बड़ी खबर: दिल्ली में 31 जुलाई तक मामले साढ़े पांच लाख होने संभव, सामुदायिक स्तर पर फैल रहा है कोविड-19

By भाषा पीटीआई
June 10, 2020, Updated on : Wed Jun 10 2020 12:01:30 GMT+0000
बड़ी खबर: दिल्ली में 31 जुलाई तक मामले साढ़े पांच लाख होने संभव, सामुदायिक स्तर पर फैल रहा है कोविड-19
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
  • +0
    Clap Icon
Share on
close
Share on
close

नयी दिल्ली, नौ जून (भाषा) कोविड-19 पर गणितीय मॉडलों के अनुमान को मानें तो दिल्ली में जुलाई के अंत तक साढ़े पांच (5.5) लाख लोगों के कोरोना वायरस से संक्रमित होना संभव है। इस बात की पुष्टि कई वैज्ञानिकों ने मंगलवार को करते हुए कहा कि इस संक्रमण का समुदाय के स्तर पर प्रसार कुछ समय पहले ही शुरू हो चुका है।


फोटो साभार

सांकेतिक चित्र (फोटो साभार: ShutterStock)


भविष्य में और परेशानियों के लिए चेतावनी देते हुए उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा कि मंगलवार को दिल्ली में कोविड-19 के करीब 30,000 मामले हैं जो 31 जुलाई तक बढ़कर साढ़े पांच लाख हो सकते हैं। आज देश में कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या 2,66,000 से ज्यादा हो गई।


शिव नाडर विश्वविद्यालय में गणित के प्रोफेसर और स्कूल ऑफ नेचुरल साइंसेज में अनुसंधानकर्ता समित भट्टाचार्य ने कहा,

‘‘भारत के संदर्भ में मैंने जिस मॉडल का उपयोग किया, उसके अनुसार, जुलाई के मध्य या अंत तक आठ से दस लाख लोग कोरोना वायरस से संक्रमित होंगे। ऐसे में दिल्ली में साढ़े पांच लाख लोगों का संक्रमित होना आश्चर्यजनक नहीं होगा।’’

उन्होंने ‘पीटीआई-भाषा’ से कहा,

‘‘दिल्ली में जुलाई के अंत तक संख्या साढ़े पांच लाख तक पहुंचना संभव है क्योंकि मामले लगातार बढ़ रहे हैं।’’

वायरस विशेषज्ञ उपासना रे का कहना है कि सिर्फ महामारी विशेषज्ञ और सांख्यिकी विशेषज्ञ ही संख्या को लेकर सही-सही अनुमान लगा सकते हैं।


सीएसआईसी-आईआईसी, कोलकाता में वरिष्ठ वैज्ञानिक रे ने कहा,

‘‘मेरा मानना है, अगर सरकार कुछ कह रही है तो उसका कोई तो आधार होगा।’’


पंजाब स्थित लवली प्रोफेशनल विश्वविद्यालय में साइंस एंड टेक्नोलॉजी के एक्जीक्यूटिव डीन लोवी राज गुप्ता इस बात से इत्तेफाक रखते हैं कि गणित मॉडल से गणना की जाए तो साढ़े पांच लाख का आंकड़ा संभव है।


गुप्ता ने ‘पीटीआई-भाषा’ से कहा कि अनुमान कितना सही है, यह मॉडल के चयन और आंकड़ों में विविधता पर निर्भर करेगा।



Edited by रविकांत पारीक