प्रवेश किया। वर्षों के शोध और आधारभूत कार्य के बाद उन्होंने VDOC लॉन्च किया।

vdoc

हासिल हुई फंडिंग

ऑटोमोबाइल उद्योग के दिग्गज से मिली नई पूंजी के बारे में बात करते हुए संजीव कहते हैं, ''विनोद स्वास्थ्य देखभाल और विशेष रूप से प्राथमिक स्वास्थ्य देखभाल के बारे में बहुत भावुक हैं।”


साल 2021 में रॉयल एनफील्ड से हटने के बाद विनोद सस्ती और सुलभ स्वास्थ्य सुविधाओं के निर्माण की दिशा में काम कर रहे हैं। हाल ही में, उन्होंने चेन्नई में एक गैर-लाभकारी स्वास्थ्य सेवा उद्यम की स्थापना की।


संजीव कहते हैं, "स्वास्थ्य सेवा को आगे बढ़ाने के उनके जुनून को जानते हुए, हम उनसे मिले और अपनी क्षमताओं का प्रदर्शन किया। हमारे पास जो कुछ था उसमें उनकी दिलचस्पी थी।"


संजीव आगे कहते हैं, “यह हमारे लिए भी एक बोनस था क्योंकि उन्होंने हाल ही में चेन्नई में एक अस्पताल की स्थापना की थी और चेन्नई और चेन्नई के बाहरी इलाके में 200 किलोमीटर के दायरे में अस्पताल के लिए सैटेलाइट क्लीनिक स्थापित करने की योजना बना रहे हैं। यहीं पर तालमेल मिला, विनोद की मदद से अब हम इन्हें लक्षित कर सकते हैं।”


इस राउंड में में अन्य निवेशक राजेन महापात्रा थे, जो देश की सुप्रीम कोर्ट में प्रैक्टिस कर रहे वकील हैं।

टेलीमेडिसिन बाजार में मौके

टेलीमेडिसिन स्पेस में फिलहाल VDOC प्रैक्टो, मेडीबड्डी और mFine जैसी कंपनियों के साथ प्रतिस्पर्धा करता है। भारतीय टेलीमेडिसिन बाजार वित्त वर्ष 2012 में 1314.83 मिलियन डॉलर का था और इंडिया टेलीमेडिसिन मार्केट रिपोर्ट 2021 के अनुसार अब इसके लगभग 22.31 प्रतिशत की सीएजीआर से बढ़ने की उम्मीद है।


रिपोर्ट में कहा गया है कि इसके अतिरिक्त स्वास्थ्य पेशेवरों और चिकित्सकों की कमी के साथ देश में पुरानी और संक्रामक बीमारियों के बढ़ते प्रसार से वित्त वर्ष 2027 तक बाजार की वृद्धि का समर्थन करने की उम्मीद है। सरकार द्वारा उठाए गए कदमों जैसे राष्ट्रीय टेलीमेडिसिन सेवा ई-संजीवनी ने भी इस क्षेत्र को पूरी तरह से तेज़ कर दिया है।


संजीव संकेत देते हुए कहते हैं, “मार्च 2020 में केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय और NITI Aayog द्वारा संयुक्त रूप से जारी किए गए टेलीमेडिसिन अभ्यास दिशानिर्देशों ने इस स्थान में एक अधिक संरचित और संगठित आंदोलन को जोड़ा है। हम प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों को VDOC समाधानों के साथ बहु-विशिष्ट क्लीनिकों में अपडेट और अपग्रेड करने के लिए कई राज्य सरकारों के साथ बातचीत कर रहे हैं।”


Edited by Ranjana Tripathi